ऑनलाइन और मॉल से गांव के किराना स्टोर की ओर

आशा है भविष्य में उनकी किराना दुकान से लम्बा एसोसियेशन रहेगा। लॉकडाउन काल में ही नहीं, उत्तर-कोरोना युग में भी।


हमने बिगबाजार, अमेजन, फ्लिपकार्ट और अन्य बड़ी दुकानों/मॉल्स पर पिछले दस साल से वरीयता दे कर नुक्कड़ की किराना दुकानों से बड़ी बेरुखी दिखाई है। पर कोरोना लॉकडाउन ने इस विषय में हमें यू-टर्न लेने पर विवश कर दिया है।

छोटे नुक्कड़ वाले स्टोर्स के प्रति अपने व्यवहार को ले कर जो भाव आ रहे हैं, उनके लिये पछतावा ही उचित शब्द है।

आखिर हम मध्यवर्ग के लोगों ने चार पैसे सस्ते के लोभ में घर के पास की (और आत्मीय) बाजार व्यवस्था को मार डालने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

अमेजन वाला, पहले अपनी लॉकडाउन के बाद की समस्याओं की बात करता था, अब सरकार की गाइडलाइंस की आड़ ले रहा है। महीने भर से सामान इसने सप्लाई नहीं किया!

और ये बड़े मॉल या ऑनलाइन वाले व्यापार के समीकरण में बदलाव से इतनी बुरी तरह लड़खड़ा जायेंगे – यह अंदाज नहीं था। कोरोना लॉकडाउन में जब उनकी सबसे ज्यादा जरूरत थी, तब वे बेशर्म, गधे के सर पर सींग जैसे गायब हो गये। अपनी सेवाओं की गुणवत्ता की गाथा बहुत बूंका करते थे, पर अब अपनी सप्लाई की तारीख पे तारीख भर बढ़ा रहे हैं।

अब हमने तय किया है कि लोकल किराना स्टोर को वरीयता देंगे। आखिर, इन स्थानीय उद्यमियों ने लॉकडाउन की असुविधा झेलते, अपने स्वास्थ्य को खतरे में डालते, और दिन रात काम करने की तत्परता दिखाते हुये अपने ग्राहक के प्रति प्रतिबद्धता तो दिखाई। इन बड़े नाम वालों जैसे मुंह छिपा कर ग्राहक को उसके हाल पर तो नहींं छोड़ा।


इस महीने की ज्यादा पढ़ी गयी पोस्टें –


यहां गांव में, घर से 2 कोस दूर, बाबूसराय में राजू जायसवाल की किराना की थोक दुकान है। आसपास के गांवों के छोटे दुकानदार उनसे सामान खरीद कर ले जाते हैं। आज उन्ही की दुकान पर गया। मुंह पर मास्क लगाये, जेब में सेनीटाइजर की बोतल रखे और साइकिल से नहीं, कार से। अर्थात कोरोना काल में पूरी तैयारी के साथ। जायसवाल जी के छोटे भाई, रविशंकर ने मुझसे सामान की लिस्ट ली, और सामान ला कर दिया।

मैंने पूछा – कोई यूपीआई एड्रेस या बैंक अकाउण्ट दे सकते हैं, जिसमें सीधे कैशलेस पैसा पेमेण्ट किया जा सके?

रविशंकर जायसवाल

रविशंकर जायसवाल ने अपने मोबाइल से अपना पेटीएम कोड दिखाया। मैंने दुकान के बाहर ही खड़े खड़े अपने मोबाइल से उन्हे पेमेण्ट किया। बिना किसी सोशल टच के या बिना नोट थमाने-लेने की असहज भावना के। सामान का थैला लेने देने में जो भी स्पर्श हुआ हो, उससे बचाव के लिये थैला कार में रख कर सेनीटाइजर से हाथ मला। किराना खरीददारी का एक सधा हुआ, नपा-तुला अनुभव।

इन स्थानीय उद्यमियों ने लॉकडाउन की असुविधा झेलते, अपने स्वास्थ्य को खतरे में डालते, और दिन रात काम करने की तत्परता दिखाते हुये अपने ग्राहक के प्रति प्रतिबद्धता तो दिखाई। इन बड़े नाम वालों जैसे मुंह छिपा कर ग्राहक को उसके हाल पर तो नहींं छोड़ा।

