द्विखण्डित


Gyan900-001 कटरा, इलाहाबाद में कपड़े की दुकान का मालिक, जो स्त्रियों के कपड़े सिलवा भी देता है, अपनी व्यथा सुना रहा था – “तेईस तारीख से ही सारे कारीगर गायब हो गये हैं। किसी की मां बीमार हो गई है। किसी के गांव से खबर आई है कि वापस आ जा। तुझे मार डालेंगे, काट कर फैंक देंगे!”

“कौन हैं कारीगर? हिन्दू कि मुसलमान?”

“ज्यादातर मुसलमान हैं।”

पर मुसलमान क्यों दहशत में हैं? ये ही तो दंगा करते थे। यही मारकाट मचाते थे। यह सामान्य हिन्दू परसेप्शन है।

कोई कहता है – “बाबरी मामले के बाद इतने तुड़ाते गये हैं कि अब फुदकते नहीं। पहले तो उतान हो मूतते थे।”

Gyan879 उधर मेरी सास जी बारम्बार फोन कर कह रही थीं – ज्ञान से कह दो चौबीस को दफ्तर न जाये। छुट्टी ले ले।

पर अगर दंगा हुआ तो चौबीस को ही थोड़े न होगा। बाद में भी हो सकता है। कितने दिन छुट्टी ले कर रहा जा सकता है? मेरी पत्नी जी कहती हैं।

अब तू समझतू नाहीं! मन सब खराबइ सोचऽला। हमार परेसानी नाहीं समझतू।

मैं द्विखण्डित हूं। हिन्दू होने के नाते चाहता हूं, फैसला हो। किच किच बन्द हो। राम जी प्रतिस्थापित हों – डीसेण्टली। पर यह भय में कौन है? कौन काट कर फैंक डाला जायेगा? 

मुसलमान कि हिन्दू? आर्य कि अनार्य? मनई की राच्छस?

मन के किसी कोने अंतरे में डर मैं भी रहा हूं। जाने किससे!   


Advertisements

भाग तीन – कैलीफोर्निया में श्री विश्वनाथ


यह श्री गोपालकृष्ण विश्वनाथ की उनकी कैलीफोर्निया यात्रा के दौरान हुये ऑब्जर्वेशन्स पर आर्धारित तीसरी अतिथि पोस्ट है:


सफ़ाई और कचरे का निस्तारण (garbage disposal)
==========================
एक और बात आप वहाँ (कैलीफोर्निया) पहुँचते ही नोटिस करेंगे और वह है वहाँ का साफ़ वातावरण।
रास्ते में कहीं भी कूड़ा-कचरा देखने को नहीं मिलेगा।

garbage bins awaiting the clenaing truck

जरा देखिए इस तसवीर को। यह है घर से बाहर निकलकर रास्ते और कोलोनी का एक दृश्य।
इतना साफ़ कैसे रखते हैं ? मैने कोई सफ़ाई कर्मचारी सड़क को साफ़ करते हुए देखा नहीं।
इसका राज है वहाँ के नागरिकों का सहयोग। हर परिवार को म्युनिसिपैलिटी से तीन किस्म के डिब्बे दिये जाते हैं।

यह डिब्बे अलग रंग के होते हैं। एक में रसोई से निकला कूड़ा (organic waste);  दूसरे में प्लास्टिक का कूड़ा जो recyle हो सकता है और तीसरा बाग/बगीचे से पैदा हुआ कूड़ा (जैसे सूखे पत्ते, टूटी हुई टहनियाँ वगैरह)। (चित्र देखिए)

truck lifting the bin with a motorised attachment 

हर बृहस्पतिवार को ये डिब्बे सुबह सुबह घर के सामने रास्ते के एक छोर पर रखे जाते हैं और सफ़ाई कर्मचारी (बस एक ही आदमी) अपने ट्रक में आता है और उन्हे खाली करके डिब्बों को वहीं छोड जाता है। चित्र में  देखिए ट्रक कैसे उन डिब्बों को उठाता है। ट्रक का ड्राईवर ट्रक के बाहर निकलता ही नहीं। बस केवल आधे घंटे में कोलोनी के सभी घरों को निपटा लेता है। डिब्बे का साईज़ देखिए। एक आदमी उसमें घुस सकता है। पूरे हफ़्ते का मैल उसमें जमा हो जाता था।

सड़कें और ट्रैफ़िक
============
मुख्य सड़कें इतनी चौड़ी थीं, कि पूछो मत। शायद २०० फ़ुट से भी ज्यादा । हमने ऐसी सडकें भारत में कहीं नहीं देखी। न कोई गड्डे, न कोई स्पीडब्रेकर।

Locality

कहीं कोई आबादी दिखती ही नहीं। लगता था सभी लोग या तो अपने घर के अन्दर, या कार्यालय के अन्दर या अपनी कार के अन्दर हैं। सारा शहर एक भूतों की बस्ती (Ghost Town) लगता था। भारत के शहरों का भीड़ भाड़, शोरगुल, मैल, धूल, रास्ते में चलती गाएं, दुकानें, भिखमंगे, कुत्ते, कुछ भी वहाँ देखने को नहीं मिले। यदि लोगों को देखना हो  तो किसी मॉल जाना पडता था। रास्ते में चलते वक्त हम अपनी मर्जी से कहीं भी रास्ता पार नहीं कर सकते थे। केवल नियुक्त स्थानों पर ही पार कर सकते थे। भारत में तो हम बडी मुस्तैदी से, यहाँ वहाँ उछल कूद करके  ट्रैफ़िक के बीच वाहनों से बचते बचते सडक पार करते हैं। वहाँ ऐसा करना jay walking कहलाता है जो जुर्म है और पुलिस हमें अन्दर कर देगी! नियुक्त स्थानों पर पैदल चलने वाले ट्रैफ़िक लाईट स्वयं चला सकते हैं। एक खंबे में स्विच दबाने से कुछ देर बाद गाडियों के लिए लाल बत्ती जलने लगती है और सभी गाडी प्यादे के लिए रुकती है।

