आप एक बार लिखकर कितनी बार मिटाते या उसे सुधारते हैं?


altबात वर्ष १९९७ की है जब मैं भीतरकनिका अभ्यारण्य के एक प्रोजेक्ट में शोध सहायक का साक्षात्कार देने के लिए कटक गया था| कम उम्र में इतनी अधिक अकादमिक उपलब्धी को देखकर चयनकर्ता अभिभूत थे| वे हां कहने ही वाले थे कि एक वरिष्ठ चयनकर्ता ने यह प्रश्न दागा|

“एक बार भी नहीं| जो भी लिखता हूँ उसे अंतिम मानकर लिखता हूँ| सुधार की कोई गुंजाइश ही नहीं छोड़ता|” मेरे उत्तर से स्तब्धता छा गयी|

“तब तो आप इस पद के लिए उपयुक्त नहीं है| आपको इस प्रोजेक्ट के मुखिया के लिए आवेदन करना चाहिए|” और मुझे वापस कर दिया गया| ये वाक्य मन में अक्सर घूमते रहते हैं आज भी|

Pankaj Aयह श्री पंकज अवधिया की अतिथि पोस्ट है। जैसा कि शीर्षक है, उसके अनुरूप मैने पोस्ट में किसी भी प्रकार का कोई परिवर्तन नहीं किया है – सिवाय चित्र संयोजन के!

कृषि की पढाई पूरी करने के बाद जब मैंने संकर धान के एक प्रोजेक्ट में शोध सहायक की नौकरी आरम्भ की तो अपने प्रोजेक्ट प्रमुख की एक आदत ने मुझे परेशान कर दिया| वे सुबह से शाम तक रपट तैयार करते और फिर उसे कम्प्यूटर  से निकलवाते| दूसरे दिन सारी की सारी रपट रद्दी की टोकरी में पडी मिलती और वे फिर से रपट लिखने में मशगूल दिखते| साल के ज्यादातर महीनो में वे बस रपट लिखते रहते और फिर उसे फेंक कर नयी लिखते रहते| प्रिंट पेपर की रिम पर रिम मंगवाई जाती थी| मुझे यह श्रम, ऊर्जा और धन सभी की बर्बादी लगती थी| वे खुद भी गहरे तनाव में रहते थे|

थीसिस लिखते समय मेरे गाइड भी इसी रोग के शिकार थे| महीनो तक वुड, शुड, कुड में उलझे रहते| फिर लिखते और फिर सुधारते| मुझसे लिखने को कहते और फिर सुधारने लग जाते| जब थीसिस जमा करने की अंतिम तारीख आयी तो झुंझलाकर  काम पूरा किया और फिर सालों तक कहते रहे कि थोड़ा समय मिलता तो सुधार हो सकता था|

altमेरी एक बार लिखकर एक बार भी न सुधारने की आदत अब तक बरकरार है| बाटेनिकल डाट काम के १२,००० से अधिक शोध दस्तावेज हाथ से लिखे| आप संलग्न चित्र देखें पांडुलिपी का|

एक बार में ही लिखा गया सब कुछ| फिर जब कम्प्यूटर में लिखना शुरू किया तो भी यही आदत रही| मुझे लगता है कि मेरी तीव्र लेखन गति के लिए यह दुर्गुण या सद्गुण जिम्मेदार रहा| दुनिया भर में सौ से अधिक शोध-पत्र प्रकाशित किये एक से बढ़कर एक शोध पत्रिकाओं में पर सभी को एक बार में ही लिखी सामग्री भेजी और उन्होंने उसे प्रकाशित किया बिना फेरबदल के| कुछ ने फेरबदल की पर बकायदा अनुमति लेकर| रिजेक्ट किसी ने नहीं किया| मेरे गुरु हमेशा कहते रहे कि काम में दम होना चाहिए फिर उसकी प्रस्तुति गौण हो जाती है|

क्या कटक के चयनकर्ता का फलसफा सही था? मैं अभी तक के जीवन में कभी सहायक के रूप में सफल नहीं रहा| हमेशा मुखिया का पद सम्भाला या अकेला ही चला| अक्सर सोचता रहा कि कभी ज्ञान जी के ब्लॉग के माध्यम से यह सब आपसे शेयर करूंगा और आपकी राय मांगूगा| आज यह स्वप्न साकार होता दिख रहा है|

पंकज अवधिया


ज्ञानदत्त पाण्डेय का कथन –

शायद लिखे को सुधारना/न सुधारना आपकी लेखन क्षमता पर निर्भर करता है। जब मैने हिदी ब्लॉग लेखन प्रारम्भ किया तो मुझे बहुत सुधार करने होते थे। ट्रांसलिटरेशन के माध्यम से टाइप करने की कमजोरी के कारण अभी भी प्रूफ में परिवर्तन करने ही होते हैं। अपेक्षाकृत कम जरूर हो गये हैं।

