जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ

प्रवीण पाण्डेय से उनकी पिछली पोस्ट स्ट्रीट चिल्ड्रन के बारे में पूछ लिया गया कि समारोह में मुख्य अतिथि बनने के अलावा आपका योगदान क्या रहा? इस बारे में प्रवीण पाण्डेय ने बहुत गहरे में सोचा। उसके बाद जो ई-मेल मुझे भेजी, वह अपने आप में महत्वपूर्ण पोस्ट है। मैं उस ई-मेल को जस का तस प्रस्तुत कर रहा हूं –


’ब्लॉगर और लेखक में यह अन्तर है! लेखक आदर्शवाद ठेल कर कट लेता है। ब्लॉगर से पाठक लप्प से पूछ लेता है – आदर्श बूंकना तो ठीक गुरू, असल में बताओ तुमने क्या किया? और ब्लॉगर डिफेन्सिव बनने लगता है।

एक तरीके से जिम्मेदार ब्लॉगर के लिये ठीक भी है। फिर वह आदर्श जीने का यत्न करने लगता है। उसका पर्सोना निखरने लगता है।

हम सभी किसी न किसी सीमा तक आदर्श जीते हैं। ड्यूअल पर्सनालिटी होती तो बेनामी नहीं बने रहते? और अगर यथा है, तथा लिखें तो ब्लॉगिंग भी एक तरह की वीरता है।’

 writing
लोग (पढ़ें ब्लॉगर) अगर कुछ भी बूंक देने की स्थिति में रहते हैं तो उनके लिये लिखना बेईमानी होगी। उन्हें, न लिखने में आनन्द आयेगा और न स्वलिखित पढ़ने में।

इस विषय पर आपकी उक्त टिप्पणी बहुत महत्व इसलिये रखती है क्योंकि लेखन को जीने का द्वन्द्व सभी के भीतर चलता है। यदि औरों के विचार हमारे जीवन को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं तो स्वयं का लेखन लेखक को प्रभावित क्यों नहीं कर सकता है। किसी विषय पर सोचना और लिखना सतही हो जायेगा यदि उस विषय को जिया नहीं जाये। लिखने के पहले मनःस्थिति तो वैसी बनानी पड़ेगी। उस विषय पर लिखने की प्रक्रिया हमें उस अनुभव से लेकर जायेगी। उड़ते बादलों, चहचहाते पक्षियों पर कविता करने के पहले आपकी मनःस्थिति वैसी उन्मुक्त होनी पड़ेगी। और जब भी वह कविता पढ़ेंगे आप के अन्दर वही उन्मुक्तता पुन: जागेगी। यह मुझे तो एक स्वाभाविक प्रक्रिया लगती है। यदि ऐसा नहीं है और लोग अगर कुछ भी बूंक देने की स्थिति में रहते हैं तो उनके लिये लिखना बेईमानी होगी। उन्हें, न लिखने में आनन्द आयेगा और न स्वलिखित पढ़ने में। उनके लिये तो लेखन का सारा श्रम व्यर्थ ही हुआ। स्वयं को किसी विषय वस्तु के साथ स्थापित करने के आभाव में कभी कभी कई सप्ताह बिना लिखे ही निकल जाते हैं। पर जब भी लिखा जाये वही लिखा जाये जो कि आप हैं।

विषय सदा ही विचारणीय रहा है कि लेखन काल्पनिक हो या यथार्थ? कवि या लेखक जो लिखते आये हैं, वह उनके व्यक्तित्व को दर्शाता है या मनोस्वादन के लिये लिखा गया है? अभिनेता और कवि/लेखक में अन्तर है। अभिनेता वह सब भी व्यक्त कर सकता है जो वह नहीं है। लेखक के लिये अभिनय कठिन है। निराला की पीड़ा ’सरोज स्मृति’ में यदि उतर कर आयी थी क्योंकि उन्होने वह पीड़ा वास्तविकता में जी थी। दिनकर के ’कुरुक्षेत्र’ का ओज उनके व्यक्तित्व में भी झलकता होगा । यह भी हो सकता है कि कुरुक्षेत्र लिखने के बाद उनका व्यक्तित्व और निखर आया हो।

यह पोस्ट श्री प्रवीण पाण्डेय की बुधवासरीय अतिथि पोस्ट है। प्रवीण बेंगळुरू रेल मण्डल के वरिष्ठ मण्डल वाणिज्य प्रबन्धक हैं।
और क्या जबरदस्त पोस्ट है। ब्लॉगर के कृतित्व/चरित्र को चुनौती देने पर कई ऐसे हैं जो गाली-लात-घूंसा ठेलते हैं; और कुछ प्रवीण जैसे हैं जो इतनी सुन्दर पोस्ट रचते हैं! मेरा वोट प्रवीण को!