पानी, बिजली, गैस 
=============
आप नल का पानी बेहिचक पी सकते हैं। इतना शुद्ध होता था वहाँ का पानी।
कहीं कोई ओवरहेड (overhead tank) देखने को नहीं मिला। पानी सीधे पंप होता था घर के सभी नलों तक।

पूरे महीने में एक भी दिन, एक क्षण के लिए भी बिजली चली नहीं गई। २४ घंटे पानी और बिजली का इन्तजाम था।

घर में कोई वोल्टेज स्टेबलाइज़र (voltage stabilizer) भी नहीं दिखे।

गैस का सिलिन्डर भी देखने को नहीं मिला। गैस सीधे नलियों से रसोई घर तक पहुँचता थी। गैराज में मीटर था जिसके  हिसाब से गैस का बिल चुकाना पडता था।

refrigerator bigger than steel almirahs in India

फ़्रिज (refrigerator) तो इतना बडा था की हमें लगा कि कोई अलमारी है। (चित्र देखिए) । दस पन्द्रह दिन का दूध, तरकारी, वगैरह उसमें भर कर रखते थे। ताजा खाना तो इन बेचारों को नसीब ही नहीं। दोनों (मियाँ बीबी) काम पर जाते थे । किसके पास समय है? हफ़्ते भर के लिए पका कर फ़्रीज़र में रख देते थे। हमें तो यह अच्छा नहीं लगा और जब तक हम थे, पत्नी रोज पकाती थी। बेचारे दामाद को तो यह ताजा पकाया खाना बैठ कर खाने की फ़ुरसत भी नहीं मिलती थी। सुबह सुबह खड़े खड़े या घर के अन्दर चलते फ़िरते ही अपना नाश्ता करता था और वह भी रोज वही मेनु (cornflakes, cereal,   दूध के साथ)। शनिवार/रविवार को ही उसे हमारे साथ प्यार से बनाया गया ईड्ली/डोसा वगैरह आराम से और बडे चाव से खाने का अवसर मिलता। यह सोफ़्टवेयर वाले कमाते खूब हैं पर कभी सोचता हूँ आखिर किस के लिए। अपने कैरियर की भाग दौड में, जिन्दगी जीने का अवसर ही नहीं मिलता।

इण्टर्नेट (Internet)
===========
इंटर्नेट की गति तो मेरे यहाँ बेंगळूरु से चार गुणा अधिक थी। पहली बार You Tube के विडियो हम बिना buffering देख कर आनन्द उठा सकते थे।  वेब साइट पर जाकर अपनी पसन्दीदा फ़िल्में चुन सकते थे और यह फ़िल्में अपने टी वी पर इंटर्नेट से direct streaming करके देख सकते थे। मात्र १० डॉलर प्रति महीने  का शुल्क था इस सुविधा  के लिए।

सुरक्षा (Security)
==========
No grills in the glass window and back door from kitchen leading to back yard

घर में सभी खिडकियों में केवल काँच का शटर था। लोहे के ग्रिल कहीं नहीं देखे। रसोई घर का चित्र देखिए। बेटी से पूछा क्या डर नहीं लगता? कोई भी अन्दर घुस सकता है? security का क्या इन्तजाम है? उसने जवाब दिया " कोई इन्तजाम नहीं. यहाँ अब तक कोई घटना नहीं घटी। सभी घर ऐसे ही हैं। यहाँ घर आराम से रहने और जीने के लिए बनते हैं, सुरक्षा के लिए नहीं। लोग घर बदलते रहते हैं और घर से उनका कोई स्थाई लगाव (attachment) नहीं होता। उन्हें अगली पीढी के लिए विरासत छोडने का खयाल ही नहीं आता।

आगे अगली किस्त में।

शुभकामनाएं

G Vishwanath Small 
जी विश्वनाथ


श्री विश्वनाथ जी की मेल से प्राप्त प्रति-टिप्पणिया:
@Mrs Asha Joglekar और वाणी गीतजी,

यहाँ भारत में हम मजबूर होकर बचा हुआ खाना फ़्रिज में रखते हैं क्योंकि हम यह नहीं चाहते कि खाना खराब होकर बर्बाद हो जाए। अगले दिन उसे गर्म करके या कुछ जुगाड करके उसे खाते हैं। पर अमरीका में अधिक मात्रा में पकाना और फ़्रिज में रखना पूर्वनियोजित हो गया हैं। Canned Food बहुत ही ज्यादा खाते हैं ये अमरीकी लोग।

@प्रवीण पाण्डेजी,
“कम्पोस्ट” पर आप विस्तृत “पोस्ट” “compose” करने जा रहे हैं। इन्तजार रहेगा। इस बहाने आपकी श्रीमतिजी से भी सभी मित्र परिचित हो जाएंगे। इन्तजार रहेगा

