आप iGoogle या Google Reader में जोड़ें यह ब्लॉग


आपमें से अनेक iGoogle या Google Reader के माध्यम से अपनी फीड या अन्य सामग्री इण्टरनेट पर व्यवस्थित करते हैं। इस विषय में मैने अपने ब्लॉग फीड को गूगल गैजेट के रूप में बांये बाजू की पट्टी (»») पर उपलब्ध करा दिया है। आप उस बटन को क्लिक कर ब्लॉग फीड को iGoogle (अपने होमपेज) पर गैजेट के रूप में अथवा Google Reader में फीड के रूप में जोड़ सकते हैं।

Google Feed
Google Feed1

यह iGoogle के आपके होमपेज में एक खिड़की के रूप में स्थापित हो जायेगा और आप फीड में पोस्टों की संख्या सेट कर सकते हैं। पोस्ट के दांये + चिन्ह पर क्लिक कर वहीं आप पूरी पोस्ट देख सकते हैं।

iGoogle
यह जुगाड़ मुझे शुचि ग्रोवर जी के ब्लॉग से मिला। आप जरा उनकी यह पोस्ट देखें जो उन्होने मेरा ब्लॉग देख कर लिखी है। शुचि जी इलाहाबाद के लोकभारती के श्री दिनेश ग्रोवर जी की सुपुत्री हैं।

यह न लगे कि पोस्ट पूर्णत: तकनीकी है, आप मानव चरित्र पर उर्वशी से यह पढ़ें:

नर का भूषण विजय नहीं केवल चरित्र उज्ज्वल है।
कहती हैं नीतियां, जिसे भी विजयी समझ रहे हो,
नापो उसे प्रथम उन सारे प्रकट, गुप्त यत्नों से,
विजय प्राप्ति क्रम में उसने जिनका उपयोग किया है।


Advertisements

9 Replies to “आप iGoogle या Google Reader में जोड़ें यह ब्लॉग”

  1. सर जी हम तो पहले ही आपको एड कर रखे हैं..वैसे जहाँ से आपने सिखा वहां से हमने भी ज्ञान प्राप्त कर लिया.. 🙂

    Like

  2. गूगल रीडर या फ़िर किसी भी फीड से अपना ब्लॉग पढ़वाने में किसी लेखक की पाठक संख्या भले ही बढ़ जाए – मगर कुछ नुकसान भी हैं. यदि लोग रीडर पर ही आपका ब्लॉग पढ़ लें तो आपके ब्लॉग के पन्ने पर आएगा कौन? और विज्ञापनों पर क्लिक कौन करेगा? वैसे इसके २ उपाय हैं -१. आप अपने ब्लॉग की सेटिंग्स में जाकर ब्लॉग फीड को “Short” कर सकते हैं जो पाठकों को आपके चिठ्ठे के पन्ने पर खींच लाएगा. २. यदि आप ब्लॉग फीड को “Full” ही रखना चाहते हैं तो सेटिंग्स में ही “Post Feed Footer” में अपने विज्ञापन चेप सकते हैं.सौरभ

    Like

  3. जय हो महाराजएक साथ गैजट गुरु और आस्था चैनल का आनंद है।भारी फ्यूजन है। जमाये रहिये जी।

    Like

  4. धन्यवाद ज्ञानदत्त पाण्डेय जी आप का,इस ग्यान का, एक ग्यान मुझे ओर दे, मेरे से आप के नाम का पहला अक्षर यानि *ज्ञ*शव्द नही लिखा जाता ओर समीर जी ने कहा था की j~j लिखने ने यह शव्द बन जाता हे , लेकिन मे काम्याब नही हुया, आप कुछ रोशानी डालने की मेहर बानी करे गे.

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s