नहीं बेचनी।



pebbles_and_flowers“इनकी रचना को नए ब्लॉग पर डाल दो . दो धेले में नहीं बिकेगी . आज ज्ञानदत्त नाम बिक रहा है”

मुझे दो धेले में पोस्ट नहीं बेचनी। नाम भी नहीं बेचना अपना। और कौन कहता है कि पोस्ट/नाम बेचने बैठें हैं? 


Advertisements

36 thoughts on “नहीं बेचनी।

  1. बेचने-बिकने की बात भला आई कैसे? इस मंच से तो सिर्फ़ ज्ञान और अनुभव साझा किया जा रहा है. कृपा कर यह सार्थक कार्य जारी रखें!

    Like

  2. पाण्डेय जी /कुछ दिनों की अस्त व्यस्त जिंदगी के बाद आज आपका ब्लॉग देखा तो यहाँ कुछ और ही नज़र आया /समझ में ही नहीं आया की माजरा क्या है /मैंने सोचा पिछली पोस्ट देखें कुछ पता चले परन्तु कुछ समझ न पाया इतना आभास ज़रूर हुआ कि किसी ने कमेन्ट में अशोभनीय बात कह दी होगी /पाण्डेय जी साहित्य के क्षेत्र में मैं आपके आगे बिल्कुल बच्चा हूँ लेकिन इतना जरूर जानता हूँ के साहित्य की आलोचना के बजाय साहित्यकार की आलोचना नहीं होनी चाहिए और साहित्य की आलोचना से साहित्यकार को क्षुब्ध नहीं होना चाहिए /जहाँ तक कम्पटीशन का प्रश्न है यह तो होता आया है /मैथली शरण गुप्त और रामधारीसिंह दिनकर में क्या ऐसा नहीं था और दिनकर जी को परेशानी भी उठानी पढी थी /आलोचना लेखन की हो -होनी ही चाहिए जरूरी नहीं कि दोनों के विचारों में समानता हो ही /मुंडे मुंडे मति भिन्न तुंडे तुंडे सरस्वती /

    Like

  3. नही बेचनी नही बेचनी और नही बिकूंगा . अरे वह आप तो सच्चे मन से अपनी भाषा के लिए प्रचार कर रहे है लगता है . नाम और पैसे में क्या रखा है ये हाथ के मैल है . उम्दा बात शुक्रिया …

    Like

  4. Kyun naraz hote hain bhaisahab, aaz kal remix ka zaamana hai. Buffet me ek hi thali me gulabzamun aur matar paneer ke sath faile huye rayate ka maza lijiye.People with weak stomach dont like your dish and tend to suffer more frequent bowel movement. Aise log NIPATNE lagate hain.

    Like

  5. चलिए ऐसा करते हैं की उतार कर मन से सोच की गठरियाँ कुछ हल्का लिख/कह देते हैं , मान लेते हैं कि ऐसा तो होता ही रहता है .

    Like

  6. पिछली पोस्ट से सम्बंधित प्रतिक्रियाएं पढी थी, अधिक समझ नही आयी थी मगर आज आपकी प्रतिक्रिया वाली पोस्ट से मैं पूर्णतया सहमत हूँ, -लेखन वही है जो बेचने के लिए न लिखा जाए -लेखन वही है जो लोगों को प्यार और पारस्परिक सम्मान करना सिखाये -और लेखन वही जिससे आम जन मानस प्रभावित हो -ज्ञानदत्त का नाम अगर बिक रहा है, तो उस लेखन के कारण ही जो उन्होंने लिखा है ! आपकी बारे में व्यक्तिगत तौर पर परिचित न होते हुए भी जितना मैंने आपको पढ़ा है, निष्पक्षता के साथ साथ लेखन से न्याय करते रहे हैं, साथ साथ अनूप शुक्ल, ताऊ और शिव कुमार मिश्रा की अक्सर छेड़खानी युक्त प्रतिक्रियाएं पढ़ कर आपके ब्लाग पर घर जैसा माहौल लगता है ! आप जैसे लेखन की हिन्दी ब्लाग जगत को बहुत आवश्यकता है !मुझे लगता है विवेक सिंह ने शुरूआती प्रतिक्रिया शायद मजाक में लिखी हो जिसे बाद में अन्य प्रतिक्रियाओं ने गंभीर बना दिया ( बात का बतंगड़ ) . आशा है विवेक सिंह ख़ुद अपना मंतव्य स्पष्ट करेंगे !

    Like

  7. कभी कभी मज़ाक में कही हुई बात भी चोट कर जाती है। आशा है आप चूक से कही बात का बुरा नहीं मानेगे और लिखते रहेंगे- बेचेंगे या बचेंगे नही। लेखनी बेचने या बचने की चीज़ तो है नहीं-क्रियेटिविटी है।

    Like

  8. अरे का हजूर, अईसे कौनो भी मुंह उठा के कह देगा फेर आप उसपे सोचने गुनने बईठ जाओगे तो कैसे चलेगा जी।

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s