@अजीत गुप्ताजी,

flexitime की सुविधा हर एक को नसीब नहीं होता। उनके काम की विशेषता पर निर्भर होता है। जिनका काम अन्तरजाल से संबन्धित है उन्हें कभी कभी देर रात को भी तैयार रहना पडता है। Networking Web Site maintenance या networking web site programming का काम तो २४ घंटे चलता रहता है क्योंकि किसी भी समय, दुनिया के किसी भी कोने से लोग वहाँ पहुँचते हैं। “Networking” कभी भी “not working” नहीं बनना चाहिए।

@धीरु सिंह्जी, शोभाजी, अन्तर सोहिलजी, ghost buster जी, और विष्णु बैरागीजी

मामला रोचक है। क्या चीन की आबादी हमसे भी ज्यादा नहीं? बेजिंग और शैंघाई के चित्र हमने देखी थी और बहुत प्रभावित हुआ था। यहाँ भारत में भी कई ऐसी जगह मिल जाएंगे जहाँ आबादी कम है पर मैल/गन्दगी की कोई कमी नहीं। स्वच्छता और आबादी के आपसी सम्बंध पर शायद कोई अच्छा पोस्ट लिखा जा सकता है।

@पंकज उपाध्यायजी,
आपका quotation अच्छा लगा। आप सही कह रहे हैं। कई लोग इस सोफ़्टवेयर लाईन को समझ नहीं पा रहे हैं।
मेरे ससुरजी भी बार बार हमसे पूछते हैं कि यह सोफ़्टवेयर बला क्या होता है। कंप्यूटर तो समझ में आ गई। हमने समझाने की कोशिश की, टीवी और रेडियो का उदाहरण देकर। हमने कहा टीवी/रेडियो hardware होता है और टी वी प्रोग्राम software होता है। सुना है श्री लालू प्रसाद यादवजी ने भी एक बार किसी से पूछा था “यह IT/Wyti क्या होती है?”

@रश्मि रवीजाजी,
आप ठीक कह रही हैं। Weekends का पूरा मजा लेते हैं यह अमरीकी लोग। आपने कहा “जबकि यहाँ सातों दिन काम करने में ही लोग तारीफ़ समझते हैं.” पर हमारे यहाँ कुछ लोग तो सातों दिन आराम चाहते हैं।

@रंजनाजी, e pandit जी, मनोज कुमार जी, प्रवीण त्रिवेदीजी, विनोद शुक्लाजी
टिप्प्णी के लिए धन्यवाद

cmpershad jee,

आखिर कितना segregation कर सकते हैं? कोई सीमा तो होनी चाहिए। नहीं तो घर के सामने केवल डिब्बे ही डिब्बे नज़र आएंगे। शायद जो recycle हो सकते हैं या जिसे dry waste कहा जा सकता हैं ,उसके लिए एक ही डिब्बा नियुक्त होता है।
कभी कभी तो हम भी सोच में पडते थे कि फ़लाँ कूडा किस डिब्बे में डाला जाए।

@राज भाटिया जी,
आप की बात से सहमत हूँ। ज्ञानजी भी यही कह रहे हैं। आबादी को हमें एक बहाना नहीं बनाना चाहिए।

@डॉक्टर महेश सिन्हाजी,

“यहाँ तो लोग कचरे का डब्बा भी गायब कर दें”
यह आपने मज़ेदार बात कही। हाँ आपका यह भी बात सही है कि भारत में लोहे का ग्रिल से भी हमें सुरक्षा की कोई गारन्टी नहीं। आजकल अमरीकी लोगों को चोरों से डर नहीं लगता। आतंकवाद का डर है। कभी कभी कुछ लोग paranoid behaviour का प्रदर्शन करते हैं।

@अनिताजी,
मैं तो वापस आ गया हूँ। केवल एक महीने के लिए वहाँ गया था। आप बेंगळूरु आई थीं।
इस बार आप हमसे बच निकले। अब आगे कोई बहाना नहीं चलेगा। अगली बार जब आप बेंगळूरु आएंगे, आशा है आप से मुलाकात होती।

@भारतीय नागरिक जी,
आप से सहमत हूँ। उन लोगों की अच्छाईयोंको हमें अपनाना चाहिए। उनका work culture प्रशंसनीय है। किसी भी काम में गुणवत्ता पर जोर देते हैं। समय का भी पूरा खयाल रखते हैं। Schedules उनके लिए sacred होते हैं जिसे वे बहुत seriously लेते हैं।

@अभिषेक ओझा जी,
न्यू यॉर्क तो बिलकुल अलग है। उससे कोई comparison व्यर्थ है। इस बार हम वहाँ जा नहीं सके। अगली बार जाएंगे।

@स्मार्ट इन्डियन्जी,

अगली बार हम international licence लेकर जाएंगे। पर बेटी और दामाद कहते हैं की मुझे वहाँ कार नहीं चलानी चाहिए। वे तो यह मानते हैं की भारत का chaotic Traffic का हम इतने आदि हो चुके हैं कि हम orderly traffic से adjust नहीं कर पाएंगे!

सभी मित्रों को धन्यवाद। बस कुछ ही दिनों में ज्ञानजी को चौथी किस्त भेजूँगा। ज्ञानजीने मुझे यहाँ जगह दी उसके लिए आभारी हूँ।
शुभकामनएं
जी विश्वनाथ


भाग दो – कैलीफोर्निया में श्री विश्वनाथ


यह श्री गोपालकृष्ण विश्वनाथ की अतिथि पोस्ट है:

एक और बात मैंने नोट की और वह है ये अमरीकी लोग अपनी प्राइवेसी (privacy) पर कुछ ज्यादा ही जोर देते हैं।  अमरीकी नागरिक खुलकर  बातें नहीं करते थे हम लोगों से। हम जैसे कम्यूनिकेटिव (communicative) नहीं होते। शायद मेरा यह अनुमान गलत है और सिर्फ़ मेरे साथ ऐसा हुआ। या फ़िर मैं ही कुछ ज्यादा बोलता हूँ!

