घरसो मां जर्नीर्गमय:


तमसो मां ज्योतिर्गमय:

तम से ज्योति की ओर। घरसो मां जर्नीर्गमय:।  घर से जर्नी (यात्रा) की ओर। मैं जर्नियोगामी हो गया हूं।

Journey1 बड़ी हड़हड़ाती है रेल गाड़ी। वातानुकूलित डिब्बे में न तो शोर होता है, न गर्दा। पर इस डिब्बे में जो है सो है। इतने में एयरटेल समोसा मैसेज देता है – Airtel welcomes you to Madhya Pradesh. We wish you a pleasent stay… कमाल है। इतनी देर से फोन लग नहीं रहा था। मैसेज देने को चैतन्य हो गया। भारत में सारे सर्विस प्रदाता ऐसे ही हैं – ध्यानयोग में दक्ष। जब उन्हें कहना होता है, तभी चैतन्य होते हैं।

Journey खैर हमें रुकना नहीं है – चलते चले जाना है। मध्य प्रदेश में स्टे मध्यप्रदेश वालों को मुबारक! मैं खिड़की से बाहर झांकता हूं। जमीन वैसी ही है जैसी उत्तरप्रदेश में। एक स्टेशन पर गुजरते ऑफ साइड का प्वाइण्ट्समैन मुझे बनियान में देखता है। जरूर चर्चा करेगा कि साहेब बनियान पहने बैठे थे। स्टेशन पूरा गुजरने के पहले ही खिड़की का शटर गिरा देता हूं। मुझे अपनी नहीं, साहब की छवि कि फिक्र लगती है।

खैर, आप टिप्पणी की फिक्र न करें – मैं सिर्फ यह देख रहा हूं कि चलती-हिलती-हड़हड़ाती गाड़ी में पोस्ट ठेल पाता हूं कि नहीं। जब यह शिड्यूल समय पर पब्लिश होगी, तब भी यह गाड़ी तेज रफ्तार से चल ही रही होगी!  


Advertisements

35 thoughts on “घरसो मां जर्नीर्गमय:

  1. ये क्या? मध्यप्रदेश से गुजर गये, बिना पहले से खबर किये. ये अच्छी बात नहीं है.

    Like

  2. ट्रेन निकल जाने के बाद प्वाइण्ट्समैन भी बनियाइन में आ जायेगा । झण्डा व शर्ट, दोनों ही प्रोफेशनल कार्यों में उपयोग में आते हैं । ऐसी उमस भरी गर्मी में यह वस्त्र बड़ा ही सुविधाजनक है ।

    Like

  3. बिलकुल यात्रामय फोटो है @ अनूप जी अब तो बता ही दीजिये ये सब क्या सांठ गाँठ है आपकी,, कभी "हमदर्द" तो कभी बनियाइन की कंपनी roopa frantlaain पूछी जा रही है ??? वीनस केसरी

    Like

  4. इस एयरटेल ने तो मुझे भी परेशान कर रखा है। लेकिन कोई भी इंटरनेट सर्विस प्रदाता कंपनी इससे बेहतर भी नहीं दिखती। इसलिए तमाम परेशानियों के बाद भी इसके डाटाकार्ड का उपयोग करना मजबूरी है।

    Like

  5. 'मुझे अपनी नहीं, साहब की छवि की फिक्र लगती है।' – राजनेताओं (जैसे लालू प्रसाद यादव) की छवि इस तरीके से और भी निखरती है.ब्लॉगजगत में आपकी भी निखरी है.आपकी तुलना ग्लेमर क्षेत्र के दिग्गजों से हो रही है.

    Like

  6. लम्बी उबाऊ रेल यात्रा में यदि इंटरनेट का साथ मिल जाय तो और क्या चाहिए….आपने उपाय खोज निकला..अब हम आपका अनुगमन करेंगे….

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s