बालम गदेलवा और चील!

बालम मोर गदेलवा बड़ी जबरदस्त फागुनी पोस्ट है। आपे नहीं पढ़ी/सुनी तो वहां हो आइये! हिन्दी ब्लॉगिंग वहां अपनी समग्रता पर है।

बाकी, सवाल यह है कि जवान पत्नी का गदेला बालम (बच्चा पति) क्यों होता है? होता जरूर रहा होगा। शायद बेमेल विवाह का यह रिवर्स संस्करण भी समाज की कोई जरूरत रही हो। आजकल गदेला बालम नहीं दीखते। पर मेरी मां ने एक कजरी बताई जिसमें बालम गदेला है।

बड़ी हास्य-युक्त कजरी है। जरा पढ़ें –

eagleअंगुरी पकड़ि क दुलहा लै चलीं बजार होइ
जहंवैं देखैं लाई गट्टा, उहीं परैं छैलाई होई
उंहां क बानिन पूछईं, के हयें तोहार होइ
की तोहरा भईया-भतीजा, की हयें सग्ग भाई होइ
नाहीं बहिनी भईया-भतीजा, नाहीं सग्ग भाई होइ
पुरबुज क कमईया बहिनी, दुलहा हयें हमार होइ
उपरां से चील झपटी, दुलहा लई गई उठाइ होइ
भल किहू चील्ह बहिनी,
दिन दिन क झबरिया बहिनी, आज लई गऊ उठाई होइ

नायिका अपने छोटे बालक पति से आजिज आ गयी है। उसकी उंगली पकड़ कर बाजार जाती है। बालक पति जहां भी लाई-गट्टा (खाने की चीजें) देखता है, वहीं लेने की जिद करने लगता है। बनिया की औरत पूछती है – कौन है यह? तुम्हारा रिश्ते में भाई-भतीजा या सगा भाई? वह बताती है कि नहीं बहन, यह तो पूर्वजन्म की कमाई है कि यह पति मिला है। अचानक ऊपर से चील झपट्टा मार कर उसके पति को उठा के जाती है। उसके मुंह से चील के प्रति धन्यवाद के स्वर निकलते हैं। अच्छा किया चील बहिन जो रोज रोज की उलझन से मुझे मुक्ति देदी।

वाह। मेरी मां शायद कजरी पूरा याद नहीं कर पा रही हों, पर काम भर की पोस्ट तो उन्होने निकलवा ही दी!

(कजरी सावन-भादौं की चीज है। लड़की नैहर आई होती है। पति उतना प्रिय नहीं लगता। बालम की जगह बाबुल का रंग ज्यादा चढ़ा होता है। लिहाजा चील पति को उड़ा ले जाये जैसी कल्पना हिलोर मारती है। इसके विपरीत फगुआ फागुन की चीज है। लड़की को सासुर पसन्द आता है। पति का कोरां – गोद – अच्छी लगती है। उस समय गदेलवा बालम भी प्रिय होता है! मौसम का फेर है जी!)


25022010216-002
छात्रों की फगुनाहट

कल अभय तिवारी से मिलने जा रहा था तो रास्ते में विश्वविद्यालय के गदेलों को फागुनी हुडदंग करते देखा। डीजे के साथ आधी सड़क पर टॉप-लेस लुंगाडे नाच रहे थे। पुलीस वाला कण्ट्रोल कर रहा था तो उससे मजाक कर रहे थे।

कपारे पर चढ़ गई है होली आगमन की बयार!

——————————

(राजीव जी की टिप्पणी पर मैं चित्र कार्टूनाइज कर रहा हूं! वे सही कह रहे हैं। लोग सडक पर अधनंगे घूम सकते हैं, पर नेट पर उनकी प्राइवेसी भंग हो सकती है! या भद्रजनों को असहज लग सकता है! 🙂 )


Advertisements

25 Replies to “बालम गदेलवा और चील!”

  1. पूरी चढ़ गयी है …..फागुनी मस्ती …फागुन के ये उत्प्रेरण गीत बहुत ही मारकता से अपना सन्देश दे जाते हैंईश्वर करे इस फागुन में (ब्लॉग ) जगत की नारियों को कोई गदेला पति न मिले और मिले तो उसका कम्पेंसेशन भी जरूर हो…….होली है !