पब्लिश बटन दबाने के पहले यह अवश्य देख लेता हूं कि हिज्जे/व्याकरण का कोई दोष तो नहीं बचा है; अथवा अंग्रेजी का शब्द उसके मेरे द्वारा किये जाने वाले प्रोनंशियेशन के अनुरूप है या नहीं।

यह सब इस लिये कि हिन्दी के महंतगण मेरे लेखन में गलतियां निकालते रहे हैं – प्रारम्भ से ही। और मैं जानता हूं कि यह उनका मेरे प्रति स्नेह का परिचायक है।

बाकी, यह अनंत तक ड्राफ्ट में सुधार करने और अंत में एक ऐसे डाक्यूमेण्ट को स्वीकार करने – जो पहले ड्राफ्ट से भी बेकार हो – वाली परिमार्जनोमेनिया (परिमार्जन  – मेनिया – Obsession to Improve/Tweak) के मरीज बहुत देखे हैं। मेरे दफ्तर में ही खांची भर हैं! Open-mouthed smile


Advertisements

80 thoughts on “आप एक बार लिखकर कितनी बार मिटाते या उसे सुधारते हैं?

  1. प्रवीण शाह जी,

    आपका ऐसा कहना ही यह दर्शाता है कि पंकज अवधिया कुछ है| अन्यथा आप क्यों अपनी ऊर्जा और वक्त जाया करते|

    धन्यवाद एवं शुभकामनाएं|

    Like

  2. ज्ञान जी, इन निजी आक्षेपों से मुझे ये पंक्तियाँ याद आ रही है|

    बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद|

    और
    हाथी चले बाजार, कुत्ते भौंके हजार|

    कहना तो नहीं चाहता था पर क्या करूँ चुप भी नहीं रह सकता…

    Like

    • हां और यह भी मालुम था कि सर्राटे से लिख कर दस मिनट में पोस्ट कर देने वाले का जो नाम मन में आता है, वह शिव कुमार मिश्र है! 🙂
      और वह भी गूगल त्रांसलिटरेशन का प्रयोग करते हुये भी!

      Like

  3. लेख और सभी टिप्पणियाँ पढ़ने के बाद कहना चाहूँगा कि एक ही बार में लेखन को अंतिम रूप दे देना प्रतिभा और आत्मविश्वास के कारण कुछ लोगों के लिए संभव हो सकता है। फिर भी काग़ज़ हो कंप्यूटर, भले ही आप ड्राफ़्ट या तथ्य में हेर-फेर न करें लेकिन अपने लिखे का प्रूफ़ एक बार ज़रूर देख लेना चाहिए। इसका मुख्य कारण यह है कि श्रीमान अवधिया और उन जैसे अन्य विशेषज्ञ लोगों के लेख कई लोग पढ़ते हैं और लेखों की सामग्री का उपयोग भी करते हैं। इसलिए जो अभी विद्यार्थी हैं या जो लोग इन्हें आदर्श या अग्रज मानकर इनका अनुसरण करते हैं, वे लोग इनकी सामग्री में कोई मात्रा या प्रूफ़ आदि की ग़लती (यदि उन्हें सही वर्तनी नहीं मालूम है तो) को भी सही मानकर चलेंगे। साथ ही वे हमेशा वैसा ही उपयोग करते रहेंगे। इसलिए लेख को एक बार देख लेने के परिणाम अच्छे ही होंगे। आपकी बात लोगों तक पहुंच जाती है वह सब ठीक है, लेकिन साथ ही यदि लेखन में अशुद्धियाँ कम से कम हों तो क्या बुराई है।
    मैं फिर दोहरा दूँ कि मैं आपकी सामग्री के ड्राफ़्ट, तथ्य या कथ्य में बदलाव की नहीं बल्कि लेख के प्रूफ़ की बात कर रहा हूँ। अंग्रेज़ी में यह काम कंप्यूटर कर देता है लेकिन हिंदी में अभी ऐसी सुविधाएँ नगण्य हैं। मात्राओं, वर्तनी आदि की ग़लतियाँ न हों तो क्या हर्ज है।

    Like

    • जी हां, प्रूफ रीडिंग जरूरी है, विशेष रूप से तब, जब आप सन्दर्भ के लिये लिख रहे हों।

      Like

  4. एक बड़े विद्वान को जानने का मौक़ा मिला.. मैं तो इन्हें बस हिन्दी ब्लोगर ही समझता था.. 🙂 बड़ी प्रेरणा मिलती है ऐसे ज्ञानी जनों से…
    बाकी सुधार तो लेखक की विद्वता और आदत पर निर्भर करता है.

    Like

  5. एक बार में लिखी सामग्री, जरूरी नहीं कि अच्‍छी हो और सुधार-सुधार कर लिखी जाने वाली भी बेहतरीन चीजें बनती हैं इसलिए दुहरा कर देख लेने को कमजोरी या बुराई मानने का औचित्‍य नहीं.

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s