होमवर्क की आउटसोर्सिंग!


homework_red_1 बच्चों का होमवर्क मम्मियां करती हैं – प्राइमरी कक्षाओं तक। पर यह तो गजब है – आस्ट्रेलिया के कम्प्यूटर साइंस के विद्यार्थी अपना होमवर्क भारत के प्रोग्रामर्स को आउटसोर्स कर दे रहे हैं! और १०० आस्ट्रेलियायी डालर्स में उनका काम पक्का कर उन्हे मिल जा रहा है। बाकायदा रेण्ट-अ-कोडर पर निविदा निकलती है। कोडर अपनी बोली भरते हैं और भारतीय अपनी बोली कम होने के आधार पर बाजी मारते हैं।
भैया हमारे जैसे “जीरो बटा सन्नाटा” कितने समय में प्रोग्रामिंग सीख कर यह निविदा भरने लायक बन सकते हैं? अपने बच्चे का होमवर्क तो करा/कराया नहीं कभी, इन आस्ट्रेलियायी विश्वविद्यालय जाने वाले बच्चों का भला करने लायक बन जायें! homework 
यह खबर पीटीआई की है – मेलबर्न/सिडनी से। पर जब मैने नेट पर सर्च किया तो पाया कि अमेरिका में यह पवित्र कार्य दो साल पहले भी हो रहा था!
अब कौन तेज है – अमरीकन, आस्ट्रेलियायी या भारतीय!


Advertisements

23 thoughts on “होमवर्क की आउटसोर्सिंग!

  1. जी हां ये होमवर्क कई सालो से चल रहा है और चलता रहेगा, क्योंकि अभी तक ईसका कोई दूसरा सस्ता विकल्प नहीं मिल पाया है, ईस तरीके से विदेशी मुद्रा तो मिलती ही है, हमारे प्रोग्रामर्स को भी फ्रीलांसिग करियर मिल रहा है।

    Like

  2. जी, यह कार्य यहाँ भी पिछले दो सालों से सफलतापूर्वक चल रहा है. हम लोग जयपुर से मोड्यूल चला रहे हैं. अच्छा काम है मगर आप तब जिक्र कर रहे हैं, जब सेचुरेशन के कारण रेट टूट रहे हैं अब. २ साल पहले से आधे रेट हो गये हैं अब. नये लोगों के एन्टर करने लायक बाजार नहीं रहा.अच्छा आलेख.

    Like

  3. ज्ञानजी,जब वयस्क लाभ उठा सकते हैं तो बच्चे क्यों दूर रहेंगे?outsourcing पिछले कई वर्षों से चल रहा है।मेरे खयाल से मेडिकल ट्रान्स्क्रिप्शन की सफ़लता से प्रेरित, होकर अन्य कई क्षेत्रों में भी यह होने लगा है। आज स्थिति यहाँ तक पहुँची है कि किसी भी क्षेत्र में, जिसमें उपज bits and bytes में परिवर्तित हो सकता है, और अन्तर्जाल के माध्यम से भेजा जा सकता है , उसमें outsourcing सफ़ल हो सकता है।मैं स्वयं इस phenomenon का लाभ उठा रहा हूँ और मेरी कमाई इसी धन्धे से हो रही है।अमरीकी architects/engineers/contractors के लिए तकनीकी drawings बनाता हूँ।अमरीका में जिस काम के लिए १०० डोलर खर्च होता है वह ५० डोल्लर में किसी भारतीय ईन्जिनियर से करवाते हैं। वही काम के लिए भारत में भरतीय ग्राहकों से केवल पच्चीस डोलर मिलता है। इसे कहते हैं असली और निश्चित win – win स्थिति।१९९८-२००० में यह cost ratio 6:1 से लेकर 7:1 के बराबर था। आजकल डोलर की मूल्य में गिरावट और भारत मे वेतन की वृद्धि और स्पर्धा के कारण, यह ratio 3:1 से लेकर 4:1 बन गया है। मुझे नहीं लगता की यह धन्धा हमेशा के लिए चलेगा। भविष्य में outsourcing का काम केवल गुणवत्ता पर टिका रहेगा, दाम पर नहीं।इस विषय पर यदि अधिक जानने किइ इच्छा हो तो मेरा पिछले साल लिखा हुआ चिट्ठा यहाँ पढिए।http://tarakash.com/forum/index.php?option=com_content&task=view&id=26&Itemid=39

