बदलाव

ब्लॉगिंग सामाजिकता संवर्धन का औजार है। दूसरों के साथ जुड़ने का अन्तिम लक्ष्य मूल्यों पर आर्धारित नेतृत्व विकास है।

क्या होता है यह? संजीत त्रिपाठी मुझसे बारबार पूछते रहे हैं कि ब्लॉगिंग ने मुझमें क्या बदलाव किये। और मैं यह सोच पाया हूं कि एक बेहद अंतर्मुखी नौकरशाह से कुछ ओपनिंग अप हुई है।

हम एक दो-आयामी स्थिति की कल्पना करें। उसमें y-axis आत्मविकास की है और x-axis सामाजिकता की है। आत्मविकास और सामाजिकता के विभिन्न संयोगों से हम  व्यक्तियों को मोटे तौर चार प्रकार के समूहों में बांट सकते हैं। यह चित्र में स्पष्ट होगा –

my progressसामाजिकता के निम्नस्तर और आत्मविकास के भी निम्न स्तर पर होते हैं क्रूर तानाशाह। अंतर्मुखी-अलग-थलग नौकरशाह होते हैं, जिनका आत्मविकास तो होता है पर सामाजिकता में वे कमजोर होते हैं। स्ट्रीट-स्मार्ट चालबाज सामाजिकता में दक्ष होते हैं, पर उनका आत्मविकास पर्याप्त नहीं होता। उनकी नैतिकता संदिग्ध होती है। Light-The-Fire-In-Your-Heart-Debashis-Chatterjee-सबसे बेहतर होते हैं जिनका आत्मविकास भी पर्याप्त होता है और जो सामाजिकता में भी उच्च कोटि के होते हैं। ये मास-लीडर्स होते हैं। महात्मा गांधी, गुरु नानक, गौतम बुद्ध — अनेक दैदीप्यमान सितारे इसके उदाहरण हैं।

मैं अपने में परिवर्तन को बैंगनी (पर्पल) रंग की तीर की तरह की लकीर से दर्शाऊंगा। मानो एक अलग-थलग नौकरशाह अपने आत्मविकास और सामाजिकता में छोटे छोटे कदम लेता हुआ अपने को कम-अलग-थलग नौकरशाह में बदलने को सन्नध हो। मगर हो अभी अलग-थलग नौकरशाह ही।

ब्लॉगिंग के क्षेत्र में, सामाजिकता के प्रयोग के कारण क्रूर तानाशाह तो शायद ही कोई दिखे। चल ही न पायेगा यहां। पर स्ट्रीट स्मार्ट बहुत से दिख सकते हैं। नैतिक नेतृत्व के उदाहरण अवश्य दिख जायेंगे इक्का-दुक्का। अधिकांश अलग-थलग नौकरशाह की गोल के लोग होंगे – अपनी नैतिकता और सामाजिकता से जूझते हुये!

यह मेरी मौलिक सोच पर आर्धारित नहीं है। यह देबाशीष चटर्जी की पुस्तक Light the Fire in Your Heart के एक अंश से प्रेरित है।


रिटायर्ड विदेश सेवा के अधिकारी ने ७९ वर्ष की उम्र में प्रीत विहार, दिल्ली में अपने आप को गोली मार कर आत्महत्या कर ली है। अधिकारी ने लम्बी बीमारी और अकेलेपन को कारण बताया है आत्महत्या का। उनकी पत्नी स्पेन में थीं और बच्चे आस्ट्रेलिया और अमीरात में।

क्या वे ब्लॉगर होते तो आत्महत्या के चांस कम होते?!