रास्ते में टहलते समय, अजनबी लोग भी भले  "Hi" या "Hello there" या "Good morning" कहते, पर उसके बाद झट से निकल जाते थे।

यह तब होता था जब हमसे "eye contact" होता था। मेरी बेटी ने चेतावनी दी थी कि इसे गपशप का निमंत्रण न समझूँ।

मुझसे बस इतनी ही अपेक्षा की जाती है कि मैं भी मुस्कुराकर "हेल्लो" कहूँ और निकल जाऊँ। भारत में जब कोई इस तरह बात करना आरंभ करता है अवश्य और बातें भी होती हैं और आगे चलकर दोस्ती में बदल सकती है। पर यहाँ रिवाज अलग है.

यह हेल्लो या गुड मॉर्निंग कहना केवल एक खोखली औपचारिकता है या common courtesy है। इस ग्रीटिंग के पीछे कोई दोस्ती का इरादा बिल्कुल नहीं। भारत में यदि हम किसी से आगे बात नहीं चलाना चाहते हैं तो पहले नमस्ते ही नही करते। हमें यह अजीब लगा। कुछ दिन बाद इस बर्ताव से ऊबकर, हम तो अजनबी से नज़र बचाकर ही निकल जाते थे। मुझे हैरत तब हुई जब ऐसा बर्ताव हम जैसे भारतीय लोगों ने भी किया।

सोचा था शॉपिंग मॉल (shopping mall) में मिले हम उम्र भारतीय लोगों से कम से कम संपर्क कर सकूँगा और कुछ इधर उधर की बातें कर सकूँगा पर आगे चलकर पता चला कि इन लोगों को भी यह बीमारी लग गई है! बस आगे चलकर जब तक किसी से formal introduction नहीं हुआ था, हम अपनी तरफ़ से, न उनको हेल्लो कहते और न उनसे बात करने की कोशिश करते। अमरीकी लोगों को छोडिए, पूरे महीने में एक भी भारतीय निवासी, shopping malls में या पर्यटक स्थलों पर  मुझसे बात करने की कोशिश नहीं की। इतने साल में भारत में जगह जगह घूमा हूँ पर ऐसा मैने कभी अनुभव नहीं किया।

Cycles तरह तरह के साइकल देखे। गियर युक्त और बहुत ही तेज चलने वाली। यहाँ साइकल व्यायाम के लिए या खेल कूद के संबंध में काम आते हैं। टहलते समय सावधान रहना पढ़ता था। दूर से इशारा करके  या बोलकर अपने आने का संकेत या घोषणा करते थे ताकि टक्कर न हो। चालीस Km/hr की गति या उससे भी ज्यादा चलती थी ये साइकलें। एक और अजीब बात मैंने नोट की। बेंगलूरु में मोटर साइकल और स्कूटर चालक भी कानून तोडकर बिना हेल्मेट पहने वाहन चलाते हैं पर यहाँ साइकल चलाने वाले भी हेल्मेट पहनकर ही साइकल चलाते है। कई कारें देखी जहाँ पीछे डिक्की के साथ साइकल अट्टैच हो सकती थी। लोग अपनी साइकल अपनी कार के साथ ले जाते थे। यह मेरे लिए एक अनोखी बात थी।

Sofa बिस्तरों पर गद्दे इतने soft थे कि पहले दो दिन तक मुझसे उनपर सोया ही नहीं गया। सारी रात करवट बदलता रहा। फ़िर जाकर मेरी बेटी हमारे लिए अलग hard mattress खरीद ले आई। उनके सोफ़े पर हम बैठ ही नहीं सके। सोफ़ा इतना दब जाता था कि हमें उठने में परेशानी होती थी। बेटी ने कहा यहाँ सभी सोफ़े ऐसे ही मिलेंगे। बात सही थी। कुछ दोस्तों और रिश्तेदारों के यहाँ भी सोफ़े ऐसे ही निकले। हमसे बैठा ही न गया। परेशान होकर हमने सोफ़े पर बैठना छोड दिया। टी वी देखते वक्त हम आराम से सोफ़े के नीचे जमीन पर बैठ जाते थे। जब मेहमान आते थे हम डाइनिंग टेबल की कुर्सी पर बैठकर बात करते थे।

आगे तीसरी किस्त में

शुभकामनाएं

जे विश्वनाथ


इलाहाबाद में साइकलें:

Gyan874-001 आपने कैलीफोर्निया की साइकलें विश्वनाथ जी की पोस्ट में देखीं। चमकदार, गियरयुक्त। यहां इलाहाबाद में काम पर आने जाने के लिये साइकलें इस्तेमाल होती हैं। दफ्तर जाते हुये मैने गिनीं – हर पच्चीस मीटर पर एक साइकल। औसत पांच-सात किलोमीटर चलाता होगा व्यक्ति अपने काम पर जाने के लिये।

मेरा चपरासी बत्तीस किलोमीटर गांव से आता जाता है साइकल पर। दूरी ज्यादा होने के कारण रोज आने जाने से बचता है और किसी के घर रुक जाता है। Gyan846

