ब्लॉग पोस्ट प्रमुख है, शेष गौण


Photobucketमेरी रेलगाडी का इंजन गायब है। मेरे ब्लॉग पर ऊपर आने वाला स्क्रॉल मैसेज (कि आपका स्वागत है) भी निकाल दिया है। “अटको मत चलते रहो” वाले फ्लिंस्टन जी भी अब नहीं हैं। मेरा ब्लॉगरोल भी अब ऊर्ध्व-स्क्रॉल नहीं होता। ब्लॉग अब सीधे पोस्ट पर ले जाने का यत्न करता है।

यह सब फ्रिल्स मैने बड़े चाव से मन लगा कर संजोये थे। पर यह भी लगता था कि यह ध्यान विकर्षण (distraction) करता है। लोग यह देखने नहीं आते। पाठक पठन सामग्री के लिये आते हैं – जो उन्हे बिना लागलपेट के मिलनी चाहिये। लिहाजा वे सब हटा दिये हैं और पोस्ट की पट्टी भी चौड़ाई में बढ़ा दी है।

यह पहले से महसूस कर रहा था, पर अनुराग मिश्र (Raag) जी की एक टिप्पणी ने उसपर निश्चयात्मक रूप से कार्य करने को बाध्य कर दिया –

धन्यवाद ज्ञानदत्त जी, एक रोचक विषय के लिये। मैं आपका ब्लॉग नित्य गूगल रीडर से पढ़ता हूं। पर यह कष्टकारक है कि जब मैं टिप्पणी करने जाता हूं तो पाता हूं कि आपने ब्लॉग को ढेरों एनीमेशन लिंक्स, जीआईएफ चित्रों और भीषण रंगों से युक्त कर रखा है। अपने पाठकों के लिये कृपया इन फ्लैशी एनिमेशन लिंक्स को हटा दें। यह ध्यान बंटाते हैं।

(टिप्पणी अंश का अनुवाद मेरा है।)

हम कुछ बातों पर बहुत समय से सोचते हैं, पर एक नज (nudge – हल्का धक्का) चाहिये होता है कार्यान्वयन करने के लिये।

खैर, इसी प्रकार मैं कई लोगों के ब्लॉग पर विविधता युक्त चिड़ियाघर देखता हूं। उस सब विकर्षण में सम्प्रेषण गायब हो जाता है। इसके अलावा ब्लॉग पूरी तरह खुलने में भी समय लगता है। … ब्लॉग को ब्लॉग ही रहने दो चिड़ियाघर न करो!

सामान्यीकरण – सिम्प्लीफिकेशन कुंजी है। बेकर-पोस्नर का ब्लॉग इतना सिम्पल ले-आउट वाला है और इतना महत्वपूर्ण! दोनो (गैरी बेकर, रिचर्ड पोस्नर) ओल्डीज हैं! उनकी पोस्टों की गुणवत्ता देखिये – फेण्टाबुलस!BandP    


मेरा ब्लॉग साधारण नेट कनेक्शन से अब २७ सेकेण्ड में डाउनलोड हो रहा है और मुख्य सामग्री (पोस्ट व टिप्पणियां) ५ सेकेण्ड में डाउनलोड हो रहे हैं। यह मापने के लिये आप यह स्टाप-वाच का प्रयोग कर सकते हैं।


Advertisements

59 Replies to “ब्लॉग पोस्ट प्रमुख है, शेष गौण”

  1. आ, श्री ज्ञानदत्त पाण्डेयजीजब जगे तब सवेरा॥रही बात उल्ट फेर कि तो यह आपकी रुचि पर निर्भर करता है। हम अभी जवान है सो हमे लटके झटके वाले घोसले पसन्द है।

    Like

  2. ब्लॉग पोस्ट निश्चित रूप से प्रमुख है. पोस्ट में तो दम होना ही चाहिए.इसी के लिए ब्लॉग पढ़ा जाता है, किंतु साथ में ब्लॉग आकार्षक भी है, तो सोने में सुहागा. हाँ ब्लॉग खुलने में दिक्कत नही आना चाहिए.