कुल मिला कर भविष्य के लिये तय हुआ कि रवि को ह्वाट्सएप्प पर अपने सामान की लिस्ट दिया करूंगा और दाम का भुगतान भी यूपीआई के माध्यम से किया करूंगा। नोट गिनने-छूने का झंझट ही नहीं।

राजू जायसवाल की लोकल किराना दुकान से महीने दर महीने की नियमित खरीद के तार जोड़ लिये मैंने।

राजू/रविशंकर जायसवाल और उनके अन्य भाई बड़े अदब से बात करते हैं। गांवदेहात में ब्राह्मण और प्रतिष्ठित की जो इज्जत है, वह मुझे उनसे मिलती है। गुणवत्ता में कोई गड़बड़ी हो तो बड़ी सरलता से सामान की वापसी या अदलाबदली हो जाती है। बिगबाजार जैसी वेराइटी नहीं होती यहां, पर पिछली बार अखरोट मंगा कर दिया ही था राजू ने।

आशा है भविष्य में उनकी किराना दुकान से लम्बा एसोसियेशन रहेगा। लॉकडाउन काल में ही नहीं, उत्तर-कोरोना युग में भी। और राजू जायसवाल तथा उनके बंधु-बांधव गांवदेहात को बेहतर समझने के लिये अपने व्यवहार/अनुभव का ज्ञान मुझे देते रहेंगे।


लॉक डाउन : महा भीर बैन्कन के द्वारे

जो लाइन लगी है, वह केवल खाते से पैसा निकालने के लिये नहीं है। बहुत से तो मात्र यह जानना चाहते हैं कि खतवा में पईसवा आइ कि नाहीं (खाते में पैसा आया है या नहींं)।


तुलसी बाबा की चौपाई है – महा भीर भूपति के द्वारे, रज होई जाई पसान पोवारे। (राजा के द्वार पर भारी भीड़। शिलाखण्ड भी फैंका जाये तो भीड़ में पिस कर मिट्टी बन जाये)। आजकल बैंकों की ग्रामीण शाखाओं में वैसा ही माहौल है।

सरकार ने पैसा दिया है ग्रामीणों, गरीबों को। अपने मुड़े तुड़े बैंक के पासबुक लिये ग्रामीण बैंक के सामने लाइन लगा रहे हैं। हर एक ब्रांच के बाहर वही दृष्य है। कुछ दिन तो घोर अव्यवस्था/अराजकता थी। अब बैंक की सिक्यूरिटी वाले सोशल डिस्टटेंसिंग के नॉर्म के आधार पर गोले खींच कर उसमें बैठने के लिये अनुशासित कर रहे हैं लोगों को।

बैंक के बाहर दूरी बना कर अपने अपने गोले में खड़े लोग-लुगाई
Continue reading “लॉक डाउन : महा भीर बैन्कन के द्वारे”

लॉकडाउन : रीता पाण्डेय के मानसिक थकान मिटाने के उपाय – भाग 2

गांव का यह घर एक कैनवास है – एक विस्तृत कैनवास। जिस पर अपने मन माफिक आड़ी तिरछी लाइनें उकेर कर कैरीकेचर बनाया जा सकता है। पत्नीजी ने यह बहुत गहरे से समझ लिया है।



हाल ही में पोस्ट लिखी थी – कोरोना की मानसिक थकान दूर करने के काम। वे काम आगे भी चलते चले जा रहे हैं। खड़ंजा बनाने के लिये खरीदा गया बालू और सीमेण्ट कम पड़ गया। असल में पत्नीजी से स्कोप ऑफ़ वर्क ही बढ़ा दिया। पन्द्रह बीस परसेण्ट नहीं, लगभग डबल कर दिया खड़ंजेे का एरिया।

वे कोरोना काल की नेगेटिव खबरों से उपजी मानसिक निस्सारता को मिटाने के लिये इतनी आतुर हैं कि मैने खर्च में कोई कतर ब्यौंत का साहस ही नहीं किया।

एक ट्रॉली बालू और मंगवाया। बालू गीला था। उसमें घर बनाना या उससे कोई मूर्ति बनाना बच्चों को बहुत रुचता है। घर में किसी खिलौने की बजाय अगर एक अखाड़ा बनाया जाये जिसमें बालू का ढेर हो तो बच्चे उसी में मगन रह सकते हैं। चीनी पांड़े (पद्मजा पाण्डेय) उसी में शिवलिंग बनाने में व्यस्त हो गयी – “दादी, रामचन्द्र जी ने रावन को हराने के लिये इसी तरह शंकर भगवान की पूजा की थी, न?”