कई सब्जी बेचने के फेरीवाले साइकल पर फेरी लगाते हैं। एक से मैने पूछा – ठेला क्यों नहीं ले चलते? उसने कहा कि वह पास के गांव में रहता है। सब्जी बेच कर लौटते हुये साइकल ट्रांसपोर्ट का भी काम देती है। लिहाजा साइकल बेहतर है।

साइकल हमारे यहां व्यायाम नहीं; लाइफलाइन है।   


DSC02555 कैलीफोर्निया से कलुआ (अपडेट सवेरे पौने छ बजे) :  सवेरे  जल्दी उठ गया – पौने चार बजे। एक घण्टे बाद गंगा तट पर गया तो भोर फूट रही थी। मैं अकेला था, सो गली का कुकुर कलुआ साथ हो लिया। मुझे पानी/नदी/तालाब पर अकेले जाने की डाक्टरी मनाही है। कलुआ ने पूरी तरह मेरा शैडो काम किया। बिना आज्ञा दिये।

टिटिहरी भोर में टायं-टांय कर रही थी। कुछ पक्षी पंक्तिबद्ध गंगा के पानी पर मंडरा रहे थे। लगता है उन्हे भी अनिद्रा का रोग है! इक्का-दुक्का स्नानार्थी थे। एक दो गाय गोरू। बस।

विश्वनाथ जी का कैलीफोर्निया, हमारा कलुआ। “क” की आवृति का अलंकार भर है साम्य में! अन्यथा एक चमकदार; दूसरा काला कलुआ!

कलुआ    


श्री जी विश्वनाथ की प्रतिटिप्पणियां (सितम्बर २०’२०१० को दोपहर में पोस्ट की गयीं):
@रानीविशालजी.
आशा करता हूँ कि आपकी कैलिफ़ोर्निया यात्रा सुखद रही।
हम तो यही सुनते हैं कि भारतीयों के लिए अमेरीका में यही सबसे अच्छी जगह है।
पर यह भी सुना कि यहाँ cost of living सबसे अधिक है।

@महेन्द्र मिश्राजी,
आप ठीक कहते हैं। हम लोग तो कुछ ज्यादा ही बोलते हैं
मेरी भी यही कमज़ोरी है।

@मनोज कुमारजी, स्मार्ट इन्डियनजी, पी एन सुब्रमणियनजी, रंजनाजी, काजल कुमारजी,
टिप्पणी के लिए धन्यवाद

@अभिषेक ओझाजी,
Yes, I agree. Perhaps the right behaviour is in between these two extremes.

@अजीत गुप्ताजी,
अवश्य अवसर मिलने पर आपकी किताब हम पढना चाहेंगे!
Amway वाली बात सुनकर हमें मुस्कुराना पढा।
बात सच हैं। यहाँ बेंगळूरु में भी, एक मित्र नें मुझे भी इसमें फ़ंसाने की कोशिश की।
हम किसी तरह बच निकले थे।

@अन्तर सोहिलजी,
ठीक कहा आपने। यहाँ नमस्ते वगैरह केवल मर्द और मर्द, या औरत और आरत के बीच की जाती है।
पर वहाँ महिलाएं भी कभी कभी हमें देखकर मुस्क्राकर “हेल्लो” कहते थे।
लेकिन यह सभी महिलाएं मेरी उम्र के आसपास ही थीं।
सुन्दर युवतियाँ तो हमारी तरफ़ देखती भी नहीं थीं।
चलो अच्छा हुआ। मेरी श्रीमतीजी इससे नाखुश नहीं है।

@प्रवीण पाण्डेजी,
ठीक कहा आपने।
हम भी साइकल के बारे में यही सोचते हैं।
गरीब और मध्यवर्गीय लोग भले ही साइकल यातायात के लिए उपयोग करते हैं पर यहाँ अमीर लोग तो व्यायाम या क्रीडा समझकर चलाते हैं। काश एक ऐसा यंत्र होता जो घर बैठे साइकल की तरह चलाया जा सकता और जिससे घर के जमीन के नीचे की टंकी से छत के ऊपर रखी टंकी तक पानी को चढा सके। या किसी बैट्टरी का चार्जिन्ग कर सके जो कम से कम लाईटिंग के लिए काम आए।

@cmpershad jee,
बिल्कुल ठीक कहा आपने। टहलते समय और शॉप्पिंग करते समय हमने इतने सारे प्यारे प्यारे बच्चे/शिशु देखे।
दिल तो बहुत करता था उन्हें पुचकारूँ। पर अपने आपको रोकना पढा। मुझे दस साल का एक पुराना किस्सा याद आ रहा है। एक बार यहीं अपने देश में ही, मैं किसी बहुमंज़िली इमारत में लिफ़्ट में ऊपर जा रहा था। एक विदेशी परिवार लिफ़्ट में मेरे साथ थे। उनका एक छ: साल का बहुत ही सुन्दर और प्यारा लडका था। उसने मेरी तरफ़ देखकर मुस्कुराया। हम से रहा नहीं गया। हम ने प्यार सी उसके सर के बाल को सहलाया। लडके के बाप को यह अच्छा नहीं लगा और उसने मुझे भला बुरा कहा। हमने उससे माफ़ी माँगी और, अपनी मंजिल पर पहुँचने पर, भारी दिल से लिफ़्ट के बाहर निकले। बस, जाते जाते एक आखरी बार उस प्यारे बच्चे की तरह मेरा ध्यान चला गया।
बच्चा मेरी तरफ़ देख रहा था और एक भोली सी और शरारती मुस्कुराहट थी उसके होंठो पर। मैं अपनी मानसिक चोट को उसी क्षण भूल गया। मन को भी शांती मिल गई । बाप को मारो गोली! बच्चे को तो अच्छा लगा था। मैं ने शायद केवल गलती की थी, कोई अपराध नहीं। उस दिन से हम औरों के बच्चों को फ़ूल की तरह मानते हैं। दूर से देखो, और आनन्द उठाओ। बात करो उनसे पर जब तक वे हमारे परिवार या सगे संबन्धी के नहीं होते उन्हें पुचकारना तो दूर, उन्हें छूना भी मत।

