हिन्दू धर्म के रहस्यों की खोज

Dawn Ganges कल जो लिखा – “लिबरेशनम् देहि माम!” तो मन में यही था कि लोग इन सभी कमियों के बावजूद हिन्दू धर्म को एक महान धर्म बतायेंगे। यह नहीं मालुम था कि श्री सतीश सक्सेना भी होंगे जो हिन्दुत्व को कोसने को हाथो हाथ लेंगे। और मैं अचानक चहकते हुये थम गया।

«« गंगा किनारे सवेरा।

सोचना लाजमी था – इस देश में एक आस्तिक विरासत, ब्राह्मणिक भूत काल का अनजाना गौरव, भाषा और लोगों से गहन तौर पर न सही, तथ्यात्मक खोजपरख की दृष्टि से पर्याप्त परिचय के बावजूद कितना समझता हूं हिन्दू धर्म को। शायद बहुत कम।

A_Search_In_Secret_ ढोंगी सन्यासियों, जमीन कब्जियाने वाले लम्पट जो धर्म का सहारा लेते हैं, चिलम सुलगाते नशेड़ी साधू और भिखमंगे बहुरूपियों के भरे इस देश में कहां तलाशा है सही मायने में किसी योगी/महापुरुष को? क्यूं समय बरबाद कर रहा हूं इन छुद्र लोगों की लैम्पूनिंग में? किसका असर है यह? क्या रोज छिद्रान्वेंषणीय पोस्टें पढ़ लिख कर यह मनस्थिति बनती है?

वैसे हिन्दू धर्म के रहस्यों को या तो कोई पॉल ब्रण्टन प्रोब कर सकता है, या (शायद)हमारे जैसा कोई अधपका विरक्त – जो अपनी जिम्मेदारियां अपनी पत्नी को ओढ़ा कर (?) स्टेप बैक कर सकता है और जो नये अनुभवों के लिये अभी जड़-बुढ़ापा नहीं देखे है।

क्या करें? जमाने से पड़ी हैं कुछ पुस्तकें जो पढ़े और मनन किये जाने का इंतजार कर रही हैं। शायद उनका समय है। स्वामी शिवानंद कहीं लिखते हैं कि शीतकाल का समय आत्मिक उन्नति के लिये रैपिड प्रोगेस करने का है। कल शरदपूर्णिमा थी। अमृत में भीगी खीर खा चुका। कुछ स्वाध्याय की सम्भावना बनती है? पर स्वाध्याय अनुभव कैसे देगा? Shradpoornimaa

गंगा में झिलमिलाता शरदपूर्णिमा का चांद

मैं केवल यह कह सकता हूं कि भारत ने मेरा विश्वास वापस दिला दिया है। — मैं इसको बड़ी उपलब्धि मानता हूं। विश्वास उसी तरह से वापस आया जैसा एक अविश्वासी का आ सकता है – भीषण तर्क से नहीं, वरन चमत्कृत करने वाले अनुभव से।

— पॉल ब्रण्टन, इस पुस्तक से।    


और चलते चलते सूरज प्रकाश जी के ब्लॉग से यह उद्धरण –

Sooraj Prakash बुरी मुद्रा अच्‍छी मुद्रा को चलन से बाहर कर देती है। मतलब ये कि अगर आपकी जेब में दस रुपये का पुराना नोट हो और आपके हाथ में दस रुपये का नया नोट आये तो आप जेब में रखे पुराने नोट की जगह नया नोट रख लेंगे और जेब वाला पुराना नोट सर्कुलेशलन में डाल देंगे।

आज जीवन के हर क्षेत्र में यही हो रहा है। सब कुछ जो अच्‍छा है, स्‍तरीय है, मननीय है, वह चलन से बाहर है। कभी स्‍वेच्‍छा से, कभी मजबूरी में और कभी हालात के चलते। आज हमारे आस पास जो कुछ भी चलन में है, वह औसत है, बुरा है और कचरा है। हम उसे ढो रहे हैं क्‍योंकि बेहतर के विकल्‍प हमने खुद ही चलन से बाहर कर दिये हैं।

बड़ी राहत मिल रही है – अगर मेरा ब्लॉग चलन से बाहर जाता है तो एक दमदार तर्क मेरे हाथ रहेगा!


Advertisements

31 Replies to “हिन्दू धर्म के रहस्यों की खोज”

  1. अगर मेरा ब्लॉग चलन से बाहर जाता है तो एक दमदार तर्क मेरे हाथ रहेगा- और ऐसा लिखते रहने के कारण मुझे उम्मीद है कि चलन बढ़ने वाला है, तब इस तर्क के मुताबिक??

    Like

  2. बुरी मुद्रा कभी अच्छी मुद्रा रही होगी. और अच्छी मुद्रा कभी बुरी मुद्रा बन जायेगी …..ऐसे उद्धरणों को कम से कम स्वयं से तो न जोडिए…..बुद्धिमानों से ऐसी अपेक्षा नहीं होती….

    Like

  3. gyaan ji , namaskar jaise ki ye sabit ho chuka hai ki adhyaatam dharm se upar hai aur jeevan ke path par dongi dharmikata se jyada jaruri hai seedhi sacchi adhyatmikta .. agar hame eeshwar se judna hai to uske liye kisi dharm ke aawaran ki jarurat nahi apitu , sahaj man ke aachran ki jarurat hai jo ki insaniyat ki sewa se hi sambhav hai ..aapka dhanywad.regardsvijay http://www.poemsofvijay.blogspot.com

    Like

  4. हिन्दू धर्म या सनातन धर्म इतना विस्तृत है के , कितना भी जाने , बहुत सारा – फिर भी रह जाता है जो छूट जाता है – चन्द्रमा की गंगा जी में छवि अच्छी लगी – लावण्या

    Like

  5. केवल हिन्दू धर्म ही नहीं, दूसरे धर्मों के साथ भी यही है. दिक़्क़त यह है कि हम लोग केवल हिन्दू धर्म को ही जानते हैं ठीक से, इसलिए इसी की आलोचना करते हैं. पश्चिम में भी तो चर्च लोगों को स्वर्ग का टिकट बेचता रहा, आज भी चर्चों मे जो कुछ हो रहा है ब्रह्मचर्य के नाम पर वह किसी से छिपा नहीं है. वहीं मस्जिदों-मदरसों से लेकर मजारों तक आप इस्लाम का दुरुपयोग देख सकते हैं. लेकिन यह सब धर्म के नाम पर हो रहा है, धर्म का काम नहीं है यह. इसके ख़िलाफ़ आम जन को खड़े होना चाहिए. आख़िर हम ऐसा होने ही क्यों देते हैं?

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s