    Like

  3. खैर, इसी प्रकार मैं कई लोगों के ब्लॉग पर विविधता युक्त चिड़ियाघर देखता हूं। उस सब विकर्षण में सम्प्रेषण गायब हो जाता है। इसके अलावा ब्लॉग पूरी तरह खुलने में भी समय लगता है। … ब्लॉग को ब्लॉग ही रहने दो चिड़ियाघर न करो! देर आए दुरुस्त आए. समझ भी चीज़ ऐसी है कि देर से आती है, तभी तो उत्तरोत्तर हर कोई विकास का दावा करता रहता है, पहले से अधिक गुणवत्ता का आईटम पेश करता रहता है………जैसे हम उसे स्वीकार करते रहते है, बिना बोले, उसी तरह आपके ब्लॉग में हुए इस परिवर्तन का भी हम स्वागत करते है. चन्द्र मोहन गुप्त

    Like

  4. Dear fellow bloggerI don’t know whether you will publish this comment or not as this is in English. Sorry friend, i completely disagree with your post content. Just think of a lady without hair, without hair style, without good clothes, without perfume, without lipstick, bindi, trinket, Bengals, gold chain. Further, Can you think of a human being without his body. Only a brain and a mechanism of life cannot make a complete man. Those outer things, you may think unnecessary or un-required but again you will come to grade such people without all these. Of course, as your friend Anurag Mishra advised you to tone up or tune up, you must not give in to visual pollution. Gif immage, high intensity colours, rolling or running thing or animation create visual distraction and you must not or use them with caution.Colour should be soothing and not a red rag to a bull. Coming upto to your content. You are right contents are the life blood of a blog but beautiful containers are needed to sustain those important machinery or system. One must not compromise his content but at the same time one should not ignore beauty.Think of a sculptor, painter, idol maker and other artists beautifying their creations and we people could not but say, Wah marvelous, bravo. Thanks

    Like

  5. This link was given to me by one of my friends who is in Indian railway. Even i am also in Indian railway. In the morning we were chatting on random matters. I emphasized on designs and beauty of blogs. We chatted for two hours and when we disconnected he could not but sent this link to give me a fitting reply to prove me wrong. But he had no idea that i think otherwise. Anyway nice to go through a indigenous blog. I as a bloggers am linked to some foreign bloggers and some foreigners as i blog in English and that also on English grammar. It is through that friend i came to read some Hindi blogs. Blogging in India is growing. By the way, i would like to submit your blog to http://blogcatalog.com and make it global as there are so many Indian bloggers and the blog directory is huge. No doubt your blog has good followers and i wish success in your solemn endeavor. Please don’t think the earlier comment something different or something like ignoring you or your endeavor. Should you take that in that way then you have the right to ignore as you happen to moderate comments. And delete this comment as this meant to you and not in any way related to your post. Good luck and happy blogging.

    Like

  6. @ दैटलव्डफ्लॉवर: आपके कमेण्ट का स्वागत। मेरा ब्लॉग (मेरे विचार से) red rag to a bull पहले भी न था, और अब भी नहीं है। खैर मुझे नहीं लगता कि मेरे और आपके विचारों में कोई भीषण मतभेद है। धन्यवाद।

    Like

  7. अब आपका ब्लॉग पहले से अधिक नीट एण्ड क्लीन लग रहा है इसमें कोई दो राय नहीं हैं लेकिन पहले वाला डिज़ाइन ध्यान भटकाऊ कभी नहीं लगा मुझे, कदाचित्‌ इसलिए कि नज़रें पोस्ट के अतिरिक्त कहीं और जाती ही नहीं! :)बदलाव भी होते रहना चाहिए, एक लिबास को अधिक समय तक पहनते-२ बोरियत भी हो जाती है। कदाचित्‌ मुझे भी अपने ब्लॉग के आवरण को बदलने के बारे में सोचना चाहिए!! 😉

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s