@रंजन,
Yes, I too observed this. There is a metro service in the Bay area of California which connects some places.
There is a provision to carry your cycle inside the compartment. I once saw a huge family trailer on the highway and they were carrying a small boat in it!

@अनिता जी.

इतने दिनों बाद आपसे ब्लॉग जगत में फ़िर मुलाकात हो रही है। हमें खेद है की आप बैंगळूरु आई थीं पर हम से सम्पर्क नहीं कर सके। कोई बात नहीं। इस बार नहीं तो अगली बार ही सही। खबरदार, हम भी कम नहीं बोलते। प्रवीण पाण्डेजी से पूछिए। बस दो दिन पहले ही उनके यहाँ गया था। He is still rubbing his tired ears after that long and continuous बक बक from me.

@सतीश पंचमजी.
जो सबक आप सीखे , यहीं बैठे बैठे, हमें इतनी दूर जानी पडी! बस अब कभी भूलूँगा नहीं।

@हेमन्त कुमार जी,
सहमत। यहाँ अपने देश में प्यार और भाइचारा जो दिखता है वह कैलिफ़ोर्निया में कहाँ ।
रेल के डिब्बे में सफ़र करते समय, हम तो सह यात्रियों से जितनी खुलकर बातें करते हैं वह तो वहाँ संभव ही नही।

@मो सम कौन जी,
हम भी इस मामले मे हमेंशा देशी ही रहेंगे।
पहली रात के बाद जब तक नये गद्दे का इंतजाम नहीं हुआ था, हम तो खटिये के बगल में फ़र्श पर ही सोते थे।

@अनूप शुक्लाजी
बस केवल पैसे के लिए, कैरियर के लिए।
हमने अब तक किसी भारतीय से नहीं मिला जिसने कहा कि हम अमेरीका इस लिए चले आए क्योंकि हमें अपने देश से प्रेम नहीं।

@rashmi ravija,

“If U see a friend without a smile, give him one of urs.”
अच्छा लगा यह quotation. But be prepared for a snub and learn to take it in your stride.
Some people will not smile because they dont want to.

“A smile is like a light in the window of the face that shows that the heart is at home.”

I am reminded of this quotation also.

@विष्णु बैरागीजी,

टिप्पणी के लिए ध्न्यवाद। बस कुछ ही दिनों में तीसरी किस्त ज्ञानजी को भेज दूँगा।
आपकी टिप्प्णी का इन्तज़ार रहेगा।

@भारतीय नागरिकजी,
कुछ लोग कहते हैं कि २६/११ के बाद अमरीकी लोग paranoid हो गये हैं।
पर मैं नहीं मानता के उनका यह व्यवहार २६/११ से किसी तरह जुडा हुआ हैं।
उनका यह व्यवहार केवल हमसे नहीं था, आपस में भी वे यही व्यवहार करते थे।
====================

सभी मित्रों को मेरी शुभकामनाएं
जी विश्वनाथ


“रुद्र” काशिकेय पर प्रथम टीप


अपनी मूर्खता पर हंसी आती है। कुछ वैसा हुआ – छोरा बगल में ढुंढाई शहर में! 

राहुल सिंह जी की टिप्पणी थी टल्लू वाली पोस्ट पर –

अपरिग्रही टल्‍लू ने जीवन के सत्‍य का संधान कर लिया है और आपने टल्‍लू का, बधाई। जगदेव पुरी जी से आपकी मुलाकात होती रहे। अब आपसे क्‍या कहें कि एक थे शिव प्रसाद मिश्र "रूद्र" काशिकेय

मैने उन्हे पूछा कि ये रुद्र काशिकेय कौन हैं? और राहुल जी ने बताया कि उनकी पुस्तक है बहती गंगा, जिसके चरित्रों सा है टल्लू। उनकी मेल के बाद मुझे बहुत तलब हुई बहती गंगा प्राप्त करने की। बोधिसत्व जी की प्रोफाइल में जिक्र था इस पुस्तक का, लिहाजा उनसे पता किया कि यह राधाकृष्ण प्रकाशन ने छापी है। अगले दिन लंच से पहले यह पुस्तक मेरे पास दफ्तर में थी!

बहती गंगा के शुरू के तीन पन्ने पढ़ते ही पता चल गया कि यह पुस्तक मैने दो साल पहले खरीद रखी है! उस समय हिन्दी/भोजपुरी/अवधी में पढ़ने में वह फर्राटी चाल न थी, लिहाजा यह पुस्तक अनपढ़ी किताबों के जंगल में खो गई थी। और खो गया था रुद्र काशिकेय जी का नाम भी। यह देखिये पहले (सन २००६) और अबके (सन २०१०)  संस्करण में बहती गंगा के प्रथम पृष्ठ:

Gyan883-002 Gyan875-002

है न; छोरा बगल में ढुंढाई शहर में! 

