यह क्या भाषा है?


ब्लॉग पर साहित्य की चौधराहट के विरुद्ध मैने कई बार लिखा है। भाषा की क्लिष्टता और शब्दों की प्यूरिटी के लोगों के आग्रह को लेकर भी मुझे आपत्ति रही है। हिन्दी से अर्से से विलग रहा आदमी अगर हिन्दी-अंग्रेजी जोड़ तोड़ कर ब्लॉग पोस्ट बनाता है (जो मैने बहुत किया है – कर रहा हूं) तो मैं उसका समर्थन करता हूं। कमसे कम वह व्यक्ति हिन्दी को नेट पर ला तो रहा है। 

film-strip पर उस दिन शिवकुमार मिश्र ने यह बताया कि  "पटियाला पैग लगाकर मैं तो टल्ली हो गई" या "ऐ गनपत चल दारू ला” जैसी भाषा के गीत फिल्म में स्वीकार्य हो गये हैं तो मुझे बहुत विचित्र लगा। थाली की बजाय केले के पत्ते पर परोसा भोजन तो एक अलग प्रकार का सुकून देता है। पर कचरे के ढ़ेर से उठा कर खाना तो राक्षसी कृत्य लगता है। घोर तामसिक।

और ऐसा नहीं कि इस से पंजाबी लोग प्रसन्न हों। आप उस पोस्ट पर राज भाटिया जी की टिप्पणी देखें –

“मखना ना जा…ना जा……" आगे शायद ये कह देतीं कि… "पटियाला पैग लगाकर मैं तो टल्ली हो गई."
मिश्र जी, पंजाबी भी तंग हो गये है इन गीतो से शब्द भी गलत लगाते है, ओर लोक गीतो का तो सत्यनाश कर दिया, जो गीत विवाह शादियों मै गाये जाते थे, उन्हे तोड मरोड़ कर इन फ़िल्म वालो ने तलाक के गीत बना दिया।

साहित्यकारों की अभिजात्यता के सामने हिन्दी ब्लॉगर्स की च**टोली सटाने में एक खुरदरी गुदगुदी का अहसास होता है मुझे। पर इस प्रकार की “टल्ली” भाषा, जो फिल्म गीतों या संवाद का हिस्सा हो गयी है, मुझे तो स्केबीज का रोग लगती है। झड़ते हुये बाल और अनवरत होने वाली खुजली का रोग। क्या समाज रुग्ण होता चला जा रहा है?

उस दिन “नया ज्ञानोदय” में साहित्यकार के बांके पन से चिढ़ कर मैने सोचा था कि इस पत्रिका पर अब पैसे बरबाद नहीं करूंगा। पर शिव की पोस्ट पढ़ने पर लगता है कि “नया ज्ञानोदय” तो फिर भी खरीद लूंगा, पर आज की फिल्म या फिल्म संगीत पर एक चवन्नी जाया नहीं करूंगा!  


मेरी पत्नी जी कहती हैं कि मैं इन शब्दों/गीतों पर सन्दर्भ से हट कर लिख रहा हूं। "ऐ गनपत चल दारू ला” एक फंतासी है जवान लोगों की जो अमीरी का ख्वाब देखते हैं। और इस गायन (?) से फंतासी सजीव हो उठती है।

पर अमीरी की यह फन्तासी यह भी तो हो सकती है – “गनपत, मेरी किताबों की धूल झाड़ देना और मेरा लैपटॉप गाड़ी में रख देना”!

या फिर – “यदि होता किन्नर नरेश मैं राजमहल में रहता। सोने का सिंहासन होता, सिर पर मुकुट चमकता।” जैसी कविता जन्म लेती फंतासी में।


Advertisements

44 Replies to “यह क्या भाषा है?”

  1. जहाँ तक भाषा के पतन का मामला है वो आप टी.वी में देख सकते है ,समाचार वाचको की भाषा भी ओर नीचे लिखी हेड लाइन में स्पेलिंग की गलतिया ….ओर नया ज्ञानोदय के बारे में ….यदि २० २५ रुपये में एक भी सार्थक लेख मिल जाता है तो बुरा नही है ….जैसे इस बार दिसम्बर अंक में धर्मवीर भरती की लम्बी कहानी “इस गली का आखिरी मकान “एक बैठक में पढने योग्य है……..यदि लिखने वाला अपना बोद्दिक चातुर्य अपने लेख में ज्यादा डाल दे वो भी अपठनीय हो जाता है …यानी की कहानी पर हावी हो जाता है….कहानी की आत्मा के लिए नुकसान देह है .

