दण्डीस्वामी डा. विद्यानन्द सरस्वती – गुन्नीलाल पाण्डेय के गुरु जी – से मुलाकात


कल अगियाबीर का गंगातट देखने के बाद हम (राजन भाई और मैं) गुन्नीलाल पाण्डेय जी के घर पंहुचे। गुन्नी रिटायर्ड स्कूल अध्यापक हैं। सम्भवत: प्राइमरी स्कूल से। मेरी ही उम्र के होंगे। एक आध साल बड़े। गांव के हिसाब से उनकी रुचियाँ परिष्कृत हैं। बड़ा साफ सुथरा घर। तरतीब से लगाई गयी वनस्पति। चुन कर लाये गये गमले। एक गाय। पास ही में उनके खेत। पिता के अकेले लड़के और गुन्नीलाल का भी एक ही लड़का (संजय)। गुन्नी की तरह गुणी। नवोदय विद्यालय में अंग्रेजी का अध्यापक। संजय के भी एक लड़का और एक लड़की है। छोटा और सम्पन्न परिवार। एक ही घर में चार पीढ़ियाँ – गुन्नी के नब्बे वर्षीय पिताजी, गुन्नी दम्पति, संजय दम्पति और संजय के बच्चे – बहुत समरसता के साथ रहते हैं।

गुन्नीलाल जी से मिलने के बाद स्वभावत: उनसे मैत्री हो गयी है। अत: जब भी राजन भाई मुझसे उनके यहां चलने के लिये कहते हैं, मन में अटकाव महसूस नहीं होता। अन्यथा, सवेरे सैर के समय मैं मात्र प्रकृति/परिवेश दर्शन करना चाहता हूं; किसी के घर नहीं जाना चाहता।

गुन्नीलाल जी के द्वार पर स्वामीजी के प्रवचन के लिये बना मंच

गुन्नी के घर कल दृष्य बदला हुआ था। पता चला कि उनके गुरु जी आये हुये हैं पिछले चार दिन से। उनके लिये उनके दरवाजे पर एक मंच बना कर व्यासपीठ बनाया गया है। उसपर बैठ वे प्रवचन करते हैं। प्रवचन पिछले दिन लगभग सम्पन्न हो गया है। उस दिन समापन होना है कथा-कार्यक्रम का – दोपहर में।

गुन्नीलाल जी ने बताया कि गुरु जी गृहस्थ नहीं हैं। साधू भी सामान्य नहीं दण्डी स्वामी। दण्डीस्वामी अर्थात आदिशंकर की परम्परा वाले अद्वैतवादी साधू। दण्ड ग्रहण करने का अभिप्राय यह है कि वे ब्राह्मण रहे होंगे दीक्षा लेने के पहले।

मुमुक्षु आश्रम (वाराणसी) गये थे गुन्नीलाल। शायद एक गुरु की खोज में। “अब इतनी उम्र हो गयी है कि धर्म का जो पक्ष उपेक्षित रहा जीवन में, उसको केन्द्र में लाने के लिये कुछ करना था, इसलिये मैं वहां गया” – गुन्नीलाल बताते हैं। मुमुक्षु आश्रम में ही डा. विद्यानन्द सरस्वती जी से मुलाकात हुई उनकी। बातचीत कर सरस्वती जी को गुन्नीलाल जी ने कहा कि मन से उन्होने उन्हे अपना गुरु मान लिया है, अत: अपनी सुविधानुसार दीक्षा देने का कष्ट करे।

साल भर हुआ है गुन्नीलाल का दीक्षा ग्रहण किये हुये।

गुन्नी अपने को धन्य मानते हैं – उनके गुरु ब्राह्मण हैं, उसमें भी गृहस्थ नहीं, साधू और साधू में भी दण्डीस्वामी। अपने गुरु जी से उन्होने हमें मिलवाया भी। उनका बिस्तर एक तख्त पर था। उसी पर बैठे थे वे। पीछे उनका दण्ड दीवार के साथ खड़ा किया गया था।

मैने स्वामीजी से पूछा – यह दण्ड का क्या विधान है। क्या औपचारिकता?

स्वामी जी ने बताया कि आदि शंकर स्वयम शिव के अवतार थे, ऐसा कहा जाता है। समाज शैव-वैष्णव में विभक्त था। ऊपर से बौद्ध धर्म की बड़ी चुनौती थी। आदिशंकर को अवश्य लगा होगा सनातन समाज को एकीकृत करना आवश्यक है। दण्द नारायण का प्रतीक है। “दण्ड मात्रेण गृहीत्वा, नर नारायण भवति। (दण्ड धारण करने से नर नारायण हो जाता है)।” दण्ड धारण कर आदिशंकर ने शैव और वैष्णव समाज को एकीकृत कर दिया था।

अपने दण्ड के बारे मे‍ उन्होने बताया कि यह एक पहाड़ी बांस से बना है। उत्तम कोटि का होता है वह बांस। कोई छिद्र नहीं होते उसमें।

गुन्नीलाल पाण्डेय के गुरु डा. विद्यानन्द सरस्वती, दण्डीस्वामी जी। उनके बिस्तर के पीछे उनका दण्ड है दीवार के सहारे।

स्वामीजी ने आदिशंकर के शास्त्रार्थ – वाया कुमारिल्ल भट्ट, मण्डन मिश्र और उनकी पत्नी उभया भारती से शास्त्रार्थ – की कथा हमें विस्तार से सुनाई। यह भी बताया कि उभया भारती के साथ शास्त्रार्थ की तैयारी के लिये उन्होने एक राजा के शव/शरीर मे‍ं प्रवेश कर एक महीना गुजारा था और कामसूत्र-भाष्य की भी रचना की थी।

