ब्लॉगर – अब फीडबर्नर की फीड दिया करेगा


ब्लॉगर (Blogger/Blogspot) के चिठेरे ध्यान दें!
फीडबर्नर को गूगल ने खरीद लिया है. ब्लॉगर पहले ही गूगल के पास है. अत: ब्लॉगर फीडबर्नर की फीड उन सभी स्थानों को देगा जहां आपके ब्लॉग की ब्लॉगर फीड जाती है.
अब ब्लॉगर की सेटिंग में यह सुविधा उपलब्ध हो गयी है. अगर आपने पहले ही फीडबर्नर की फीड बर्न कर रखी है तो blogger.com के अपने एकाउण्ट में Settings> Site Feed> Post Feed Redirect URL पर जा कर अपना फीडबर्नर URL पेस्ट कर सेट कर दें.
इससे आपकी सभी फीड फीडबर्नर की हो जायेंगी.
इसके लाभ होंगे:

  • नारद पर Blogspot के आपके ब्लॉग के शीर्षक के साथ आपके द्वारा सेट की गयी 200-300 केरेक्टर की फीड भी दिख सकेगी [@] जो अभी WordPress या इण्डिपेण्डेण्ट डोमेन के साथ होता है.
  • आप फीडबर्नर एकाउण्ट में अपनी सभी फीड यातायात के आंकड़े देख सकेंगे.

पर आपने फीडबर्नर एकाउण्ट में अपने ब्लॉग की फीड बर्न कर रखी है या नहीं? अगर नहीं, तो पहला काम feedburner.com पर जा कर वह करने का करें!


@ – यह मेरा तार्किक निष्कर्ष है. बेहतर होगा कि नारदीय टीम इसे पुष्ट करे.


गूगल रीडर बनाम फीड-एग्रेगेटर – कुछ मुक्त विचार


फीड एग्रेगेटर की आवश्यकता होती है विभिन्न साइट्स से निरंतर बदल रही सामग्री को एक स्थान पर एकत्रित करने की. हिन्दी एग्रेगेटर एक दिन में लगभग 100-125 अपडेटेड फीड दिखाता है. इतनी अपडेटेड फीड दिखाने के लिये तो गूगल रीडर ही सक्षम है. हां अगर पब्लिश बटन दबाते ही पोस्ट जग जाहिर होने की तलब हो और आप स्टैटकाउण्टर देखते हुये अपनी पोस्ट और रीडरशिप को बतौर चैट की एकाग्रता से मॉनीटर करने लगते हों, तो मामला अलग हो जाता है. गूगल रीडर तो अपडेट दिखाने में 7-8 घंटे तक की देरी कर देता है.

कुल मिला कर हिन्दी के हैं 600-700 ब्लॉग. सौ के आसपास सक्रिय. उसमें भी कई बाड़मेर पुलीस टाइप ब्लॉग. फिर आप मुहल्ले में रहते हैं तो शिव जी के त्रिशूल छाप ब्लॉग से क्या लेना-देना. अत: सौ में से आपकी प्रवृत्ति के बचे अधिकाधिक 50-60. उसके अलावा अगर आप को ठीक-ठाक लिखना है तो नेट पर और भी पढ़ना होगा. आपके बुकमार्क में 25-30 एक्टिव साइट्स और होंगी. मोटे तौर पार देखें तो आपको दिन भर में लगभग 100 साइट्स के अपडेट फीड्स पर नजर घुमानी है. आपके पास अगर पढ़ने की साउण्ड स्ट्रेटेजी नहीं है तो मर्कट की तरह उछल कूद करते रहें एक शाख (एग्रेगेटर या साइट) से दूसरी पर. पहले एक शाख थी फीड एग्रेगेटर की, अब ढ़ेरों हैं. कल एक नया/सम्मोहक/ऊर्जावान एग्रीगेटर और आ गया है – ब्लॉगवाणी. और लोग भी शायद अपना लॉंच पैड चमका रहे हैं अपने फीड-एग्रेगेटर लॉंच करने को.

गूगल सर्च इंजन आपको हिन्दी विषयक सर्च भी ठीक-ठीक ही दे रहा है. वह किसी विषय पर जानकारी चाहिये तो हिन्दी में आपको लगभग सभी उपलब्ध सामग्री के लिंक सुझा देगा. ब्लॉग सर्च भी हिन्दी में बुरी जानकारी नहीं देता. सर्च की टूलबार तो आपके कम्प्यूटर में होगी ही जिसका आप घिस कर प्रयोग करते हों. ब्लॉगरोल का विभिन्न प्रकार से प्रयोग किया जाता है.