    Like

  2. भाषा एक बहती हुई नदी है, जो हमेशा नीचे की ओर ही जाती है। यकीन न तो वैदिक से लेकर आज तक का इतिहास उठा कर देख लें।

    Like

  3. कोई भी भाषा आंचलिकता के प्रभाव से बच नहीं सकती । किन्‍तु इसका अर्थ यह कदापि नहीं कि उसके मूल स्‍वरूप को ही नष्‍ट कर दिया जाए । इसलिए, भाषा की बेहतरी के लिए भी, समानान्‍तर रूप से काम निरन्‍तर रहना चाहिए ।

    Like

  4. जब बच्चो को सिखाया ही यही जा रहा है. तो वो क्या बोलेंगे.. फ़िल्मे भी तो समाज का आईना ही होती है.. फिर हमारे फिल्मकार इतने रचनात्मक भी नही है की नये शब्द निकाले.. ये लोग भी वोही बोलते है.. जो जनता बोलती है..

    Like

  5. व्यक्तिगत रूप से मुझे गलत भाषा व गलत वर्तनी से बहुत कष्ट होता है । परन्तु अपने आसपास का वातावरण ऐसा है कि जब तक भाषा की हत्या न की जाए लोग सुनने समझने को तैयार नहीं होते । यह भी सही है कि किसी भी भाषा को जीवन्त बनाने के लिए अन्य भाषाओं के उपयुक्त शब्दों को लेना आवश्यक है । भारतीय भाषाओं के शब्द तो लिए ही जाने चाहिए । इससे भाषा बेहतर भी होगी और अधिक लोग इसे अपनाएँगे । जब किसी अन्य भाषा का कोई शब्द लोग पहले से ही उपयोग कर रहे हों तो नए शब्द बनाने ढूँढने से भी कोई अधिक लाभ नहीं होता । कार, टी वी, पंगा आदि ऐसे ही शब्द हैं । हिन्दी के साथ समस्या यह भी है कि जिन लोगों से भाषा की शुद्धता की अपेक्षा की जाती है, याने पढ़े लिखे लोग, वे अंग्रेजी भाषी बन जाते हैं । फिर हिन्दी न आना या हिन्दी में ही फेल होना भी एक तरह का स्टेटस सिम्बल बन गया है ।फिर भी हिन्दी का जितना विस्तार सिनेमा ने किया किसी अन्य ने नहीं किया। टी वी का भी सहयोग रहा है । हम लाख बढ़िया लिख लें यदि उसे कोई पढ़ेगा ही नहीं तो क्या लाभ ? परन्तु सिनेमा लिखित भाषा से अधिक आकर्षित करता है । चैन्नई के लोग भी चक्क दे इन्डिया कहेंगे परन्तु अन्य बातों में हिन्दी से परहेज करेंगे । सो हिन्दी सिनेमा की ‌‌अपने विस्तार के लिए सदा ॠणी रहेगी ।जैसे हम घर से बाहर जाते समय एक बार यह अवश्य देख लेते हें कि चेहरे पर कुछ लगा तो नहीं, बाल ठीक हैं, कपड़े व्यवस्थित हैं वैसे ही कुछ लिखने के बाद एक बार वर्तनी या स्पैलिंग्स देखने में भी कोई बुराई नहीं है । यदि हम लोगों के सामने संवर कर प्रस्तुत होते हैं तो हमारा लेखन क्यों नहीं ?फिर भी लोग हिन्दी, देवनागिरी में लिख रहे हैं यही बात बहुत खुश करने वाली है । अतः सही या गलत के चक्कर में मैं नहीं पड़ना चाहती ।वैसे उस दिन ‘टल्ली हो गई’ पढ़कर टिपियाने का मन था कि ‘गीत सुनकर मैं झल्ली(पंजाबी का शब्द पगली के लिए) हो गई ।’घुघूती बासूती

    Like

  6. लोगों को कचरा पसंद है तो इसपर क्या किया जा सकता है. भाषा हो या कपड़ा ! खैर ये लाइनेबचपन में खूब रटी थी:”यदि होता किन्नर नरेश मैं राजमहल में रहता। सोने का सिंहासन होता, सिर पर मुकुट चमकता।”