आदिशंकर ने कामसूत्र नामक ग्रन्थ की भी रचना की थी – यह मुझे पहले नहीं मालुम था। स्वामी जी ने  बताया कि वाराणसी की अमुक दुकान से मुझे आदिशंकर के आदिशंकर भाष्य, दिग्विजय सूत्र भाष्य और कामसूत्र भाष्य मिल सकते हैं। अनुवाद सहित।

विकीपेडिया पर ये भाष्य नही‍ लिखे है‍। सम्भवत विकिपेडिया को संशोधित करने की आवश्यकता हो। पर वह संशोधन मेरे जैसा शंकर के ग्रन्थों से अपरिचित व्यक्ति तो नहीं ही कर सकता। खैर, मेरी रुचि यह जानने में है कि शंकर जैसा अद्वैती आचार्य ने कामसूत्र में उस एक मास की राजा के शरीर में रह कर जान-परख कर क्या लिखा। पर मात्र 32 वर्ष की अवस्था मे‍ं इस संसार को इतना सब कुछ देने वाले आदिशंकर के लिये एक माह में काम की व्यापक अनुभूति कर लेना कठिन नहीं रहा होगा।

आपको ज्ञात है कि आदिशंकर ने कामसूत्र (या कामसूत्र भाष्य) नामक ग्रन्थ की भी रचना की थी?

Advertisements

द्वारिका और परवल का जवा


GyanOct176436
परवल के जवा के गठ्ठरों के साथ द्वारिका

पचेवरा के घाट पर प्रतीक्षा करने वालोँ के लिये चबूतरा है। दाह संस्कार करने आये लोग और मोटर बोट पकड़ कर उस पार मिर्जापुर जाने वाले यहाँ इंतजार करते हैँ। मैँ सवेरे वहां तक चक्कर लगाता हूं। कुछ देर सुस्ताने के लिये उस चबूतरे पर बैठता हूं। वहां से गंगा की धारा भी दिखती है और सड़क भी।

अचानक दो आदमी घाट से आते हैं और पास में पड़े हरे डंठल के गठ्ठर उठाने लगते हैँ। ऐसा गठ्ठर मैने पहले कभी नहीँ देखा। उनसे पूछता हूं – क्या है यह?
“परवल। परवल का जवा।” सफेद कमीज पहने एक व्यक्ति बताता है। दोनोँ एक एक गठ्ठर उठा कर चले जाते हैं घाट पर। फिर भी तीन गठ्ठर बचे रहते हैं वहां जमीन पर। मुझे यकीन हो जाता है कि मेरे प्रश्नोँ का उत्तर देने के लिये वे फिर आयेंगे ही; वर्ना मैं उनके पीछे पीछे घाट तक जाता।

GyanOct176435

उनकी वापसी में उनसे और जानकारी लेता हूँ। गंगा उस पार वे परवल की खेती करते हैं। यह गठ्ठर वाली वनस्पति परवल के तने हैं। परवल की पौध बनती है इनसे।

कहाँ से ला रहे हैं ये परवल का जवा?

गाजीपुर से।

इतनी दूर से। आसपास नहीँ मिलता क्या?

GyanOct176437

पता चला कि वे गाजीपुर के ही रहने वाले हैं वहां उनके परवल के खेत हैं। यहां गंगापार मिर्जापुर में भी परवल की खेती करते हैं। यहां उनकी जमीन नहीं है। पट्टे पर ली है जमीन। छ हजार रुपया बीघा सालाना की लीज। करीब 40 बीघा जमीन है। 7-8 लोग साझे में परवल की खेती करते हैं। गाजीपुर में अपने ही खेत से ले कर आ रहे हैं परवल का जवा। गंगा की रेती में परवल की खेती नहीं होती। उसके आगे मिट्टी के खेत हैं। उनको लीज पर ले कर उनमें पर वल उगाते हैं। पानी बहुत मांगती है परवल की फसल, सो अपने ही पैसे से उन्होने बोरवेल लगाया है। खेती के लिये पर्याप्त पूंजी खर्च की है इन लोगों ने।

वहां गाजीपुर में ही नहीं ली जमीन खेती के लिये?

लाल टीशर्ट वाले व्यक्ति ने बताया – वहां भी अच्छी खेती है। पर परिवार बड़ा हो गया तो कुछ लोगों को बाहर निकलना ही था।  

लोग गाजीपुर/बलिया से आजीविका की तलाश में बम्बई, अहमदाबाद या बंगलोर जाते हैं। इनका आजीविका का मिर्जापुर आने का उद्यमी मॉडल बहुत रोचक लगा मुझे। शायद ये मार्केट के पास खेती कर बेहतर दाम पाते होंगे अपनी फसल का।

लाल टीशर्ट वाला तब तक अंतिम गठ्ठर उठा कर जाने लगा था। मन में प्रश्न बहुत थे पर उनको वहीं विराम दिया मैने।

कौन कहता है कि धुर गाजीपुरी/बलियाटिक लोग आंत्रेपिन्योर नहीं है?! पांच सात मिनट के इस वार्तालाप में पूर्वांचल के प्रति इज्जत बढ़ गयी मेरे मन में।

जाते जाते लाल टीशर्ट वाले से नाम पूछा मैने। बताया – द्वारिका।

आगे पत नहीं कभी मिलना होगा या नहीं द्वारिका से। पर छोटी सी मुलाकात मुझे बहुत कुछ बता गयी। शायद आपको भी, इस माध्यम से! 🙂

 

GyanOct176438
अंतिम गठ्ठर ले कर गंगा तट पर जाते द्वारिका। अलविदा।