ज्ञान बखानना आसान है, एक जगह से टीप कर दूसरी जगह चिपका दीजिये। मेरे लिये यह सम्भव नहीं है। मेरे लिये आयातित ज्ञान और कल्पनालोक का क्षेत्र, लेखनी की परिधि के बाहर है, कभी साथ नहीं देता है। यदि कुछ साथ देता है तो वह है स्वयं का अनुभव और जीवन। वह कैसे झुठलाया जायेगा?

एक कविता लिखी थी इसी भाव पर –

जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ

मैंने कविता के शब्दों से व्यक्तित्वों को पढ़ कर समझा।
छन्दों के तारतम्य, गति, लय से जीवन को गढ़ कर समझा।
यदि दूर दूर रह कर चलती, शब्दों और भावों की भाषा,
यदि नहीं प्रभावी हो पाती जीवन में कविता की आशा।
तो कविता मेरा हित करती या मैं कविता के हित का हूँ?
जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ।

जो दिखा लिखा निस्पृह होकर,
कर नहीं सका कुछ सीमित मैं।
अपनी शर्तों पर व्यक्त हुआ,
अपनी शर्तों पर छिपता हूँ
जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ ।

सच नहीं बता पाती, झुठलाती, जब भी कविता डोली है,
शब्दों का बस आना जाना, बन बीती व्यर्थ ठिठोली है।
फिर भी प्रयत्न रहता मेरा, मन मेरा शब्दों में उतरे,
जब भी कविता पढ़ू हृदय में भावों की आकृति उभरे।
भाव सरल हों फिर भी बहुधा, शब्द-पाश में बँधता हूँ।
जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ।

यह हो सकता है कूद पड़ूँ, मैं चित्र बनाने पहले ही,
हों रंग नहीं, हों चित्र कठिन, हों आकृति कुछ कुछ धुंधली सी।
फिर भी धीरे धीरे जितना सम्भव होता है, बढ़ता हूँ,
भाव परिष्कृत हो आते हैं, जब भी उनसे लड़ता हूँ।
यदि कहीं भटकता राहों में, मैं समय रोक कर रुकता हूँ,
जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ।

मन में जो भी तूफान उठे, भावों के व्यग्र उफान उठे,
पीड़ा को पीकर शब्दों ने ही साध लिये सब भाव कहे।
ना कभी कृत्रिम मन-भाव मनोहारी कर पाया जीवित मैं,
जो दिखा लिखा निस्पृह होकर, कर नहीं सका कुछ सीमित मैं।
अपनी शर्तों पर व्यक्त हुआ, अपनी शर्तों पर छिपता हूँ
जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ।


Advertisements

19 thoughts on “जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ

  1. अपनी शर्तों पर व्यक्त हुआ, अपनी शर्तों पर छिपता हूँ सच है भाई, दुनिया में ऎसी नस्लें कम होती जा रही हैंलेयो हमारौ वोट पठाय देयोमन मस्त हुआ जाता है, यह पढ़ कर कि,भाव परिष्कृत हो आते हैं, जब भी उनसे लड़ता हूँ। यदि कहीं भटकता राहों में, मैं समय रोक कर रुकता हूँ, सच है भाई, आख़िर भतीजा तो मेरा ही हैलेयो एकु वोट हमरी पँडिताइनऔ केर धर लेयो

    Like

  2. अपनी शर्तों पर व्यक्त हुआ, अपनी शर्तों पर छिपता हूँ जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ।-क्या बात कही..पूर्णतः बात समझ आती है. मुझे लगता है कि जिस पर आप लिख रहे हैं, उन स्थितियों को पूर्ण संवेदनाओं के साथ अहसासना होता है तभी एक सार्थक और सशक्त लेख निकल कर आता है.बेहतरीन गुनने योग्य आलेख.

    Like

  3. जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ……….आज के लेख में गुरु-गम्भीर्यता और भाषा संतुलन का अद्भुत संयोग है.कभी -कभी ही ऐसी मन-मोहक पोस्ट बन पाती है,यह दीगर बात है की आपकी महीनें में कई- एक हो जाती हैं-हम तो तरसते हैं ऐसे दार्शनिक लेखन के लिए .लिखते रहिये हम तो हैं ही आपके पढने वाले स्थाई पाठक .आज फिर एक जबर्दस्त पोस्ट.

    Like

  4. कवि या लेखक जो लिखते आये हैं, वह उनके व्यक्तित्व को दर्शाता है या मनोस्वादन के लिये लिखा गया है? यह भी हो सकता है कि कुरुक्षेत्र लिखने के बाद उनका व्यक्तित्व और निखर आया हो। very true..