Advertisements

44 thoughts on “बदलाव

  1. क्या वे ब्लॉगर होते तो आत्महत्या के चांस कम होते?मेरी समझ में ऐसा कतई नहीं है। आत्महत्या की प्रवृत्ति का कोई गणित नहीं होता। मन का अवसाद और नकारात्मक भावनायें कब जोर मार जायें कुछ नहीं कहा जा सकता। हेमिग्वे जैसे मजबूत कलेजे वाले ने आत्महत्या कर ली थी। क्या सिर्फ़ इसलिये कि वह ब्लॉगर नहीं था। झटके से ब्लॉग बन्द करने की घोषणा करना भी तो इसी अवसाद घराने की अभिव्यक्ति है। आजकल तमाम लोग कर रहे भी हैं। यहां भी दो कम से कम दो लोग (आप स्वयं और समीरलाल) भी ब्लॉग बन्द करने का पुण्यकाम कर ही चुके हैं एकाधिक बार।आत्महत्या करने वाला अगर ब्लॉगर रहा होता तो यह भी तो कर सकता है कि पहले वो ब्लॉग बन्द करता फ़िर जिन्दगी की दुकान।देबाशीष की किताब के बहाने आपने अपनी जो स्थिति बताई उससे लगता है कि आपकी अभिव्यक्ति इस किताब को पढ़कर कमतर हो गयी है। इससे सहज ढंग से आप तब यह बात अभिव्यक्त कर चुके हैं जब आपने यह किताब पढ़ी नहीं थी। देबाशीष की किताब के निष्कर्ष आपने यहां धर दिये जैसे हम पूरी किताब बांच ही रखे हैं। यह समझाऊ कम उलझाऊ ज्यादा है। आप अपने आप को जबरियन शुष्क, असामाजिक और न जाने क्या-क्या बता-बता कर बोर क्यों करते हैं। अपने दफ़्तर की फ़ाइल उठाकर अपने ब्लॉग पर काहे धर देते हैं। वैसे इंशाअल्लाह आपकी दफ़्तर की इमेज भी इत्ती चौपट नहीं है। यह मेरे आदमियों(दोस्तों) ने बताया जो आपके दफ़्तर में काम करते हैं।

    Like

  2. @ Vani- I partly agree with you that it provides a vent, but remember , it is increasing the dependency also. Consequently inducing anxiety and depression.

    Like

  3. @ Sanjay Bongani- ब्लॉगिंग से रक्तचाप तो कम किया जा सकता है. :)I agree with you completely.It helps maintaining the BP around 120/80 mm hg.Smiles.

    Like

  4. @ Zeal – Depression and Suicide are really complex issues; and blogging can not be cure. In fact, many a times virtual social connectivity creates it's own tensions as to know the limits of harmonious interaction face to face is easier than with a person in virtual realm.Still, I for the present feel that social network has substantial positive role, much more than the negative. Otherwise, blog/buzz/facebook/tweets would not last long!

    Like

  5. हिन्दी ब्लोगिंग में आप का योगदान महत्त्वपूर्ण है। आप से अनुरोध है कि कम से कम एक ढंग का अंग्रेजी ब्लॉग नियमित रूप से पढ़िए।

    Like

  6. @ Gyan ji-Virtual world is a solution to fight the difficulties of Real world in many ways.Different people come on net for different purposes. But all are getting some sort of solace here, which is not possible in real world.For some , its a good time pass. For few, it boosts their confidence. Some get appreciations here. Some are here with hidden agenda to harass and so on…But overall its a boon for human being.

    Like

  7. बहुत ही बढ़िया विश्लेषण…. ब्लॉग्गिंग एक let out तो देता ही है, निस्संदेहअकेलेपन का बढ़िया साथी…अंतर्मुखी लोगों के लिए वरदान… और,संवाद की सुविधा, निश्चय ही आत्महत्या की संभावनाएं कम जरूर कर देती है.

    Like

  8. कोई भी व्यक्ति अंतर्मुखी और अलग थलग हो सकता है, केवल नौकरशाह ही नहीं.अंतर्मुखी होना एक मनोवृति है. यदि बुजुर्गवार ब्लोगर (नियमित) होते तो संभवत: आत्म ह्त्या की संभावना कम होती.