    Like

  7. स्वाभाविक रूप से भाषा में परिवर्तन एक बात है और भाषा को भ्रष्ट करने का ‘उद्योग’ चलाना दूसरी बात । मुझे ऐसा प्रतीत होता है कि हिन्दी को योजनापर्वक भ्रष्ट करने का एक गुप्त उद्योग चल रहा है। जनसामान्य तो लकीर का फकीर होता है। (गतानुगतिको लोकः , न लोकः परमार्थिकः) वह परमार्थ (बेस्ट ऑप्सन) की तलाश करने का कष्ट नहीं उठाना चाहता। यद् यदाचरति श्रेष्ठ: तद् तदेव इत्तरो जनः स यद् प्रतमाणं कुरुते लोकस्तदनुवर्तते ( जो-जो श्रेष्ठ पुरुष करता है, दूसरे लोग भी वैसा ही करते है। वह श्रेष्ठ जन जो प्रमाण करता है आम जन उसी के पीछे-पीछे चलते हैं। ) कोई गुप्त रहकर हिन्दी वालों को अपने पीछे-पीछे चला रहा है : भ्रष्ट-भाषा-प्रयोग का अनुवर्तन करा रहा है।

    Like

  8. फ़िल्म देखना पूरी तरह बंद न करें बल्कि आप भी हमारी तरह अच्छी (और फ्लॉप) फिल्में देखें – उदाहरण के लिए बावर्ची, आनंद, त्रिकाल, कोंडुरा, एक रुका हुआ फैसला, मैंने गांधी को नहीं मारा, हजारों ख्वाहिशें ऐसी, और “ओह माय गोड” [लिस्ट बहुत लम्बी है – जगह कम है]

    Like

  9. भाषा के बारे आलोक पुराणिक हमारी बात कह चुके।हिंमांशु की टिप्पणी इत्तफ़ाक रखता हूं। जो कुछ आप लिखना चाहते हैं और नहीं लिख पाते अभिजात्य के चलते तो उसके लिये रवींन्द्र कालिया का उपन्यास खुदा सही सलामत है पढ़िये। उसमें हजरी बी के जरिये रवीन्द्र कालिया जी ने गाली-गलौज के सहज तरीके सुझाये हैं। आप लिखते रहें लेकिन अपनी बता रहे हैं कि मुझे ये सितारे ** जड़ी भाषा ज्यादा अश्लील लगती है। जो दो अक्षर यहां से बिछड़े होंगे उनके दिल पर क्या बीत रही होगी। बताइये।

    Like

  10. मैं तो चला चाह * पीने। चाह * नहीं जानते ? तो कोई बात नहीं, तीसरी कसम देखिये, खुद समझ जायेंगे 🙂 फिलहाल तो गा रहा हूँ……ए गनपत….. चल चाह * ला :)* चाह = चाय

    Like

  11. इस लम्बी बहस में क्यों न हम अपनी भी टांग अडा दें? असल में भाषा अनेक स्तरों पर प्रयोग में आती है। जब हम कामवाली से बात करते हैं तो उसके स्तर पर और बच्चों से तो उनके स्तर पर जाकर बात करते हैं। उसी प्रकार जब साहित्य की बात करें तो स्तर को बनाए रखना हर रचनाकार का धर्म हो जाता है।

    Like

  12. मुझे छोटे समझ मे आने वाले शब्द अच्छे लगते है अनावश्यक विद्वता दिखानेके लिये लिखे गये मोते शब्दो से उकताई आती है !!लिखने के लिये जरुरी अगर किसी को विषय खोजना पडे तब समझीये कि सब नकली है इसके विपरित जब बातें दिल से निकले तो भाषा से पार और अधिक असरकारक होती है !! मुख्य चीज है लिखने कि उत्कंठा भाषा माध्यम है !!