    Like

  5. सही है। लेखन मे तभी मजा आता है जब उसे भोगा गया हो या यथार्थ से गुजरा गया हो। सहमत हूँ। मेरी कई पोस्टें मैंने अपने निजी अनुभव पर लिखी और कई बिना निजी अनुभव के केवल कल्पना कर हास्य या व्यंग्य का पुट देकर। लेकिन मजा उसी पोस्ट में आया जिससे होकर जिसे अनुभव लेकर लिखा था। इलाहाबाद का कम्पटीशन की तैयारी कर रहे छात्रों के कमरे में गिलास में हरा धनिया डाल बेलन से कुचकुचाने वाली पोस्ट हो या फिर मंदिर के बगल में बने कमरे में विवाह हेतु लडका लडकी को दिखाने वाली देखौवा छेकौवा वाली पोस्ट हो। उन्हीं मे ज्यादा मजा आया जिसमें मैंने खुद शामिल हो अनुभव किया था। लोगों को भी मेरी वही पोस्टें ज्यादा पसंद आई थी। वैसे, कभी कभार कल्पना लोक में विचरते हुए पोस्टें लिखी जा सकती हैं, हमेशा नहीं । जब ज्यादा ही काल्पनिक पोस्टें आने लगें तो समझिये कि सामने से प्रतिक्रियाएं भी काल्पनिक ही आएंगी और मजा थोथा रहेगा। दो चार ही प्रतिक्रियाएं आएं लेकिन मन से आएं तो जी खुश हो जाता है और लगता है कि हां लिखना सार्थक हुआ। वैसे, यहां प्रश्न उठाया जा सकता है कि क्या सामाजिक बुराईयों पर लिखने के लिये खुद उस बुराई में शामिल हो तब लेखन किया जाय ? यहां मेरा मानना है कि आग से लोग जल जाते हैं तो उसमें जरूरी नहीं कि आग से जलकर ही कुछ निष्कर्ष निकाला जाय और उस पर लिखा जाय। कुछ बातें दूसरों की चेतावनी, दूसरों की कही भी होती हैं जो हमें निरंतर बताती रहती हैं कि क्या गलत है और क्या सही। टिप्पणी लगता है ज्यादा लमछर हो गई है 🙂

    Like

  6. @प्रवीन जी…..अमूमन अभिव्यक्ति का मतलब ही जैसा दिखे उसे लिखना है …हर व्यक्ति एक ही घटना को अपनी अपनी समझ ओर अपने अपने लेंस के मुताबिक रिफाइन करके देखता बूझता है ….ओर अच्छे लिखने वाले की खूबी यही है के वो किसी घटना के उस एंगल पे कैमरा रखता है .जिससे सबसे क्लियर फुटेज सामने आये …..एक संवेदनशील कवि या लेखक यही करता है …..बाकी पाठको के ऊपर है वे कैसे रिसेप्ट करते है ….हिंदी ब्लोगिंग की दो परेशानी है एक वही जिसे धीरू जी ने कहा है .दूसरी यहाँ लेख को कम लेखक को ज्यादा पढ़ा जाता है ….उम्मीद करता हूँ आप भी दूसरे ब्लोगों को पढना शुरू करेगे …..ज्ञान जी के ब्लॉग पर कविता अच्छी लगती है …

    Like

  7. बहुत ही बढ़िया पोस्ट है. कविता के बारे में क्या कहें, बहुत कम लोग ऐसी कवितायें लिख पाते हैं. बहुत पसंद आई मुझे ये पोस्ट.मैंने सेठ लालचंद का एक इंटरव्यू हाल ही में पढ़ा. सेठ लालचंद लेखक भी हैं. पार्ट टाइम लेखक और फुल टाइम उद्योगपति. जो सवाल प्रवीण जी से पूछा गया था वैसा ही एक सवाल सेठ जी से पूछा गया था. उनका जवाब था;"एक बार मैं एक समारोह में मुख्य अतिथि बनकर गया था. समारोह था उस एन जी ओ द्वारा स्ट्रीट चिल्ड्रेन के लिए काम करने के बारे में. स्ट्रीट चिल्ड्रेन के लिए उस संस्था ने जो प्रोग्राम बनाये थे, मैंने उन्हें खारिज कर दिया. प्रोग्राम बनाते समय जरा भी दिमाग नहीं लगाया था इस संस्था के लोगों ने. मैंने कहा मैं प्रोग्राम बनाकर देता हूँ. इसे देखो और उसके हिसाब से काम करो. अगर कुछ करना चाहते हो तो मुझसे सीखो. मैंने अपनी प्राइवेट चैरिटी से अब तक अस्सी हज़ार स्ट्रीट चिल्ड्रेन का उद्धार किया है. चालीस हज़ार तो डॉक्टर और इंजीनीयर बन गए. कुछ प्रशासनिक सेवा में हैं. साढ़े चार सौ तो कलेक्टर बन गए हैं. नौ सौ सत्तर वकील. छियासी वैज्ञानिक और बाकी के नेता. "

