एक चिठ्ठा गूगल को चुनौती के लिए चाहिए


बिजनेस वीक में Is Google Too Powerful? के नाम से बड़ा रोचक लेख है। मैं तर्जुमा करने की स्थिति में अभी नहीं हूं। सो कृपया आप सीधा सोर्स से पढें।

लेख का मतलब यह है कि गूगल्जान (Google+Amazon) 2014 तक इतना पावरफुल हो जाएगा कि दुनिया के आनलाइन नालेज बैंक (फुटकर लोगों की खबर, मनोरंजन, ब्लोग आदि) के इपिक (Evolving Personalized Information Construct) संस्करण से हर एक को मन माफिक माल परोस कर पारम्परिक मीडिया को चौपट कर देगा।

अब यह भी कोई बात हुई – अमेरिकी जाएंट सबको सरपोट जाये? एक चिठ्ठा गूगल को चुनौती के लिए जरूर चाहिए।

बिजनेस वीक पर पोस्ट किये दो रियेक्शन पढें:


Nickname:
Juhi
Review: They must allow readers to PULL content by letting them participate in content choice, generatiFor newspapers/mags to compete with Google, editors must stop unilaterally deciding what readers should read and PUSHING content to them.on, feedback etc.
Date reviewed: Apr 4, 2007 8:05 AM

Nickname:
journalism junkie
Review: The catch is that nearly all professional news collecting and reporting rests on an advertising model, even NPRs sponsor announcements are ads. Google takes the ad revenue away that supports journalism. What happens to democracy when there’s no one around to file FOI requests or check out what’s happening at Walter Reed Hospital? We should all worry about this.
Date reviewed: Apr 4, 2007 1:14 AM

Advertisements