    Like

  13. बहुधा सिनेकार,लेखक,कवि,साहित्यकार,पत्रकारादि आलोचनाओं के प्रत्युत्तर में यह तर्क प्रस्तुत करते हैं कि वह वही दिखा या लिखपढ़ रहे हैं जो समाज में घटित हो रहा है।ऎसा उत्तर देनें वालों का क्या यह सामाजिक दायित्व नहीं बनता कि वे समाज को उन्नत बनानें में भी अपनीं भूमिका का यथोचित निर्वहन करें?सिनेकारों,साहित्यकारों,कवियों,लेखकों एवं पत्रकारों की एक लम्बी सूची है जिन्होंनें हिन्दी दर्शकों,श्रोताओं,पाठकों और भाषा-भाषियों को न केवल संस्कारित किया है वरन्‌ आज हिन्दी भाषा में जो वैज्ञानिकता,अनुशासन एवं रससिक्त सौष्ठव बचा हुआ है वह उन्हीं की देन है।उन मनस्वियों की धरोहर को उन्नत न करें तो कम से कम अपनें कृत्यों से उसे धूमिल तो न करें।नदी कितनीं ही पवित्र क्यों न हो गिरनें वाले नालों के प्रदूषण को एक सीमा तक ही शुद्ध कर सकती है।दुष्परिणामतः सरस्वती लुप्त होगयी,गंगा और यमुना अपनीं अजस्रता खो ड़बड़बायी आँखों से आपकी ओर ताक रही हैं,कि क्या सवा सौ करोड़ पुत्र पुत्रियों में एक भी ‘भगीरथ’ इस अभागी नें उत्पन्न नहीं किया?संस्कृत की जायी पच्चीस से अधिक भाषाओं और बीस हजार से अधिक बोलियों वाले इस परिवार का पोषण मृतप्राय माँ की लाचारी के चलते क्या बड़ी बहन की सी कुशलता से हिन्दी नहीं कर पा रही है?सौतन अंग्रेजी की मनुहार में जो लगे हैं उनकी तो छोड़ दें कितु जो हिन्दी का दिया खा-कमा रहे हैं वह सौन्दर्य प्रसाधन न जुटायें तो कम से कम उसे तन ढ़कनें के वस्त्र तो दे ही सकते है।अभिधा,लक्षणा,व्यंजना तो बाद की बात है कम से कम वर्तनी की शुद्धता,व्याकरण और वाक्य विन्यास तो ढंग से किया ही जा सकता है।भाषा यदि बहती नदी की तरह नीचे की ओर जाती है तो इसलिए कि वह सागर की गहराई में मिलकर पुनः उर्जस्विता प्राप्त कर मेघ बन अपनीं सन्ततियों पर बरस उन्हें ऊर्जा से अन्वित कर सके और धरित्री को शस्य श्यामल बना सके।वह नीचे अपना कोई पापकर्म छुपानें नहीं कुपुत्रों के दूष्कृत्यों से दूषित अपनें तन मन और आभरण को शुद्ध और निर्मल करनें जाती है वैसे ही जैसे शिशु माँ की गोद मे जब मल मूत्र विसर्जित करता है तो शिशु को पुनः स्वच्छ करनें के साथ साथ माँ अपनें वस्त्र भी स्वच्छ करती है।उसकी इस बहिरंग स्वच्छता के संस्कार मनोमस्तिषक में प्रविष्ट हो अन्तश्चेतना के माध्यम से वाणी द्वारा जब प्रस्तुत होते हैं तभी हम सभ्य कहलाते हैं।वैश्वीकरण और तदजन्य उन्न्त तकनीकी उपकरणों एवं संसाधनों के सम्प्रयोग के चलते हम भारतेतर भाषाओं और उनके उत्पाद के सम्पर्क में आते हैं किन्तु यह सब अन्ततः साधन ही हैं साध्य नहीं।क्योंकि अन्ततः मानवीय गुण और सरोकर ही सर्वोपरि रहेंगे।अतः कमप्यूटर को संगणक कहनें के स्थान पर कमप्यूटर ही कहना लिखना चाहिये।ऎसा न करके हम उन वैज्ञानिकों,अनुसंधित्सुओं और देशों तथा भविष्य में लिखे जानें वाले इतिहास के प्रति अन्याय कर रहे होंगे जो अंग्रेजी,फ्रेंच,जर्मन आदि बोलते हैं तथा जिन्होंने ऎसे आविष्कार किये हैं।निर्विवाद रूप से उन्हें ही यह श्रेय या अपयश मिलना चाहिये।यदि धर्म,दर्शन,संस्कृति,सभ्यता,भाषा और वैचारिक उद्दातता के लिए भारत का अतीत और किसी सीमा तक वर्तमान यश का भागी है तो वैसा ही श्रेय और श्लाघा हमें उनकों भी देनीं चाहिये जो वर्तमान के नियन्ता बन प्रकट हुए हैं।ऎसा करते समय हमें किसी हीन भावना से ग्रसित होंने के स्थान पर प्रतिस्पर्धात्मक होंना चाहिये जिससे हम स्वयं उन से अधिक श्रेष्ठ एवं उपयोगी उत्पाद और व्यवस्था बना सकें जो न केवल सर्वजनहिताय हो वरन्‌ अधिक मानवीय भी हो।

    Like

  14. बहुत कुछ कहा जा चुका हैबहुत हद तक मैं अलोक पुराणिक जी की बात का समर्थन करती हूँ .कहते हैं फिल्में समाज का दर्पण होती हैं.बस वही बात है.भाषा ,संस्कार…..कौन कहाँ अछूता रह जाता है?