    Like

  4. रेट कम हो रहे है या कहे पहले से कम ही है। भारतीयो का शोषण ज्यादा है। हाल ही मे अमेरिका की एक सलाहकार कम्पनी ने आफर दिया था कि वे एक घंटे तक जैट्रोफा के नकारात्मक पहलुओ पर प्रश्न पूछेंगे फिर 200 डालर देंगे। फिर 400 मे तैयार हो गये। अब एक घंटे मे तो बहुत कुछ पूछा जा सकता है। मैने 15 मिनट के एक स्लाट की बात की उसी दर पर। पहले आनाकानी करते रहे फिर तैयार हो गये। भारी बारगेनिग है। आप अगर दक्ष विषय विशेषज्ञ है तो रास्ते खुले है पर किसी से पैसे निकलवाना हमेशा टेढी खीर रही है मेरे लिये।

    Like

  5. किसी से पैसे निकलवाना सभी के लिए टेड़ी खीर होती है। लेकिन कुछ लोग इस काम में दक्षता प्राप्त कर लेते हैं। वे ही सब से बड़े विक्रेता होते हैं। हाँ आज काम की उतनी कीमत नहीं जितनी इस विक्रय दक्षता की है। आप बहुत से काम कर सकते हैं लेकिन विक्रय दक्षता के अभाव में सब कुछ बेकार है। कभी आप ने अपना कोई काम किया तो पहले एक विक्रय दक्ष को तलाश कर के रखना पड़ेगा। मैं अपने लिए एक की तलाश में हूँ, अभी तक नहीं मिला है। इस की आउट सोर्सिंग भी खूब होती है।

    Like

  6. चीनी हजबैंड सस्ते और बढ़िया पड़ते हैं। हजबैंडो की आऊटसोर्सिंग चीन की तरफ जाने वाली है महाराज। बहुत जल्दी यह सीन होने वाला है कि बंदा यहां बैठकर अमेरिका का होमवर्क कर रहा है। और उसकी जगह चीनी हजबैंड ने ले ली ही। जमाये रहिये।

    Like

  7. ज्ञान जी,आस्ट्रेलिया और अमरीका वालों को हिन्दी ब्लॉग लेखन का चस्का लगवा देते हैं, फ़िर हम सब लोग मिल कर पुरस्कार बाँटेंगे | पहले जानबूझ अमरीका वालों को दे देंगे और सब अपने ब्लॉग पर उनकी तारीफ़ लिखेंगे | उसके बाद धंधा चालू करेंगे कि अपना हिन्दी ब्लॉग आउटसोर्स करो और पुरस्कार जीतने की गारंटी भी | कहिये, बात चलाई जाए आस पड़ोस में 🙂

    Like

  8. ————————–पंकज अवधिया Pankaj Oudhia said… रेट कम हो रहे है या कहे पहले से कम ही है। भारतीयो का शोषण ज्यादा है।——————-पंकज जी,शोषण कैसे?अपनी मर्जी से ही काम करते हैं। इसमे जबर्दस्ती हो ही नहीं सकती।अगर रेट कम लगता है तो हमें काम स्वीकार करने से इनकार करने का पूरा अधिकार है।उलटा, मैं ने अमरीकी ग्राहकों को कह्ते सुना है कि भारत के कुछ लोभी लोग अमरीकी वालों के शोषण कर रहे हैं ज्यादा माँगकर।शोषण तब होता है जब ड्राइवर, बावर्ची, आया, नौकरानी, नर्स वगैर्ह दुबई या साउदी अरेबिया जाते हैं और उन लोगों की पासपोर्ट जब्त करके, उनसे कम वेतन पर काम लिया जाता है।भारत-अमरीका का यह औटसोर्सिन्ग व्यवसाय, भिन्न है।मुझे खुशी हुई यह सुनकर की आपको अपना माँगा हुआ पैसा मिल गया।सही राशी उनके cost और हमारे cost के बराबर बीच में हो तो दोनों को लाभ होता है। यह एक डबलरोटी का slice है जिसपर दोनों तरफ़ मक्खन लगा हुआ है। हम एक तरफ़ को चाटेंगे, और वे दूसरी तरफ़।आपकी शोषण वाली बात मेरी समझ में नहीं आई।शुभकामनाएं

    Like

  9. मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि आउटसोर्सिंग व्यवसाय बहुत अच्छा है – दोनों के लिये। आउटसोर्सक और काम करने वाला दोनो खुश रहते हैं। यहां बात मैं “होमवर्क” के आउटसोर्सिंग की कर रहा हूं – जो मेरे विचार में अनैतिक है!