“दादी, रामचन्द्र जी ने रावन को हराने के लिये इसी तरह शंकर भगवान की पूजा की थी, न?” – चिन्ना पांड़े
Continue reading “लॉकडाउन : रीता पाण्डेय के मानसिक थकान मिटाने के उपाय – भाग 2”

नदी का जल सचमुच साफ हुआ है

इन सभी चित्रों में जो चीज कॉमन है, वह है गंगाजी की स्वच्छ और प्रचुर जल राशि। जल वास्तव में आँखों को प्रिय लग रहा है!



नदी यानी गंगा नदी। मेरे घर से कौआ की उड़ान के हिसाब से 2 किलोमीटर दूर। बड़ा फ्रीक्वेण्ट आना जाना है द्वारिकापुर के गंगा तट पर। स्नान नहीं करता गंगा में, पर दिखता तो है ही कि जल कैसा है।

गंगाजल वास्तव में साफ कहा जा सकता है। निर्मल।

उत्तरोत्तर सरकारों ने बहुत पैसा खर्च किया। गंगा जी के नाम पर बहुत भ्रष्टाचार भी हुआ। पर अंततः कोरोना वायरस को लेकर मानव जाति के भय के कारण निर्मल हो पाया गंगाजल।

गंगा किनारे राजन भाई
Continue reading “नदी का जल सचमुच साफ हुआ है”

लॉकडाउन में गुन्नीलाल – गांव के सखा

कल सवेरे साइकिल से उनकी ओर गया। गुन्नीलाल जी हमेशा बाहें फैला कर गले मिलते थे – यही हमारा नॉर्मल मोड ऑफ अभिवादन था। पर कल कोरोनावायरस काल में उन्होने दूर से नमस्कार कर स्वागत किया। घर के बाहर नीम के पेड़ के नीचे हम बैठे भी सोशल डिस्टेंसिंग के नॉर्म का विधिवत पालन करते हुये।


गुन्नीलाल मेरे जीवन की दूसरी पारी के सखा हैं। वे स्कूल में अध्यापक थे। अपने पिता के अकेले पुत्र हैं, सो खेती किसानी बंटी नहीं। स्कूली अध्यापक की पेंशन और गांव में खेती का बैक-बोन – सब मिला कर गुन्नी ग्रामीण परिवेश में सम्पन्न कहे जा सकते हैं। उनमें और उनके परिवार में मध्यवर्गीय सुरुचियां भरपूर हैं और शहरी मध्यवर्ग के दुर्गुण कत्तई नहीं हैं।

गुन्नीलाल जी पढ़ते रहते हैं, और देश परदेश के विभिन्न मुद्दों पर जानकारी और राय रखते हैं। घर की सजावट और साफसफाई को ले कर उनका पूरा परिवार सजग है। ऐसा सामान्यत: गांव के घरों में देखने में नहीं आता।

Continue reading “लॉकडाउन में गुन्नीलाल – गांव के सखा”

कोरोना की मानसिक थकान दूर करने के काम

कोरोना थकान दूर करने के लिये शहराती लोग योगा-शोगा कर, किताब पढ़ या रस्सी टाप कर अपनी फोटो सटा रहे हैं सोशल मीडिया पर। हमारे पास तो यही गतिविधि है। उसी के फोटो ही सही!


