पाब्लो नरूदा (?)  की कविता का अनुवाद – रिटायर्ड व्यक्ति के लिए 

नोबेल पुरस्कार विजेता स्पेनिश कवि पाब्लो नेरुदा की कविता “You Start Dying Slowly” का हिन्दी अनुवाद…

आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप :

  • करते नहीं कोई यात्रा,
  • पढ़ते नहीं कोई किताब,
  • सुनते नहीं जीवन की ध्वनियाँ,
  • करते नहीं किसी की तारीफ़।

आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, जब आप :

  • मार डालते हैं अपना स्वाभिमान,
  • नहीं करने देते मदद अपनी और न ही करते हैं मदद दूसरों की।

आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप :

  • बन जाते हैं गुलाम अपनी आदतों के,
  • चलते हैं रोज़ उन्हीं रोज़ वाले रास्तों पे,
  • नहीं बदलते हैं अपना दैनिक नियम व्यवहार,
  • नहीं पहनते हैं अलग-अलग रंग, या
  • आप नहीं बात करते उनसे जो हैं अजनबी अनजान।

आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप :

  • नहीं महसूस करना चाहते आवेगों को, और उनसे जुड़ी अशांत भावनाओं को, वे जिनसे नम होती हों आपकी आँखें, और करती हों तेज़ आपकी धड़कनों को।

आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप :

  • नहीं बदल सकते हों अपनी ज़िन्दगी को, जब हों आप असंतुष्ट अपने काम और परिणाम से,
  • अग़र आप अनिश्चित के लिए नहीं छोड़ सकते हों निश्चित को,
  • अगर आप नहीं करते हों पीछा किसी स्वप्न का,
  • अगर आप नहीं देते हों इजाज़त खुद को, अपने जीवन में कम से कम एक बार, किसी समझदार सलाह से दूर भाग जाने की…।
    तब आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं…!!!

कविता अच्छी है, पर शायद नेरुदा की नहीं। Latin American Herald Tribune लिखता है – 

“Muere Lentamente” is the work of Brazilian writer Martha Medeiros, author of numerous books and reporter for the Porto Alegre newspaper Zero Hora, the Neruda Foundation told Efe.
लिंक यह है – http://www.laht.com/article.asp?ArticleId=325275&CategoryId=14094

Powered by Journey Diary.

Advertisements