टिटिहरी


टिटिहरी या कुररी नित्य की मिलने वाली पक्षी है। मुझे मालुम है कि गंगा तट पर वह मेरा आना पसन्द नहीं करती। रेत में अण्डे देती है। जब औरों के बनाये रास्ते से इतर चलने का प्रयास करता हूं – और कोई भी खब्ती मनुष्य करता है – तब टिटिहरी को लगता है कि उसके अण्डे ही चुराने आ रहा हूं।

Pewit11 जिस तरह से एक ब्लॉगर अपनी पोस्टों के माध्यम से चमत्कारी परिणाम की आशा करता है, उसी तरह टिटिहरी विलक्षण करने की शेखचिल्लियत से परिपूर्ण होती है।
(चित्र हिन्दी विकीपेडिया से)

वह तेज आवाज में बोलते हुये मुझे पथ-भ्रमित करने का प्रयास करती है। फिर उड़ कर कहीं और बैठती है।

बहुत से कथानक हैं टिटिहरी के। एक है कि वह पैर ऊपर कर सोती है। यह सोच कर कि आसमान गिरेगा तो पैरों पर थाम लेगी। समुद्र के किनारे लहरें उसका अण्डा बहा ले गयीं तो टिटिहरा पूरे क्रोध में बोलता था कि वह चोंच में समुद्र का पानी भर कर समुद्र सुखा देगा। जिस तरह से एक ब्लॉगर अपनी पोस्टों के माध्यम से चमत्कारी परिणाम की आशा करता है, उसी तरह टिटिहरी विलक्षण करने की शेखचिल्लियत से परिपूर्ण होती है। टिटिहरी हमारी पर्यावरणीय बन्धु है और आत्मीय भी।

जब भदईं (भाद्रपद मास वाली) गंगाजी  बढ़ी नहीं थीं अपनी जल राशि में, तब टिटिहरी बहुत दिखती थी तट की रेत पर। हम लोग अनुमान लगाते थे कि उसके अंण्डे कहां कहां हो सकते हैं। एक बार तो गोल-गोल कुछ ढूंढे भी रेती पर। लेकिन वे कुकुरमुत्ता जैसे पदार्थ निकले। उसके बाद जब गंगाजी ने अचानक कछार के बड़े भूभाग को जलमग्न कर दिया तब मुझे यही लगा कि बेचारी टिटिहरी के अण्डे जरूर बह गये होंगे। एक रात तो टिटिहरी के अंडों की चिन्ता में नींद भी खुल गई!

अब, जब पानी कुछ उतर गया है, टिटिहरी देवी पुन: दिखती हैं। बेचारी के अण्डे बह गये होंगे। या यह भी हो सकता है कि मैं यूंही परेशान हो रहा होऊं! पर अब वह ज्यादा टुट्ट-टुट्ट करती नहीं लगती। यह रहा टिटिहरी का छोटा सा वीडियो, गंगा तट का। 


मैं श्री जसवन्त सिंह की जिन्ना वाली पुस्तक देख रहा था। पाया कि वे दादाभाई नौरोजी के शिष्य थे। दादाभाई नौरोजी चार सितंबर (आज के दिन) १८२५ को जन्मे। बम्बई में लगी, यह रही उनकी प्रतिमा और यह उसपर लगा इन्स्क्रिप्शन।

Naurojee1 Naurojee2

मुझसे अभी यह मत पूछियेगा कि जिन्ना प्रकरण में कौन साइड ले रहा हूं। जरा किताब तो देख/पढ़ लूं! 🙂

यह जरूर है कि पुस्तक पर बैन पर सहमत नहीं हूं। अन्यथा किताब लेता क्यूं?  


Advertisements

36 thoughts on “टिटिहरी

  1. आदरणीय ज्ञानदत्त जी,सुबह जब हम लोग कंधों पर लॅपटॉप टांगे और परेशानियों के समेटे भागते हैं तो यह टिटिहरी तो दूर अच्छे भले इंसान को भी नही देख पाते हैं। कुलमिला कर भैंस से हो गये हैं, अपनी सीध में ही बढे पगुराते हुये।यह पोस्ट सिखाती है कि हमारे आस-पास अभी भी बहुत कुछ नही बदला है, हमें जरूर देखना चाहिये प्रकृति के रोचक, अद्भुत संसार को और सीखना चाहिये कुछ ना कुछ ।बहुत ही रोचक और सुन्दर वीडियो से सज्जित पोस्ट पसंद आयी।सादर,मुकेश कुमार तिवारी

    Like

  2. आदरणीय पाण्डे जी ,मन इसलिये प्रसन्न है कि मैने अभी कुछ समय पहले ही स्व . मुकुटधर पाण्डेय जी की कविता " कुररी " जो जुलाई 1920 की "सरस्वती" पत्रिका मे छपी थी , पढ़ी है और अब कुररी यानि टिटहरी पर आप का यह लेख पढ़ा । यह बिंब मुझे बहुत आकर्षित करता है और एक कविता मे मैने इसका प्रयोग किया है । -शरद कोकास ,दुर्ग छ.ग.

    Like

  3. टिटिहरी की आवाज आपके किसी पिछले विडियो में भी एक बार सुने दी थी. बहुत दिनों के बाद सुनी है ये आवाज. वैसे अंडो की चिंता व्यर्थ ही है उन्हें बचाना डुबाना प्रकृति का काम है. मनुष्य का ज्यादा हस्तक्षेप दीखता नहीं आपके चित्रों और विडियो से. और जब तक मनुष्य का हस्तक्षेप सीमित है तब तक चिंता की कोई बात नहीं 🙂

    Like

  4. हौसले बुलंद होने चाहिये यही सिखाती है टिटहरी । समुद्र को निगलने का जज्बा हो तो और क्या चाहिये । आपका विडियो अच्छा है ।

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s