थक गये हैं कोरोना से। पहले पहल तो घर के बाहर के दरवाजे को रोज सेनिटाइजर लगा लगा कर दो तीन बार मला जाता था। दसमा दूध ले कर आती थी तो दूध के बर्तन को डिस्पोजेबल नेपकिन से पकड़ कर दूध उंडेला जाता था अपने भगौने में। सब्जी वाले से सब्जी खरीद कर चार पांच घण्टा बाहर रख दी जाती थी, जिससे वायरस थक हार कर उसे छोड़ चला जाये। कल्पना में हर जगह कोविड-19 के वायरस गेंद ही नजर आते थे।

कोरोना बचा, बाकी सब कुछ होल्ड पर चला गया। परिसर में जंगली घास बढ़ने लगी। बसंत धोबी को इस्त्री करने के कपड़े देने में आनाकानी होने लगी। कोई भी बाहर से आये तो उसका हाथ पहले सेनीटाइज किया जाने लगा। साबुन और हैण्डवाश दे कर उन्हे पर्याप्त कोरोनामुक्त कराने का मानसिक आश्वासन पाने लगे हम। फिर भी मन में दगदग बनी रहती थी कि कहीं चिपक तो नहीं गया कोरोना।

अब लगता है उसमें से यद्यपि बहुत कुछ जरूरी था; पर कुछ खालिस ओवर रियेक्शन था।

तय किया कि घास को साफ कर घर के पास के और भाग में खडंजा बिछाया जाये

मोनोटोनी तोड़ने के लिये तय किया कि बेतरतीब उग आयी घास और कांग्रेस घास को साफ कराया जाये। घर के सामने के भाग में खडंजा बिछाया जाये जिससे नियमित साफसफाई रखने में झंझट कम हो सके। इसी बहाने गांव के दो-चार लोगों की दिहाड़ी बन सकेगी, जो अभी लॉकडाउन के चक्कर में बिना काम घूम रहे हैं।

पत्नीजी ने कहा – कोई धर्मार्थ कार्य करने की बजाय इसी मद में खर्च कर परिवेश भी ठीक करा लिया जाये और काम की तलाश कर रहे गांव वाले जरूरतमंद बंधुओं की सहायता भी हो जाये।

सो कोरोना फेटीग (मानसिक थकान, ऊब) को मिटाने के लिये कल से यह काम कराया जा रहा है। पत्नीजी को तीन-चार काम करने वालों को नाश्ता देने, पानी-चाय-बिस्कुट का इंतजाम करने और उनपर सवेरे आते ही हाथ साबुन से धोने की गुहार लगाने का आनंद मिलने लगा है। वे उनपर अपनी कोरोना विषयक जानकारी का प्रवचन दे लेती हैं। बिना प्रवचन दिये, उनकी सेहत पर भी बुरा असर पड़ रहा था। 😆

अकेले टीवी के सामने बैठने की बजाय उन लोगों से पर्याप्त सोशल डिस्टेंस बनाते हुये भी काम कराना बेहतर अनुभव है। कल तो सफाई कराते समय एक पांच फुट का सांप भी निकल आया। बहुत डेन्जरस टाइप नहीं लग रहा था पर इधर उधर डोल जरूर रहा था। उसे अवसर दिया गया कि कहीं बाहर चला जाये। जब उसमें बहुत यत्न कर भी सफल नहीं हुये तो उसका वध करने का निर्णय लिया गया। बेचारा!

उसके निपटारे में भी एक घण्टा व्यतीत हुआ।

पांच फुट से ज्यादा लंबा सांप

पता नहीं, गांव-पड़ोस के लोगों को एम्प्लॉय कर यह काम कराना मोदी-जोगी जी की लॉकडाउन अवधारणा का कितना उल्लंघन है। पर अच्छा खूब लग रहा है। टीवी देखने से ज्यादा मन रम रहा है।

सवेरे बगल के गांव का एक दम्पति आता है सब्जी ले कर।

सवेरे बगल के गांव का एक दम्पति आता है सब्जी ले कर। कुछ उनके खेत का उगाया है और कुछ मण्डी से। ज्यादा जरूरत नहीं है सब्जी की। पर उनसे खरीद ली जाती है। उसमें भी विचार यही है कि भले ही सब्जी थोड़ी ज्यादा ही बने, उन लोगों का कुछ फायदा तो हो सके। इस लॉकडाउन के समय में बेचारे बाजार तक तो जा नहीं सकते अपनी सब्जी ले कर!

कोरोना थकान दूर करने के लिये शहराती लोग योगा-शोगा कर, किताब पढ़ या रस्सी टाप कर अपनी फोटो सटा रहे हैं सोशल मीडिया पर। हमारे पास तो यही गतिविधि है। उसी के फोटो ही सही! 😆