मैने दो साल पहले यह पुस्तक क्यों नहीं पूरी की? पहली बात तो यह कि शुरू के पन्नों की भोजपुरी पुट-ऑफ कर रही थी। दूसरे यह कि किसी ने इस प्रकार से इण्ट्रोड्यूस नहीं किया था, जैसे राहुल जी और बोधिसत्व जी ने किया।

और मुझे लगता है कि हिन्दी साहित्य की खेमेबन्दी “रुद्र” जी के बारे में वह प्रचार-प्रसार होने नहीं देती!

खैर, आगे लिखूंगा “रुद्र” जी के बारे में। अभी तक जो समझ पाया, उसके अनुसार वे हर कोने-अंतरे से देशज चरित्र ढूंढ़ने और कथायें तलाशने/बुनने वाले सिद्धहस्त साहित्यकार थे। उनकी बनारसी इश्टाइल की “गुरुआई” (जिसमें भांग का नित्य सेवन अनिवार्य हो) एम्यूलेट (emulate) करने की साध भले न हो, उनका बहुत कुछ है जो सीखने समझने का मन करता है।


नन्दी जी की गर्लफ्रेण्ड:

Nandi Girlfriend1


हिन्दी में पुस्तक अनुवाद की सीमायें


दो पुस्तकें मैं पढ़ रहा हूं। लगभग पढ़ ली हैं। वे कुछ पोस्ट करने की खुरक पैदा कर रही हैं।

खुरक शायद पंजाबी शब्द है। जिसका समानार्थी itching या तलब होगा।

पहली पुस्तक है शिव प्रसाद मिश्र “रुद्र” काशिकेय जी की – बहती गंगा। जिसे पढ़ने की प्रेरणा राहुल सिंह जी से मिली। ठिकाना बताया बोधिसत्त्व जी ने। विलक्षण पुस्तक! इसके बारे में बाद में कहूंगा। आगे किसी पोस्ट में।

Rozabal दूसरी पुस्तक है अश्विन सांघी की “द रोज़ाबल लाइन”। जबरदस्त थ्रिलर। यह पुस्तक शिवकुमार मिश्र ने मुझे दी। मैं सबके सामने शिव को धन्यवाद देता हूं!

इस्लाम और क्रिश्चियानिटी की विध्वंसक मिली भगत; कर्म-फल सिद्धान्त; पुनर्जन्म की अवधारणा, बाइबल के चरित्रों के हिन्दू साम्य इत्यादि ऐसे खम्भे हैं, जिनसे एक इतना स्तरीय उपन्यास बुना जा सकता है – यह देख अश्विन की कलम का लोहा मानना पड़ता है। कितनी डीटेल्स भरी हैं इस उपन्यास में! तथ्य कहां खत्म हुये और कल्पना का इन्द्रधनुष कहां तना – वह सीमा तय करने में आम पाठक बहुधा गच्चा खा जाये।

मैं अर्थर हेली का प्रशंसक रहा हूं। तब के जमाने से कोई इस तरह की पुस्तक पढ़ता हूं, तो यह सोचने लगता हूं कि इसका हिन्दी अनुवाद किया जायेगा तो कैसे? और हमेशा मुझे अपने जमाने की हिन्दी में एक्सप्रेशन की तंगी नजर आती है! इस पुस्तक के बारे में भी मैने सोचा। हिन्दी अनुवाद? मेरी अपनी शंकायें हैं।

एक अद्वितीय कैल्क्युलस की किताब या मेरी सुग्राह्य अभियांत्रिकी की पुस्तकें अभी भी हिन्दी में नहीं बन सकतीं। एक खांची अप्रचलित अनुवाद के शब्द उंड़ेलने होंगे। और उनके प्रयोग से जो दुरुह पुस्तक बनेगी, उसे पढ़ने वाला विरला ही होगा।

हिन्दी में टेरर/इण्ट्रीग/थ्रिलर/जासूसी (terror/intrigue/thriller/espionage) डीटेल्स के बारे में लेखन लुगदी साहित्य से ऊपर नहीं ऊठा हैं। किसी में कोई शोध नजर नहीं आता। भावनाओं – विचारों का वर्णन तो ठीकठाक/अप्रतिम/अभूतपूर्व है हिन्दी में, पर इन (टेरर/इण्ट्रीग/थ्रिलर/जासूसी) विधाओं का तकनीकी विस्तार तो कुंद पड़ा है। “द रोज़ाबल लाइन” में जुगराफिये और इतिहास के साथ तकनीकी तत्वों का जो कलियनृत्य है, वह झौव्वा भर अटपटे शब्द मांगेगा अनुवाद में। साथ ही हिन्दी पाठक को झट से बोर कर देने के विषतत्व इंजेक्ट करने की सम्भावना युक्त होगा।

इस पुस्तक की अगर हिन्दी में रीडेबिलिटी बनाये रखनी है तो इसके कई अंशों का हिन्दी में पुनर्लेखन करना होगा। बहुत सी डीटेल्स निकालनी होंगी और कई स्थानों पर हिन्दी पाठक के सुभीते के लिये विस्तार भी करना होगा। तब भी, हिन्दी में वह बोझिल किताब नहीं, रोंगटे खड़ा करने वाला थ्रिलर बनेगा, इसकी गारंटी पर दाव नही लगाऊंगा मैं!

