पवनसुत स्टेशनरी मार्ट



पवनसुत स्टेशनरी मार्ट एक गुमटी है जो मेरे घर से 100 कदम की दूरी पर है. इसमें पानमसाला, सिगरेट, गुटका, च्यूइंगम का भदेस संस्करण, चाय, रोजगार के पुराने अंक (और थोड़ी कॉपियां-कलम) बिकते हैं. गुमटी के साइड में कुछ बैंचें लगी हैं, जिनपर कुछ परमानेण्ट टाइप के बन्दे जिन्हे भद्र भाषा में निठल्ले कहा जाता है, विराजमान रह कर तोड़ने का सतत प्रयास करते हैं.

इस स्टेशनरी मार्ट का प्रोप्राइटर पवन यादव नामका हनुमान भक्त है. गुमटी पर जो साइनबोर्ड लगा है, उसपर एक ओर तो गदाधारी हनुमान हैं जो तिरछे निहार रहे हैं. जिस दिशा में वे निहार रहे हैं, उसमें एक दूसरी फोटो क्षीण वसना लेटेस्ट ब्राण्ड की हीरोइन (अफीम वाली नहीं, रिमिक्स गाने वाली) की फोटो है जो हनुमान जी को पूर्ण प्रशंसाभाव से देख रही है. ये फोटुयें ही नहीं; पूरा पवनसुत स्टेशनरी मार्ट अपने आप में उत्कृष्ट प्रकार का कोलाज नजर आता है.

पवन यादव शिवकुटी मन्दिर के आसपास के इलाके का न्यूज एग्रीगेटर है. उसकी दुकान पर हर 15 मिनट में न्यूज अपडेट हो जाती है. मैं जब भरतलाल (मेरा बंगला-चपरासी) से ताजा खबर पूछता हूं तो वह या तो खबर बयान करता है या कहता है कि आज पवनसुत पर नहीं जा पाया था. यह वैसे ही है कि किसी दिन इण्टरनेट कनेक्शन डाउन होने पर हम हिन्दी ब्लॉग फीड एग्रीगेटर न देख पायें!

पवन यादव ने दुकान का नाम पवनसुत स्टेशनरी मार्ट क्यों रखा जबकि वह ज्यादा तर बाकी चीजें बेचता है. और मैने किसी को उसकी दुकान से पेन या नोटबुक खरीदते नहीं देखा. बिकने वाला Hello (Cello ब्राण्ड का लोकल कॉपी) बाल प्वॉइण्ट पेन कौन लेना चाहेगा! पवन यादव से पूछने पर उसने कुछ नहीं बताया. यही कहा कि दुकान तो उसकी किताब(?) कॉपी की है. पर अपने प्रश्न को विभिन्न दिशाओं में गुंजायमान करने पर उत्तर मिला पवन यादव शादी के लायक है. अगर यह बताया जायेगा कि वह गुटका-सिगरेट की दुकान करता है तो इम्प्रेशन अच्छा नहीं पड़ेगा. शायद दहेज भी कम मिले. लिहाजा स्टेशनरी मार्ट चलाना मजबूरी है भले ही कमाई गुटका-सिगरेट से होती हो.

पवनसुत स्टेशनरी मार्ट पूर्वांचल की अप-संस्कृति का पुख्ता नमूना है. यहां सरकारी नौकरी- भले ही आदमी को निठल्ला बनाती हो बहुत पसन्द की जाती है. अगर दुकान भी है तो पढ़ने लिखने की सामग्री की दुकान की ज्यादा इज्जत है बनिस्पत चाय-गुटखा-सिग्रेट की दुकान के. लिहाजा पवन यादव सम्यक मार्ग अपना रहा है. दुकान का नाम स्टेशनरी मार्ट रख रहा है जिससे इज्जत मिले, पर बेच चाय-गुटका-सिगरेट रहा है जिससे गुजारा हो सके!

बाकी तारनहार पवनसुत हनुमान तो हैं ही!


Advertisements

लिखना कितना असहज है!



ब्लॉग लेखन कितना असहज है. लेखन, सम्पादन और तत्पश्चात टिप्पणी (या उसका अभाव) झेलन सरल जीवन के खिलाफ़ कृत्य हैं. आपका पता नहीं, मैं तनाव महसूस करता हूं. विशेषकर चिकाई लेखन (इस शब्द को मैने शब्दकोष और समान्तर कोश में तलाशने का प्रयास किया, असफ़लता हाथ लगी. अत: अनुमान के आधार पर इसका प्रयोग कर रहा हूं. जीतेन्द्रसे अनुरोध है कि सरल हिन्दी में इसका शब्दार्थ और भावार्थ स्पष्ट करें) तो तनाव उत्पन्न करता है. पर आप साथ-साथ वर्चुअल (ब्लॉग) जगत में रह रहे हैं तो परस्पर हास-परिहास के बिना क्या रोज रोज भग्वद्गीता पर टीका लिख कर ब्लॉग चला लेंगे?

लेकिन लोग उनपर की गयी टीका-टिप्पणी पर असहज हैं. अथवा उत्तरोत्तर असहजतर होते जा रहे हैं. लोगों में मैं भी शामिल हूं. मैं असहज होने पर आस्था चैनल चलाने का प्रयास करता हूं. उससे लोगों की अण्डरस्टैण्डिंग तो नहीं मिलती; थोड़ी सहानुभूति शायद मिल जाती हो! और लोग कच्छप वृत्ति से काम लेते होंगे. कुछ लोग शायद ब्लॉग बन्द करने की कहते हों. कुछ अन्य टेम्पररी हाइबरनेशन में चले जाते हों. पर कोई सही-साट समाधान नजर नहीं आता. आप गालिब की तरह “बाजार से गुजरा हूं खरीदार नहीं हूं” का अध्यात्मवाद ले कर नहीं चल सकते. राग-द्वेष आपका पीछा नहीं छोड़ेंगे. आप “नलिनी दलगत जल मति तरलम…” वाला शंकराचर्य वाला मोहमुद्गर श्लोक नहीं गा सकते अपने मन में या टिप्पणियों में.

समीर लाल न जाने कैसे इतनी टिप्पणियां कर ले जाते हैं. ब्लॉग पोस्ट लिखने में जितना आत्मसंशय होता है, उतना ही टिप्पणी लेखन संशय भी है. कल ही कम से कम ६ टिप्पणियां पूरी तरह लिख कर मैने पब्लिश बटन न दबाने का निश्चय (या अनिश्चय?) किया है. अब लोगों को कैसे यकीन दिलाया जाये कि आपके ब्लॉग पर टिप्पणी का भरसक यत्न किया है, पर आपकी प्रतिक्रिया के प्रति अनाश्वस्तता के कारण पैर (या कलम या की बोर्ड के बटन) रोक लिये हैं. कुल मिला कर लगता है – यह अधिक दिन नहीं चल सकता. अपने नाम से एक ब्लॉग चलाना और अपनी पूरी आइडेण्टिटी के साथ नेट पर अपने विचारों को रखना शीशे के घर में रहने जैसा है.

आगे देखें क्या होता है?!