    Like

  15. ज्ञानजी,अंग्रेज़ी में इसे कहते हैं “Stirring the hornet’s nest”क्या कभी सोचा था इस पर इतनी सारी और दमदार टिप्पणियाँ मिलेंगी?टिप्प्णीयों की बाढ़ देखकर हमने सोचा थोड़ा रुक जाएं।बडों को बोलने दीजिए। बीच में हम कुछ नहीं कहेंगे।अब सब शांत हो गया है तो सोचा कि हम भी कुछ कहें?शुद्ध हिन्दी की परिभाषा क्या है?एक बार किसीने मुझसे कहा था कि इस देश में केवल दो ही भाषाएं हैं जो शुद्ध हो सकते हैं। एक संस्कृत और दूसरी तमिल।अन्य सभी भारतीय भाषाएं शुद्ध हो ही नहीं सकती!विशेषकर हिन्दी।मैं श्रीमति कविता वाचकनवी से सहमत हूँ।यदि हिन्दी के ७० प्रतिशत शब्द संस्कृत के हों और शेष संसार के सभी अन्य भाषाओं के हों तो मैं उसे शुद्ध और अच्छी हिन्दी मान लूंगा।”हिंग्लिश” को मैं कोई भाषा नहीं समझूँगा। मनोरंजन के लिए ठीक है। बोल चाल में बर्दाश्त कर सकता हूँ लेकिन लिखते समय “हिंग्लिश” का प्रयोग यदि न करें तो अच्छा । या तो हिन्दी का प्रयोग करना चाहूँगा या अंग्रेज़ी लेकिन हिंग्लिश कभी नहीं।”कार” “बस”, “साइकल” “टीवी” “कंप्यूटर” इत्यादि को अपनाकर उन्हें हिन्दी शब्द मानने में ही समझदारी है। सरल और आम अरबी और फ़ारसी शब्दों का सीमित प्रयोग से मुझे कोई आपत्ति नहीं पर उन्हें ठोंसना मुझे अच्छा नहीं लगता।जहाँ तक ब्लॉग जगत की भाषा का सवाल है, मैं भी यही मानता हूँ कि ब्लॉग साहित्य नहीं है और नहीं होनी चाहिए। एक व्यक्ति का निज़ी डायरी है जो वह अपनी मर्ज़ी से सार्वजनिक बनाना चाहता है। उसे पूरी छूट है भाषा चुनने की। यदि उसकी भाषा मुझे पसन्द न आए, तो मैं उसे नहीं पढूँगा। दस्तावेज़ों में, किताबों में इत्यादि मैं संस्कृत के शब्द ज्यादा पसन्द करूँगा। अपने दोस्तों से और परिवार से बोलते समय जो स्वाभाविक लगता है उसका प्रयोग करूँगा और भाषा की शुद्धता की चिंता नहीं करूंगा।इस विषय में तमिल का अनुकरण मुझे उपयुक्त लगता है।बोलचाल की तमिल और लिखी हुई तमिल में बहुत अंतर है।बोलचाल की तमिल हर जिले में अलग है लेकिन लिखी हुई तमिल शुद्ध और एक समान है।एक अच्छी बहस छेड़ने के लिए धन्यवाद।

    Like

  16. भाभी ने सही कहा है — यह नवधनाढ्य लोगों की फंतासी है.आपने पूछा कि किताब, लेपटाप आदि फंतासी में क्यों नहीं आते — इसका कारण यह है कि जो लोग इन चीजों को गंभीरता से वापरते हैं उनको फंतासी की जरूरत नहीं पडती है !सस्नेह — शास्त्री

    Like

  17. एक तो इतने विलंब से आया हूं इस पोस्ट को पढ़ने और जब टिप्पणी करने बैठा तो इतनी सारी बातें और पढ़ने को मिल गयी हिंदी का पताका तो झुक ही नहीं सकता जब तूफान की लगाम इन सशक्त हाथों में हो

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s