अनुवाद के लिये जो करना होगा, “चुनौती भरा” उसके लिये हल्का शब्द लगता है।

(और अगर यह किताब किसी शूरवीर ने हिन्दी में अनुदित भी की तो इस्लाम-ईसाइयत की सांठगांठ, ईसा का कश्मीर में जीवन, “इल्युमिनाती” का शैतानिक/क्रूर रूप आदि को ले कर हिन्दी में पांय-पांय खूब होगी! यहां पांय पांय थोड़ी ज्यादा ही होती है!)


कैलीफोर्निया में श्री विश्वनाथ


यह श्री गोपालकृष्ण विश्वनाथ जी की अतिथि पोस्ट है।


हाल ही में पत्नी के साथ कैलिफ़ोर्निया गया था। अपने बेटी और दामाद के यहाँ कुछ समय बिताकर वापस लौटा हूँ।

P1000905s बेटी और दामाद पिछले १० साल से वहीं रह रहे हैं और कई बार हमें आमंत्रित किए थे पर पारिवारिक और व्यवसाय संबन्धी मजबूरियों के कारण मैं जा न सका।

पत्नी दो साल पहले अकेली हो आई थी पर मेरे लिए यह पहला अवसर था।

केवल चार सप्ताह रहकर आया हूँ और वह भी केवल कैलिफ़ोर्निया के खाडी इलाके(Bay Area of California) में।  अमरीका विशाल देश है और केवल एक महीने तक रहकर, पूरे देश के बारे में टिप्पणी कर सकने में मैं अपने आप को असमर्थ समझता हूँ और वह अनुचित भी होगा।

पर्यटक स्थलों के बारे में विवरण देना भी मैं नहीं चाहता। आजकल अंतर्जाल पर सब कुछ उपलब्ध है। बस केवल कुछ विचार, राय, अनुभव, इत्यादि के बारे में लिखना चाहता हूँ।

यह पहली किस्त है और आगे और लिखूँगा। जहाँ उचित लगे  कुछ तसवीरें भी पेश करूँगा जो मैंने अपने मोबाइल फ़ोन से खींची थी।

मेरे कुछ विचार:

१) सबसे पहली बात यह कि यहाँ शोर नहीं होता। सडकें शांत हैं, आवाजें नहीं के बराबर. पूरे महीने में एक बार भी मैंने किसी वाहन का हॉर्न बजते सुना ही नहीं। सैन फ़्रैनसिस्को जैसे शहर में भीं नहीं जहाँ ट्रैफ़िक काफ़ी था। तेज रफ़्तार से चलने वाली कारों का रास्ते पर टायरों के घिसने की आवाज मात्र सुनने को मिली। बसें, ट्रकें सभी वाहन बिना कोइ आवाज किए चलते थे। आसपास के घरों से भी कोई आवाज सुनाई नहीं दी। बाजारों में भी कोई शोर गुल बिल्कुल नहीं। मैं तो भारत में डीसल एन्जिन का शोर, हॉर्न की आवाज, बिना साईलेंसर के ऑटो रिक्शा, मोटर सायकल  इत्यादि का आदि हो चुका हूँ और वहाँ का यह सन्नाटा अजीब लगा।

२) यह अमरीकी लोग कहाँ चले गए? बहुत कम दिखाई दिए। ज्यादातर लोग भारतीय, या चीनी या कोरिया या अन्य कोई एशियायी देशों के नज़र आए। अफ़्रीकी अमेरिकन लोग भी बहुत कम नज़र आए। शायद यह केवल कैलिफ़ोर्निया  की खाडी इलाके की विशेषता है।

३) एक भी सड़कीय  कुत्ता (stray dog/cat) दिखाई नहीं दिया। सभी पालतू निकले। कुत्ते भौंकते भी नहीं। विश्व का सबसे छोटा कुत्ता पहली बार देखने को मिला (Chiuhaha). यह इतना छोटा है कि किसी महिला के  हैंड बैग में फ़िट हो सकता है। जब मैं टहलने निकलता था तब तरह तरह के पालतु कुत्ते देखे. मुझे कुत्तों का शौक है और कई बार किसी अनजान कुत्ते से दोस्ती करने निकला पर किसी कुत्ते ने मुझे कोई "लिफ़्ट" नहीं दिया। इतनी अच्छी ट्रेनिंग देते हैं इन कुत्तों को, कि किसी अजनबी से संपर्क नहीं करते। मालिक कुत्ते का मल रास्ते से साफ़ करके ही आगे निकलता था। नहीं तो जुर्माना लगता था।

P1000945s

आगे अगली किस्त में
आप सब को मेरी शुभकामनाएं
जी विश्वनाथ


हरतालिका तीज


आज सवेरे मन्दिर के गलियारे में शंकर-पार्वती की कच्ची मिट्टी की प्रतिमायें और उनके श्रृंगार का सस्तौआ सामान ले कर फुटपाथिया बैठा था। अच्छा लगा कि प्रतिमायें कच्ची मिट्टी की थीं – बिना रंग रोगन के। विसर्जन में गंगाजल को और प्रदूषित नहीं करेंगी।

HartalikaHartalika1

गंगाजी में लोग लुगाई नहा रहे थे। पानी काफी है वहां। Hartalika2मन्दिर में दर्शन के बाद एक दम्पति लौट रहे थे। औरत, आदमी और बच्चा। एक बकरी पछिया लियी। बच्चा बोला – “बकरी मम्मी”! पर मम्मी ने मोटरसाइकल पर पीछे बैठते हुये कहा – “गोट बेटा”।

गोटमाइज हो रहा है भारत! 

आज तीज-ईद-गणेश चतुर्थी मुबारक!