पोरस का राजोचित आत्मविश्वास


बहुत बार पढ़ा है कि हारने के बाद पोरस को सिकन्दर के सामने जंजीरों में जकड़ कर प्रस्तुत किया गया। उस समय सिकन्दर ने प्रश्न किया कि तुम्हारे साथ कैसा व्यवहार किया जाये? और पोरस ने निर्भीकता से उत्तर दिया – “वैसा ही, जैसा एक राजा दूसरे राजा के साथ करता है।” यह नेतृत्व की निर्भीक पराकाष्ठा है। अच्छे नेतृत्व में इसके दर्शन होते हैं।

मुझे कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी जी की पुस्तक “कृष्णावतार” का एक प्रसंग याद है। पांचाली का स्वयंवर होने जा रहा है। कृष्ण जानते हैं कि पाण्डव अज्ञातवास के अन्तिम चरण में वहां आ चुके हैं। उनका वचन है कि द्रौपदी का विवाह अर्जुन से हो। उसके लिये जरासंध को किनारे करना आवश्यक है। आधी रात बीत चुकी है। जरासंध को सोते से जगा कर उसे बताना है कि वह वापस लौट जाये। निर्भीक कृष्ण निहत्थे जरासंध के खेमें में पंहुचते हैं। जरासंध को नींद से उठाया जाता है। वह कृष्ण से वैसे की खार खाये है। उनका वध करने को अपनी गदा की मूठ पर हाथ रखता है जरासंध। और कृष्ण पूरी शान्ति और निर्भीकता से कहते हैं कि यह स्वयंवर का समय है। अगर जरासंध उनकी हत्या करता है तो स्वयंवर का नियम भंग होगा और आर्यवर्त के सभी राजा कर्तव्य से बंधे होंगे कि वे स्वयंवर भंग करने वाले जरासंध का वध कर दें। जरासंध किचकिचा कर रह जाता है – कृष्ण का बालबांका नहीं कर पाता। कृष्ण के राजोचित आत्मविश्वास का यह प्रसंग मुझे अद्भुत लगता है।

यह अवश्य है कि सफल नेता होने के लिये हममें यह राजोचित आत्मविश्वास होना चाहिये और यदि नहीं है तो उसको विकसित करने का सतत प्रयास करना चाहिये।

मैं इस राजोचित आत्मविश्वास का एक और उदाहरण देता हूं।

हेल सिलासी इथियोपिया के १९३० से चार दशक तक सम्राट रहे। वे राजवंश में थे पर उनका राजा बनना तय न था। लिज तराफी नामक इस नौजवान ने ऐसा जबरदस्त राजोचित आत्मविश्वास दिखाया कि सम्राट मेनेलिक द्वितीय का विश्वासपात्र बन बैठा।  

जब सिंहासन के बाकी दावेदार बड़बोले, ईर्ष्यावान और षडयंत्रकारी थे; लिज तराफी शान्त, धैर्य और आत्मनिश्चय से परिपूर्ण रहता था। बाकी दावेदार इस पतले नौजवान को धकियाने का यत्न करते थे पर यह संयत बना रहता था। वह ऐसे दिखाता था जैसे उसे अन्तत: सम्राट बनना ही है। और धीरे धीरे अन्य कई भी ऐसा सोचने लगे।  

सन १९३६ में इटली ने इथियोपिया पर अधिकार कर लिया था। तराफी (तब हेल सिलासी) देश निकाला झेल रहे थे। उस समय उन्हे लीग ऑफ नेशन्स को अपने देश की आजादी के लिये सम्बोधित करने का अवसर मिला। इतालवी श्रोताओं नें खूब शोर शराबा किया और उन्हे अश्लील गालियां भी दीं। पर हेल सिलासी ने अपना संयम नहीं खोया। अपनी बात पूरी तरह से कही। हेल सिलासी के राजोचित आत्मविश्वास से उनके विरोधी और भी बौने और भद्दे लगे। उनका कद और बढ़ गया।  

यह होता है राजोचित आत्मविश्वास! 
 (विकीपेडिया पर हेल सिलासी देखें।)


ई-स्वामी की टिप्पणी में तो जान है! आप सहमत हों या न हों, आप अनदेखा नहीं कर सकते।
(आज मेरा स्वास्थ्य ठीक नहीं है, अत: टिप्पणियां मॉडरेशन में देरी सम्भव है। कृपया क्षमा करें।)


Advertisements

21 thoughts on “पोरस का राजोचित आत्मविश्वास

  1. अब वो आत्मविश्वास नाम की चिडिया थोथे वन में पाई जाती है, विश्वास न हो तो आत्मविश्वास से भरे हुए नेतानुमा सिंह, भालू, चील, और कौओं से पूछिए जो ईसी थोथे वन के प्राणी हैं 🙂