    Like

  10. हमारे यहाँ बच्चों का गृहकार्य माँ-बाप को निपटाते हुए देखा है, यह भी अनैतिक ही है. कॉलेजों के कई विद्यार्थी भी व्यवसायिक दक्ष लोगो से काम करवाते है, यह भी अनैतिक ही है. इसी तरह नई तकनिक के चलते दूर बैठे लोग अपना कार्य किसी और करवा रहे है, सरासर गलत है.

    Like

  11. ———————-यहां बात मैं “होमवर्क” के आउटसोर्सिंग की कर रहा हूं – जो मेरे विचार में अनैतिक है! ———————-एकदम सही।किसी के विचार में भी यह होमवर्क का आउटसोर्सिग अनैतिक होनी चाहिए। लेकिन जब तक अनैतितका से किसी को लाब होता है, यह चलता रहेगा। इसे रोकना भी आसान नहीं। इस सन्दर्भ में एक पुराना न्यूज़ आइटम भी याद आ रहा है।इंग्लेंड में old age homes महँगे हो गये हैं।भारत में ऐसे कुछ खास old age homes के बारे में सोचा जा रहा था जहाँ यूरोप के वृद्ध नागरिकों को भेज सकेंगे।यानी वृद्धों का देखबाल का भी आउटसोर्सिंग!क्या यह अनैतिक होगा?सोचने वाली बात है।

    Like

  12. अजी यह शुभ कार्य हमारे यहां से ही गया हे, बच्चे बेठे ऊघ रहे हे, पास बेठी मां एक चाटां बच्चे को मारा ओर पुछती हे ऎसे ही करना हे ना ओर खुद ही लिखती जा रही हे,कभी कभी पुछती हे ठीक हे ना बच्चा सोया सोया ही हिल रहा हे या सिर हिला रहा हे पता नही, लेकिन ममी जी झट पट सारा होम्वर्क कर करके बच्चे को शावाशी देती हे,देखो लक्की ने अपना सारा काम निपटा लिया, लेकिन रजल्ट आने पर उस गरीब की पिटाई,अरे … यह सब आंखो देखा हाल लिखा हे.. अब बताये हम दुनिया मे सब से आगे हे या नही

    Like

  13. तो मुख्य बहस नैतिकता पर टिक गयी है. छोटे बच्चों को जिस तरह ढेर सारे होमवर्क से लाद दिया जाता है वही कहाँ तक ठीक है? मम्मियों द्वारा बच्चों का होमवर्क करने के पीछे शायद अपना समय बचाने की नीति रहती होगी. वैसे हमारे यहाँ abhee तक esi परम्परा नहीं padee है. बिटिया जी ख़ुद ही पूरा होमवर्क kartee हैं, लेकिन पूरे समय nigraanee karnee पड़ती है वरना मन bhatakne में देर नहीं lagtee. abhee UKG में हैं. (why does this google transliteration go off so often?)

    Like

  14. भारतीयों के सस्ते होने की गूँज कहाँ नहीं है ?आउ्टसोर्सिंग तो ग़नीमत है, जी !पता नहीं, सुश्री बहन मायावती जी पी०एम०टी० या बोर्ड परीक्षाओं में चल रहे आउटसोर्सिंग से क्यों हलाकान है ?

    Like

  15. किसी से पैसे निकलवाना हमेशा टेढी खीर रही हैThat is very true & कमाल है – ऐसी परीक्षा का क्या उपयोग ?और विधार्थी की दक्षता का सही मुल्याँकन कैसे हुआ ? – लावण्या

    Like

  16. आउटसोर्सिंग तो कई क्षेत्रों में हो रही है… होमवर्क से लेकर कापियां जांचने तक. आपने अगर ‘वर्ल्ड इस फ्लैट’ पुस्तक न पढ़ी हो तो बताइए… इसकी सॉफ्ट कॉपी भी मेरे पास है. वैसे इस पुस्तक की आलोचना करने वाले बड़े अर्थसास्त्री भी हैं… पर कुछ भी हो यह पुस्तक आउटसोर्सिंग पर एक रोचक पुस्तक तो है ही. थर्ड वे पर एक पेपर भेजा था मैंने, आशा है आप को मिल गया होगा.

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s