हरतालिका तीज

आज सवेरे मन्दिर के गलियारे में शंकर-पार्वती की कच्ची मिट्टी की प्रतिमायें और उनके श्रृंगार का सस्तौआ सामान ले कर फुटपाथिया बैठा था। अच्छा लगा कि प्रतिमायें कच्ची मिट्टी की थीं – बिना रंग रोगन के। विसर्जन में गंगाजल को और प्रदूषित नहीं करेंगी।

HartalikaHartalika1

गंगाजी में लोग लुगाई नहा रहे थे। पानी काफी है वहां। Hartalika2मन्दिर में दर्शन के बाद एक दम्पति लौट रहे थे। औरत, आदमी और बच्चा। एक बकरी पछिया लियी। बच्चा बोला – “बकरी मम्मी”! पर मम्मी ने मोटरसाइकल पर पीछे बैठते हुये कहा – “गोट बेटा”।

गोटमाइज हो रहा है भारत! 

आज तीज-ईद-गणेश चतुर्थी मुबारक!  


Advertisements

22 thoughts on “हरतालिका तीज

  1. बंगलोर में जनचेतना व सरकारी प्रयासों के कारण पेंट वाली मूर्तियों की बिक्री में भारी गिरावट आयी है।बकरी को गोट रटाने से न बकरी अधिक आंग्ल हो पायेगी न बालक ही।

    Like

  2. Quote:“बकरी मम्मी”! पर मम्मी ने मोटरसाइकल पर पीछे बैठते हुये कहा – “गोट बेटा”।गोटमाइज हो रहा है भारत! Unquote:"गोटमाइज तो बाद में हुआ। इससे पहले "मम्मिआइज" हो गया था।Welcome back.शुभकामनाएंजी विश्वनाथ

    Like

  3. कच्ची मिटटी की मूर्तिओं को देख बहुत अच्छा लगा. जन चेतना अभियान के माध्यम से परिवर्तन लाया जा सकता है.

    Like

  4. G फॉर बकरी बतायेगा स्कूल में तो PTM में अध्यापिका कहेगी, आप घर में नहीं पढाते हैं।गोट बताना जरुरी है जीवरना पिछड जायेग।प्रणाम

    Like

  5. बच्चा बोला – “बकरी मम्मी” अब बच्चे को पता है कि उस की मम्मी क्या है?इस का चित्र भी देते तो बात कुछ अलग थी:) देखे तो सही बकरी मोटर साईकिल पर बेठी केसी लगती है

    Like

  6. आप अच्छा लिखते हैं पर शिव भाई कालजयी लिखते हैं:) ये मात्र आपकी जानकारी के लिए.. हम पर कोई ज़िम्मेदारी नहीं है

    Like

  7. तो कुल मिला कर सार संग्रह ये कि ….अब तक भारत ने जो भी तरक्कीज़ की है ..या जितना भी आधुनिकतास्टिक परिवर्तन हुआ है ………उसके लिए फ़िफ़्टी परसेंट मम्मी जी जिम्मेदार हैं …और बांकी फ़िफ़्टी परसेंट के लिए ..ओह दीज़ बकरीज़ ….और कौन ???

    Like

  8. आज मेरे घर में भी निर्जला उपवास चल रहा है। माँ और धर्मपत्नी दोनो ने आज कुछ नहीं लिया। हम छुट्टी में उन्हीं से हलुआ बनवाकर खा रहे हैं। कल भोर में खुद बनाकर उन्हें खिलाएंगे। इससे ज्यादा कुछ कर भी नहीं सकते।बकरी का गोटिफ़िकेशन करने वाली मम्मी जी भी गंगा नहाने आयी ही थीं। एक साथ कई धाराएं है यहाँ। बल्कि भारत में एक साथ कई सदियाँ निवास कर रही हैं।

    Like

  9. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया. मूर्तियां बहुत ही सुन्दर हैं. प्रदूषण एक बड़ी समस्या है, जनचेतना ही इससे निजात दिला पाएगी.मम्मी और गोट.. 🙂

    Like

  10. गोटमाइज हो रहा है भारत! sach kahu to pata nahi iske alava bhi kya kya ho raha hai bharat, bas bhartiykaran nahi hota dikh raha…aapke yahan ke is futhpathiya dukanadar ki tarah kaash sabhi jagah ke aise dukandar ho jayein to kitna accha ho…haritalika teej ya chhattisgarhi me kahu to Teeja par meri ek purani post, jis par aapki tippani kya thi yad karne ke liye dekhiye…http://sanjeettripathi.blogspot.com/2007/09/blog-post_11.html

    Like

  11. हम में से अधिकतर बच्‍चों के सिर्फ अंगरेजी ज्ञान से संतुष्‍ट नहीं होते बल्कि उसकी फर्राटा अंगरेजी पर पहले चमत्‍कृत फिर गौरवान्वित होते हैं. चैत-बैसाख की कौन कहे हफ्ते के सात दिनों के नाम और 1 से 100 तक की क्‍या 20 तक की गिनती पूछने पर बच्‍चा कहता है, क्‍या पापा…, पत्‍नी कहती है आप भी तो… और हम अपनी 'दकियानूसी' पर झेंप जाते हैं. आगे क्‍या कहूं.

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s