    Like

  2. विशुध्ध देशज साहित्य में आती है ये कजरी ..आपने न पद्वायी होती तो कभी मैं पढ़ न पाती इसलिए , आभार ………..हमारे यहां तो अब भी दिनभर बर्फ के नन्हे नन्हे रूई से फाहे , हवा में तैर रहे थे , ठण्ड जारी है फागुन , आने में देर है …..- लावण्या

    Like

  3. कपारे पर चढ़ गई है होली आगमन की बयार! कजरी तो उम्दा है,सावन में गायेंगे, साभार.आज तो आपकी पोस्ट भी बौराई है फागुनी रंग में,एकदम झक्कास.

    Like

  4. ज्ञान जी, बकिया तो ठीक है – कजरी वगैरह, पर आप फागुनिया मूड में इस टाईप के (आधी सड़क पर, आधे वस्त्रों में व्यक्तियों के) छायाचित्र न प्रकाशित करें, यदि किसी ने आपत्ति जता दी तब फिर?

    Like

  5. राजस्थानी में होली की मस्ती मेरे हिसाब से सर्वाधिक होती है. एक गीत फाग मे रूप में गाया जाता है, "बालम छोटो सो…"यानी छोटी उम्र का पति मेरा.. जो दूध पिने का उपकरण दिलवाने की माँग करता है और पत्नि कहती है तुम्हारे माँ-बाप दिलवाएंगे.मुझे लगता है, जहाँ जहाँ होली की मस्ती है वहाँ इस तरह के गीत मिल जाएंगे.गुजरात में होली खेली जाती है मगर फाग-गीत वगेरे नहीं होते.

    Like

  6. मस्ती तो बहुत है जी….बीबी कैसी भी हो, आदमी कुछ नहीं कहता…और चील भी उसे नहीं उठाती….क्यों……बहनापा है क्या….ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही ही

    Like

  7. सब मौसम का असर है, दो दिन पहले किसी से बात हो रही थी… फागुन में मन क्यों बौराता है ! मैंने कहा 'मन ठण्ड में सिकुड़ा होता है फागुन में तेजी से फैलता है तो खाली जगह होने पर बौराना स्वाभाविक है' 🙂

    Like

  8. बहुत ही सुंदर पोस्ट, लेकिन असल जिन्दगी मै तो ऎसा नही होता होगा, मुझे लगता है यह सिर्फ़ मजाक के लिये गीतो मै ही होगा,धन्यवाद

    Like

  9. गदेला इंस्टिट्यूट ऑफ फण्डामेंटल रिसर्च सेंटर के छात्र अर्धनग्न हो यहां क्या कर रहे हैं। वैसे, गदेला इज अ रिफाइंड वर्जन ऑफ बचवा 🙂 बढिया पोस्ट।

    Like

  10. लोग सडक पर अधनंगे घूम सकते हैं, पर नेट पर उनकी प्राइवेसी भंग हो सकती है! सही है. अगर आप उनके घर में घुसकर फोटो खींचते तो प्राइवेसी की चिंता जायज़ थी.

    Like

  11. देव !सही बात है ..बालम ऐसा गदेला हो जाता है …कि आगे यह गीत याद आ रहा है …'' सैंया मिले लरिकैयाँ मैं का करूँ ..बारह बरस की मैं ब्याह के आई , सैंया उड़ावें कन्कैंयाँ , मैं का करूँ ……पंद्रह बरस की मैं गौने पे आई , सैंया छुड़ावें मोसे बहियाँ , मैं का करूँ ……सोलह बरस मोरी बारी उमरिया , सैंया पुकारें मैयाँ-मैयाँ , मैं का करूँ …… '' ………………………. आभार !!!!!!!!

    Like

  12. हम्म, तो चील पति को उठा ले गई। अब सोचने वाली बात तो यह है कि जीवन बीमा वाले क्या बीमे की रकम देंगे ऐसे मामले में? ;)बाकि कंसेप्ट ज़रा हट के लगा, अभी तक जितना पढ़ा उसमें दोनो पति-पत्नी बालक होते आए या बुढ़ऊ पति की जवान पत्नी या जवान पति की बालिका पत्नी पर ऐसा कहीं नहीं पढ़ा कि जवान पत्नी का बालक पति। 🙂

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s