    Like

  8. आपकी इस बात से पूरी तरह सहमत हूँआपकी उक्त टिप्पणी बहुत महत्व इसलिये रखती है क्योंकि लेखन को जीने का द्वन्द्व सभी के भीतर चलता है। यदि औरों के विचार हमारे जीवन को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं तो स्वयं का लेखन लेखक को प्रभावित क्यों नहीं कर सकता है। किसी विषय पर सोचना और लिखना सतही हो जायेगा यदि उस विषय को जिया नहीं जाये। लिखने के पहले मनःस्थिति तो वैसी बनानी पड़ेगी।मुझे लगता है रचनायें वही कालजयी होती हैं जिनमे लेखक अपनी सारी संवेदनायें फूँक देता है और खुद उनको जीये बिना अच्छा लिखा ही नही जा सकता। लिखने से व्यक्तित्व निर्माण भी होता ही है। और परिपक्व होने के साथ साथ लेखक का व्यक्तित्व उस की रचनाओं से झलकने लगता है जैसे आपकी कविता से आपका व्यक्तित्व झलक रहा है ब्लागिन्ग अभी अपने शैशवकाल मे है आगे चल कर इस मे भी और परिपक्वता आयेगी।कविता के लिये बधाई । बहुत अच्छी पोस्ट है नये लेखकों के लिये ऐसी पोस्ट्स की जरूरत है । प्रवीण पाँडेय जी को पढना बहुत अच्छा लगता है। धन्यवाद्

    Like

  9. @ डॉ .अनुरागकिसी भी विषयवस्तु में मुझे जो दृष्टिकोण दिखाई पड़ता है , मैं उसी को ही उकेर पाता हूँ | ब्लॉग जगत में टिप्पणियों का प्रावधान होने के कारण, उसी विषयवस्तु पर मुझे औरों के भी दृष्टिकोण दिखाई पड़ जाते हैं | इस आदान प्रदान से मेरा दृष्टिकोण और भी वृहद हो जाता है | जानकारियां भी बहुत मिलती हैं | कई ब्लोग्स को नियमित रूप से पढ़ने का प्रयास कर रहा हूँ और उससे बहुत लाभ भी हो रहा है |

    Like

  10. मन में जो भी तूफान उठे, भावों के व्यग्र उफान उठे, पीड़ा को पीकर शब्दों ने ही साध लिये सब भाव कहे। ना कभी कृत्रिम मन-भाव मनोहारी कर पाया जीवित मैं, जो दिखा लिखा निस्पृह होकर, कर नहीं सका कुछ सीमित मैं। अपनी शर्तों पर व्यक्त हुआ, अपनी शर्तों पर छिपता हूँ जो दिखता हूँ, वह लिखता हूँ।आपकी ये अभिव्यक्ति बहुत पसंद आई…बहुत अच्छे भाव हैं…बधाई

    Like

  11. बहुत सुंदर जो अच्छा दिखे अच्छा लगे,कोई बुराई देखॊ तो उस के बारे लिखने मै क्या परहेज….. बहुत सुंदर लगा अप का यह लेख, सहमत है जी आप से

    Like

  12. मोबाइल से बज़ पर केवल टाइटल दिखा और मैंने पढ़ लिया 'जो देखता हूँ, वह लिखता हूँ'. और मैंने कमेन्ट कर दिया कि 'सोचना भी शामिल है… '. यहाँ पर आया तो पता चला बात कुछ और ही है. बिना सन्दर्भ एक सतीश पंचमजी की गिलास में बेलन से धनिया कूटने वाली बड़ी पसंद आई, हम तो अभी भी अदरख, मित्च और धनिया ऐसे ही कूट लेते हैं. और भी लोग ऐसा करते हैं ? !

    Like

  13. ऐसे अभिभूत किया है इस पोस्ट ने कि क्या कहूँ….अभी जो अनुभूत हो रहा है,उसे अभिव्यक्त कर पाने में असमर्थ हूँ….बस प्रार्थना है ईश्वर से कि ऐसे ही भाव सबके मन में हों…आदर्श, लेखन से प्रवाहित होते हुए कर्म और व्यक्तित्व में समाहित हो जाए तो फिर बात ही क्या…जग जीता लिया….

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s