हेप्योनैर निवेशक बनें आप!


अगर आपने वारेन बफेट, पीटर लिंच और रॉबर्ट कियोसाकी को कवर से कवर तक पढ़ा है और रिवीजन भी किया है, तो भी मैं इस पुस्तक को लेने और पढ़ने की सलाह दूंगा।

यह है योगेश छाबरीया जी की पुस्तक – हैप्योनैर की तरह निवेश कैसे करें। 

Invest_The_Happionaire_Way_Hindi

हेप्योनैर की तरह निवेश कैसे करें
”मजेदार, रोचक और सरल तरीके से भारतीय शेयर बाजार के जरीये पैसा कमायें”
— योगेश छाबरीया
नेटवर्क १८ पब्लिकेशंस, नई दिल्ली। मूल्य २९९ रुपये।

असल में हम बहुत सी थ्योरी पढ़ते हैं। जब मार्केट बढ़िया चलता है, तब उस पर चर्चा भी बहुत करते हैं। उस समय निवेश भी करते हैं। पर जब सेन्सेक्स टैंक कर जाता है तो यह भूल जाते हैं कि निवेश का यही समय है। इस समय कुछ बहुत अच्छी कम्पनियों के शेयर उनकी भौतिक परिसम्पदा के मूल्य से भी कम पर उपलब्ध हैं। पर हम हैं कि छाछ को भी फूंक फूंक कर पी रहे हैं। क्यों कि अभी हमने अपने पोर्टफोलियो का मूल्य आधे से कम होते देखा है!

मैं भी इसी छाछ को फूंकने के मूड में था। पर बड़े मौके पर यह पुस्तक मेरे हाथ लगी। अपने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद मैने यह पुस्तक पढ़ ली – काफी समय बाद पढ़ी गयी पुस्तक। बड़े काम की पुस्तक। विश्वास वापस लौटा लाने का काम करने वाली पुस्तक।

सबसे बढ़िया बात यह है कि यह पुस्तक हिन्दी में है, सरल है, “निवेश को न जानने वाले” को सामने रख कर लिखी गयी है और आपकी तर्क जिज्ञासा को काफी हद तक शान्त करती है।

आम लोगों में कई मिथक हैं। शेयर मार्केट को लोग या तो जुआ मानते हैं या सतत टीवी के सामने बैठ कर शेयर कीमतों को बढ़ते घटते देखने को निवेश प्रक्रिया का महत्वपूर्ण हिस्सा मानते हैं। इस पुस्तक में योगेश छाबरीया जी के लिखे की मानें तो इन मिथकों से परे, हैप्योनैर (Happionaire – आनन्द से संतृप्त) तरीके से शेयर में सार्थक निवेश हो सकता है।

और बहुत संभावनायें हैं – ४ प्रतिशत से कम बचत इक्विटी में सीधे लग रही है इस समय।

Yogesh1हैप्योनैर की तरह निवेश करना लोगों को अनावश्यक आंकड़ों के मायाजाल से डराने के बारे में नहीं, बल्कि इसकी बजाय लोगों को पैसा बनाने और आर्थिक स्वतन्त्रता का आनंद ढूंढ़ने देना है।
(इसी पुस्तक से)

इस पुस्तक में योगेश जी ने शेयर बाजार के मूलभूत सिद्धान्त, कार्यप्रणाली और निवेश करने की सामान्य तैयारी बात की है। सौ से कुछ अधिक पेजों की पुस्तक में नब्बे से कुछ अधिक पेजों में उन्होने यह बात बड़े रोचक तरीके से की है। उसमें कथायें हैं, लेखक के अपने अनुभव हैं और बीच बीच में स्प्रिंकल्ड सलाह है। शेष पेजों में शेयर बाजार की जरूरी शब्दावली का परिचय है। कुल मिला कर पाठक धन संवर्धन की इस विधा का सही परिचय पा जाता है। पाठक को धोखाधड़ी, अनावश्यक प्रायोजित सलाह आदि के सम्भावित खतरों से भी आगाह किया है इस पुस्तक में।

अभी, जब शेयर बाजार अपनी अत्यन्त निचले स्तर पर है, और कई शेयर अपने भौतिक परिसम्पत्तियों के मूल्यांकन से भी कम मूल्य पर मिल रहे हैं, तब यह पुस्तक सही समय पर निवेश करने को उत्प्रेरक का काम कर सकती है। निवेश का ऐसा मौका कम ही मिलता है।

यह पुस्तक मैने पूरी पढ़ी है – दत्त चित्त हो कर। और मैं आपको भी यह हासिल करने तथा पढ़ने की सलाह दूंगा।