पर असली मजा है गूगल रीडर में. पहले मैं आरएसएस फीड ऑफ-लाइन देखने के लिये मोजिल्ला थण्डरबर्ड काम में लेता था. जब ब्रॉड-बैंड की सहूलियत मिल गयी तो धीरे-धीरे गूगल रीडर पर हाथ अजमाना प्रारम्भ किया. अपने काम के 40-50 ब्लॉग, 5-10 अखबार/न्यूज सेवायें और उतनी ही पत्रिकाओं के लिंक गूगल रीडर में जमा कर लिये हैं. अपने ब्लॉग पर कौन कंटिया फंसा रहा है उसका सर्च भी जमा कर रखा है. फिर सवेरे-दोपहर-शाम; जब मन करे खोल कर अपने न पढ़े गये लिंक चेक कर लेता हूं. मन हो तो वहीं पर पूरा लेख पढ़ भी लेता हूं – ज्यादातर लोग पूरी फीड देते हैं. कमेण्ट करने के लिये वहीं से साइट पर जा कर कमेण्ट भी कर आता हूं. दिन में एकआध बार, जब इच्छा हो(अभी फ्रीक्वेंसी ज्यादा है, पर उसे कम करने का इरादा है), किसी फीड एग्रेगेटर पर हो आता हूं जिससे हिन्दी जगत की रह-चह मिलती रहे.

गूगल रीडर या उस तरह के फीड रीडर के होते फीड-एग्रेगेटरों की (फीड की नहीं) बौछार सतत झेलने की जरूरत है क्या?

मित्रों, अपना समय प्रबन्धन सुधारने की बहुत जरूरत महसूस हो रही है. ब्लॉगों की केकोफोनी अब फीड एग्रेगेटरों की केकोफोनी में बदल रही है. हर एक अपने-अपने फार्मूले से इस या उस ब्लॉगर को बेहतर दिखा रहा है. ब्लॉगर जबरी तनावग्रस्त हो सकते हैं समझ नहीं आता कि किस तरह से इण्टरनेट सर्फिंग मैनेज किया जाये. इस बेसुरेपन से निकलने की जरूरत है. एक बार आप यह तय कर लें कि आप ब्लॉगरी में बेहतर लेखन के लिये हैं, अपने लेखन के अधिकाधिक ग्राहक तलाशने के लिये हैं या प्रतिस्पर्धा के लिये. उसी के अनुसार अपना रास्ता चुनना आसान हो सकता है.

फीड एग्रेगेटर चौपाल या अड्डा है. यहां आपकी सामाजिक जरूरतें पूरी हो सकती हैं (?!). (और वे सामाजिक जरूरतें भी क्या जो जूतमपैजार को बढ़ावा दें!) पर अगर पठनीय सामग्री के कैप्स्यूल की तलाश है, तो गूगल रीडर या इसी प्रकार के अन्य यंत्र का फायदा क्यों न उठाया जाये?

गूगल रीडर और फीड एग्रेगेटर को आप सिनेमा हॉल और घर के होम थियेटर की तुलना से समझ सकते हैं. गूगल रीडर आपका पर्सनल फीड एग्रेगेटर है. जैसे जब आपने अपना टीवी खरीदा था तो सिनेमा हॉल जाने की वृत्ति कम हो गयी थी. फिर वीसीआर/डीवीडी प्लेयर ने उस वृत्ति को और भी कम कर दिया. उसी प्रकार गूगल रीडर से फीड एग्रेगेटर की जरूरत भी कम हो जायेगी. हर एक के पास जब अपना समेटक हो तो सहकारी समेटक पर कौन जाये?

मै यह जानता हूं कि जब मैं यह लिख रहा हूं, तो मैं अंतिम निष्कर्ष पर नहीं पंहुचा हूं. प्रयोगात्मक अवस्था है यह. अत: अंतत: किस तरह से अपना फीड/समय प्रबन्धन करूंगा, वह आने वाले महीनों में तय होगा. पर इतना जरूर लगता है, फीड रीडर की बेहतरी के साथ, फीड एग्रेगेटर की भूमिका, उत्तरोत्तर कम होती जायेगी.@ अभी भी 20% से अधिक यातायात मेरे ब्लॉग पर इन फीड एग्रेगेटरों से इतर सोर्सेज से आता है. हां फीड एग्रेगेटर अपना स्वरूप बदल लें तो बात कुछ और होगी. पर तब फीड एग्रेगेटर, फीड एग्रेगेटर नहीं रह जायेंगे.

एक बहस फीड एग्रेगेटरों के वर्तमान और भविष्य के रोल पर होनी चाहिये.


@ – शायद एक बिल्कुल नये ब्लॉगर के लिये फीड एग्रेगेटर की भूमिका सशक्त बनी रहेगी. पर वह भी फीड रीडिंग प्रबन्धन फीड रीडर के माध्यम से कर सकता है. फीड एग्रेगेटर एक पारिवारिक सपोर्ट की तरह है जिसे व्यक्ति अपनी ब्लॉगरी की शैशवावस्था और किशोरावस्था तक इस्तेमाल करता हो. इस बारे में अलग विचार हो सकते हैं; और मेरे विचार भी अंतिम रूप में फर्म-अप नहीं हैं. यह मुद्दा तो विचारार्थ उठाया जा रहा है.