    Like

  9. ब्लागिग से हमे काफ़ी फ़ायदे है और कुछ नुकसान भी.. काफ़ी कुछ सज्जन लोग पहले ही कह चुके है.. जो फ़ायदे मुझे मिले है या मुझे लगता है कि मुझे हुये है वो इस प्रकार है..- मै अपनी इन्ट्रोवर्ट इमेज से काफ़ी बाहर आया हू.. – मै एक आइडेन्टिटी क्राइसिस से गुज़र रहा था जो हमारी इनडस्ट्री मे उन लोगो के साथ काफ़ी नोर्मल है जिन्होने अपने आस पास एक भिन्न समाज देखा है और बाम्बे जैसे शहरो मे उनकी ये परिभाषाये बदली है..- धीरे धीरे नये नये शब्द सीख रहा हू जो कही न कही से मुझे और मेरी पर्सनालिटी को डेवलप ही करेगे..- अपनी रोजमर्रा की ज़िन्दगी मे कुछ प्रयोग करने की हिम्मत आयी है.. सोचा भी था कि ’बी पाजिटिव’ की एक श्रृंखला शुरु करूगा.. करनी भी है.. आपकी ’आत्मोन्नति’ जैसा ही कुछ..कुछ नुकसान भी हुये है– काफ़ी टाईम ब्लागिग ले जाती है जिसमे कुछ और क्रिऎटिव कार्य किया जा सकता था..- कभी कभार व्यर्थ की झंझटे होती है तो लगता है कि असल ज़िन्दगी की कम है क्या, जो इन्हे भी लेकर घूमू..- अब जब मै ज्यादा टाईम यहा रहता हू, बडी आसानी से आसपास वाले बोल जाते है कि तुम तो virtual world मे जीते हो.., इससे बाहर निकलो.. :)@ZealI agree with you on some points Buddy, blogging obviously helps us in overcoming stress but that also depends on the person.. Hope you've not read about the different fights over here and thats a universal truth.. In any development, such noises can be heard and hindi blogging is under development..Few months back, even I had tried Yahoo chat rooms to reduce my stress. I have written an analysis here.संजीत त्रिपाठी जी से भी हमारी मुलाकात वही हुयी थी 🙂

    Like

  10. ब्लॉगिंग के क्षेत्र में, सामाजिकता के प्रयोग के कारण क्रूर तानाशाह तो शायद ही कोई दिखे। चल ही न पायेगा यहां। पर स्ट्रीट स्मार्ट बहुत से दिख सकते हैं। नैतिक नेतृत्व के उदाहरण अवश्य दिख जायेंगे इक्का-दुक्का। अधिकांश अलग-थलग नौकरशाह की गोल के लोग होंगे – अपनी नैतिकता और सामाजिकता से जूझते हुये!सहमत हू.. अपने आप को अभी ’अलग थलग’ वाले ब्लाक मे जूझता हुआ देख सकता हू..

    Like

  11. युनुस जी ने ही सबसे पहले बात कही, सो उन्हें ही संबोधित कर रहा हूँ.. 🙂 अगर नौकरशाह को ब्लोगर बनाने कि बात चल रही है तो आप मेरे पिताजी को भी ब्लोगर बना ही दें.. आजकल रिटायर भी चल रहे हैं.. मुझसे यह नेक काम ना हो सका.. 😀

    Like

  12. @ Pankaj Upadhyay- Read your blog by the given link in your comment and also i commented there. I do agree with your points mentioned there. I too have witnessed and experienced the same.And honestly speaking, i have not seen any difference in real and virtual worlds. In both the worlds ,people are alike. A merit of virtual world is that a person doesn't face identity crisis. Here a person can present him/herself without hesitation. A sense of equality can be felt. Its provides a good vent also. Otherwise the pent up emotions makes a person mentally sick. Virtual world gives a sense of equality, confidence, entertainment, interaction with like minded people and so on.. I consider it as a 'wonder-drug' and boon for inquisitive people. Thanks to technology !Pankaj ji…"Life is nothing but experiences…keep renovating it"Smiles !

    Like

  13. कुछ ना कुछ सकारात्मक तो होता ही है ब्लॉग्गिंग ! (बस वर्चुअल वर्ल्ड की असल से दूरी खलती है !)

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s