    Like

  2. हम किसी इन्सान के बडप्पन को , दरियादिली और शालीनता व धैर्य और बहादुरी और अन्य कयी ऐसे गुणोँ को देखकर कहते हैँ” ये तो राजा आदमी है ” या ” She is ever inch a QUEEN !पोरस,श्री कृष्ण और हेल सिलासी के उदाहरण भी यही बता रहे हैँ आपकी पोस्ट द्वारा ~ – लावण्या

    Like

  3. ज्ञानजी,सेहत का ख्याल रखिये | बाजार में खूब आम आ रहे होंगे, आनंद लीजिये और आराम कीजिये | पिछले कुछ समय से टिपियाना थोड़ा कम हो गया है और लिखना उससे भी कम | लेकिन तेल का दाम १५० डालर प्रति बैरल तक आने वाला है, एक और लेख का समय आ गया है जिसमे अबकी बार स्पेकुलेटर और ट्रेडर्स के बारे में लिखने का ख्याल है | हिन्दी ब्लॉग जगत में बहुत लोग ग़लत सलत लिख रहे हैं तेल के बारे में 🙂

    Like

  4. भईया आत्मविश्वास दिखाईये और ये कहना छोडिये की आप बीमार हैं कहिये की आज आराम का मन हो रहा है…भाभी भी घर पे नहीं हैं ओवन भी घर पर नहीं है…कैसे स्वास्थ्यवर्धक भोजन का जुगाड़ कर पाएंगे आप? मुझे चिंता हो रही है लेकिन आप की पोस्ट पढ़ के आत्म विश्वास भी है की जल्द ही पेट और पोस्ट का उचित प्रबंध कर लेंगे आप.नीरज

    Like

  5. उन मोहन के सामने जरासंध स्पष्ट शत्रु था मगर वर्तमान राजनीति में तो पुराने दुश्मनों की बैसाखी पर ही अपने मोहन टिके हैं. कैसे राजोचित आत्मविश्वास दिखाएँ? वैसे मौका तो है कुछ कर दिखाने का.———————————————————-आपके ब्लॉग पर लगे नए टिप्पणी बक्से से एक बार ऑपेरा से सफलतापूर्वक टिपिया चुके हैं मगर आज ड्राप डाउन लिस्ट के ऑप्शन फिर से गायब हैं. क्या झमेला है?आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना के साथ.

    Like

  6. सबसे पहले तो आप सेहत का ख्याल रखिए.. जल्दी स्वस्थ हो जाइए.. इस बार की पोस्ट व्काई बढ़िया रही.. एक ही पोस्ट में तीन शानदार चरित्र दिखा दिए आपने.. बहुत बधाई

    Like

  7. संयम ही जीवन का सूत्र है। बकवास का जवाब बकवास देने में लगे, तो लाइफ वेस्ट हो जायेगी। काम बोलें, तो बेहतर। दूर दूर की निकाल के ला रहे हैं आप। जमाये रहिये। कभी कभार स्वास्थ्य खराब होना चाहिए, ताकि आलमारी में रखी कुछ किताबें पढ़ ली जायें।

    Like

  8. एक ऐसा पायलट जिसने अपनी दोनों टाँगे खोकर नकली टांगो से fighter प्लेन उडाया ,मेरा सर्जन दोस्त जिसने अपना अंगूठा ओर सीधे हाथ की अंगुलिया ओर एक पाँव खोकर ..वापस दूसरी ब्रांच में पी जी करके एक कामयाबी की बुनियाद लिखी….ब्लॉग जगत के पंगेबाज अरुण …..ओर कंचन …जिन्होंने मुश्किल दौर से गुजर कर भी अपनी पहचान बनायी ….ये है आत्मविश्वास..एक आम इन्सान का आत्म्विशास

    Like

  9. अरे, दुश्मनों की तबीयत नासाज हो गयी ,रोग निरोधी क्षमता को ज़रा आत्मबल से ऊंचा कीजिये ..फिर हमारी शुभकामनाएं भी हैं !

    Like

  10. गुरुदेव, रात के १०:३० बजे की टिप्पणी का ‘मॉडरेशन’ ( डॉ.दिनेश राय द्विवेदी जी हिन्दी सुझाएं- सुधारात्मक संशोधन? ) आप सबेरे ही कर पाएंगे, और त्बतक आपकी नयी पोस्ट भी आ चुकी होगी लेकिन फिर भी आपकी पक्की धुन को सलाम किए बगैर मैं भी सो नहीं सकता। आशा है आप सुबह तक भले-चंगे हो जाएंगे, और एक अच्छी पोस्ट पढ़ने को मिल जाएगी।

    Like

  11. शीघ्र स्वास्थय लाभ की मंगल कामना. मैं भी इसी दौर से गुजर रहा हूँ.सादरसमीर लाल

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s