आपको नये साल में हैप्योनैर निवेशक बनने के लिये शुभकामनायें। 


योगेश जी ने अपनी पुस्तक मुझे पढ़ने और अच्छी लगने पर उसके विषय में कुछ लिखने को भेजी थी। और मुजे प्रसन्नता है कि मैने यह पुस्तक पढ़ी।

ब्लॉगर होने का यह लाभ हुआ है कि लोग पुस्तकें दे रहे हैं – जो मुझे सर्वोत्तम उपहार लगता है। मैने दो सप्ताह पहले भर्तृहरि के दो पद प्रस्तुत किये थे – श्री रविशंकर जी द्वारा अनुदित। श्री रविशंकर जी ने मुझे फोन पर बताया कि वे भर्तृहरि के श्रृंगार और वैराज्ञ शतक पर अपनी भारतीय विद्या भवन से प्रकाशित पुस्तक भी भेज रहे हैं।

मैं तो अपने को सम्मानित महसूस कर रहा हूं।


Advertisements

30 thoughts on “हेप्योनैर निवेशक बनें आप!

  1. ब्लागरी करने वालों को देख पहले तो shraddha उपजती है फ़िर खीज कि मेरे पास लिखने सुनांने को इतना है लेकिन कमबख्त टाइम ही नहीं । और लोग हैं कि लिखे ही जा रहे हैं वो भी एक दो पाव नहीं पसेरी भर। ब्लोगेर्स मुझे किसी बाजीगर या बावले ले कम नही लगते । रचना अच्छी बात है। रोज़ सोलह घंटे काम करने या लिखते रहने के बाद ब्लागरी का बी भी लिखने के लिए himmat juatani पड़ती है । कभी लगता है कि ब्लागरी opium कि तरह है । और ब्लॉग per comment कराने वाले कुछ तो sateek tippani करते हैं लेकिन कुछ khaa m khaa के shamil baaza बन जाते हैं । जैसे भीड़ का बे वजह दे taali पे taali lekin bheja है khali। vaise yahan bhi mai bhi shamil baaza ki tarah tapak para hun. mai jhelata hun to aap bhi jheliye सो bauraye से ब्लॉगर के बीच me मैंने भी taang ara दी है आगे bhagvaan malik.

    Like

  2. स्‍टाक मार्केट को लेकर ‘जन-धारणा’ ‘अतिवादी’ है – या तो यह बहुत ही खराब है या फिर बहुत ही अच्‍छा । इसे ‘विवेक’ से व्‍यवहार में लाया जाए तो यह अनुकूल और लाभदायक हो सकता है । किन्‍तु कठिनाई यह है कि आदमी को जैसे ही ‘दो पैसों का फायदा’ होता है, उस पर लालच हावी हो जाता है जो ‘विवेक’ को परे सरकाकर आदमी को इसका व्‍यसनी बना देता है और यहीं से शुरु होता है आदमी का पराभव ।पुस्‍तक के बारे में बताने के लिए धन्‍यवाद । किन्‍तु आपकी बात मानने के लिए तो पहले कम से कम 299 रुपये निवेश करने पडेंगे । फिलहाल विवेक इसकी अनुमति नहीं दे रहा ।

    Like

  3. Dhanyavaad Pandeyjii yeh post ke liye aur review ke liye. :-)Aur dosre sab dosto ko bhi thanks, jiske vajese yeh blog itna lokpriyaaur rochak hai. Pehle to ek baat, nivesh kar ne ke liye zyada paiso ki zaroorat nahi hai. Maine Rs. 750 se shoro kiya.Nivesh karna jue kitarhe nahi hota hai aur gyaan se samjhdar insaan nivesh karga to zaroor Sarswatijii unke paas ayegi.Happionaire Ki Tarhe Nivesh Kare app idhar se khari kar sakte ho:http://shop.in.com/product_details.php?pbvId=37363&catId=1230aur http://www.happionaire.com se. Mujhe malom karna tha ki agar kisi aur ne yeh kitab pari hai …to unhe kaisi lagi? Yeh meri pehli translation hai aur main chahta hoon ke har koi ise pade 🙂 Naye Saal Ki ShubhKamnaye Sabhi Ko! 🙂 Keep smiling!Yogesh Chabriawww.happionaire.com

    Like

  4. इन्वेस्ट किए गए पैसे की कोई फ़िक्र न हो तभी इन्वेस्ट करना चाहिए या फिर किसी और का पैसा हो तो 🙂 हमारे इन्वेस्ट करने पर मनाही है, शुरू में थोड़ा बुरा लगा था पर अब लगता है की अच्छा ही है.प्रेडिक्शन तो कभी काम नहीं करेंगे ये लिंक देखिये: http://www.ritholtz.com/blog/2008/12/2008-investment-guides-are-hilarious/

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s